Naresh Sagar

hapur

Joined September 2017

Hello! i am naresh sagar. I am an international writer.I am write my poetry in america,china,nepal and india

Books:
Chetna,forward press,saras salil,pushup gandha,kavyanjli,sarita,hasiyo ki aawaz,gitanjl ,kavya mala,sandal sughand,nai subha ki aas,guft gu,rajnigandha,sresth kavya sangam,kavya sala,kalam kar,meri tanhai uski aangdai and many more.

Awards:
dr.ambdker feloship ,ganga jamni ,manaw mitra ,kashiram ,aagman uwa kavi ,sanskar bharti ,best writer award ,sant ganga das and many more.

Copy link to share

दरिंदों के जिस्म जलाने होंगे।

मोमबत्ती या नहीं, दरिंदों के जिस्म जलाने होंगे। हाथ जोड़ने को नहीं, हाथ तोड़ने को उठाने होंगे।। वो जो कानून और ,मानवता को तोड़ रहे... Read more

तब आना तुम मेरे पास प्रिय

दिन . .. रविवार दिनांक..... 1110 2020 विधा .....गीत विषय..... *तब आना तुम मेरे पास प्रिय* ======= जब मन दुनिया से भर जाए गम... Read more

संविधान मांग रही है

🤝 *संविधान मांग रही है*✍🏻 पहले नवरात्रे की भेंट 🤝💃🧞‍♀️🧛‍♀️🏃‍♀️🚴‍♀️🪓 अपनी अस्मत का ,देवी से दान मांग रही है । *न... Read more

ड्रीमगर्ल का जन्मदिन

*ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी जी के लिए समर्पित* #जन्मदिन #मुबारक ======ओ ड्रीमगर्ल ओ स्वीटहार्ट *I love you I love you* तू है मेरा प्... Read more

शहादत

लघु कथा ..... *शहादत* ========== हां! वह बहुत डरपोक था, लड़ाई के नाम से वो अंदर तक कांप ही तो जाता थ... Read more

आओ कोरोना -कोरोना खेलें

*आओ कोरोना -कोरोना खेलें* ============= आओ कोरोना कोरोना खेलें झूठी - लंबी डिंगे पे लें तुम ही बस घर से ना निकलो ताकि हम सब क... Read more

*मेरे पापा मेरे गुरु*

*मेरे पापा मेरे गुरु* ============= कब भूला था मैं तुम्हें .....? और भूल भी कैसे सकता हूं आप ही तो मेरे आसमान थे आप ही तो मेर... Read more

मां का आंचल खींच रहा था

*बिछुड गई थी मां बेटे से* ================ मां का आंचल खींच रहा था शायद भूखा झींक रहा। था मां जागेगी यही सोचकर, कोशिश मे तल... Read more

पूनम का चांद

विषय....पूनम का चांद दिनांक...18/04/2020 ========= नाम सुना था ,देख नहीं पाया। घर से कभी बाहर ही नहीं आया।। बातें भ... Read more

किसान

*विषय*.. ‌किसान *दिनांक*...19/04/2020 ======== रात के सन्नाटे से जो भय मुक्त है दोपहरी में भी जो कर्म बंध है सर्दी का भी चिरता ... Read more

बिखराव

[4/20, 7:20 AM] Dr Naresh Kumar Sagar: ए कोरोना जातें जातें, एक काम ये भी कर जा। मेरे देश के भ्रष्ट नेताओं का, काम तमाम कर जा।। ==... Read more

सरकार से डर लगता है

=== *डर लगता है* ऐसे हालात से डर लगता है। झूंठी बात से डर लगता है।। बात मन की करें जो बस अपनी। ऐसी सरकार से डर लगता है।। बा... Read more

बिखरी यादें

[4/23, 4:33 AM] Dr Naresh Kumar Sagar: उसके चेहरे को पढ़ लिया मैंने। उसको बाहों में भर लिया मैंने।। उसको एतबार आभी शायद कम है। गज... Read more

वो मेरे घर का सोना है

वो मेरे घर का सोना है जिसे मुझे कभी ना खोना है उसकी यादों में जगना है उसकी यादों में सोना है वो मेरे घर का सोना है वो है... Read more

वो मेरे घर का सोना है

वो मेरे घर का सोना है जिसे मुझे कभी ना खोना है उसकी यादों में जगना है उसकी यादों में सोना है वो मेरे घर का सोना है वो है... Read more

बिखरे पन्ने

[4/24, 5:15 PM] Dr Naresh Kumar Sagar: ==रमजान मुबारक हो== घर में ही कर ले इबादत खुदा की मिलकर पढ़ेंगे नमाज अलविदा की सितमगर ये... Read more

बच्चों को बच्चा रहने दो

====गीत==== *बच्चों को बच्चा रहने दो* ********** हिंदू -मुस्लिम में ना बांटो प्यार की शाखाएं न काटो इन दोनों को सं... Read more

टिकने ना देंगे हिंदुस्तान में

===== 🎤✍🏻गीत *टिकने ना देंगे हम हिंदुस्तान में* =========== कोरोना के कह दिया है कान में टिकने ना देंगे हम हिंदुस्तान में ... Read more

लाख डाउन का इश्क

*सुलझाने आ जाओ* तुम तो कहते थे, जान भी दे दूंगा तुझे। जान नहीं ,एक बार मिलने आ जाओ।। डरते नहीं हो दुनिया से यही कहते थे तुम । ... Read more

तेरे साथ जीना चाहता हूं

तेरे साथ मैं बहुत जीना चाहता हूं। हिस्से का ज़हर तेरा पीना चाहता हूं।। मुझे भी खबर नहीं ये अभी तक। तुझे मेरी जां मैं कितना चाहत... Read more

कोरोना और गरीबी

कैसे सेनेटाइज हो कैसे लगाएं मास्क। भूख बराबर खेलती हमसे अपना टास्क। हमसे अपना टास्क , हराये कैसे इसको। सरकारी कानून बताएं कोई मुझ... Read more

आज की मीडिया का सच

=== *मीडिया का सच*=== मीडिया हो गद्दार ,तो बोलो क्या करें ? बिकनें लगे अखबार , तो फिर क्या करें ?? जनता देखे रोज, तमाशा झूंठ क... Read more

घर घर में विभीषण

भाई विभीषण हो गए, भाभी भी शैतान । रिश्तो को अब ना रही, रिश्तो की पहचान ।। रिश्तो की पहचान, नहीं है कोई सनीफी। सबके अंदर घुस गई, ह... Read more

महल

विधा....गीत विषय....महल दिनांक....27/04/2020 *महलों में सब लोग कहां खुश रहते हैं* ============ महलों में माना सब अच्छा अच्छा ... Read more

आज के रिश्ते

[4/27, 11:36 PM] Dr Naresh Kumar Sagar: घर में भाईचारे कहां अब जिंदा है रिश्तों से रिश्ता बडे शर्मिदां है मां बाप को रख दिया है ता... Read more

बिखरी याद

[4/29, 9:59 AM] Dr Naresh Kumar Sagar: बाधाओं का जो मुंह तोड़े, उसका नाम मोदी है । घर में घुस दुश्मन को तोंड़े, उसका नाम मोदी है।... Read more

संविधान पढ़

🎤🎤 *पढ़ लेना संविधान*✍🏻✍🏻 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🎤🎤🎤✍🏻✍🏻✍🏻 लॉकडाउन में पढ़ लेना , बाबा का संविधान। मान तुम्हारा है यहीं ,जिंदा स्वाभिमान ।। वे... Read more

एतवार नहीं होता

हर किसी पै एतवार नहीं होता। प्यार प्यार है व्यापार नहीं होता।। करो ना बदनाम इस मौहबबत को। यार सच्चा कभी गद्दार नहीं होता।। =====... Read more

घर पर रहो सुरक्षित रहो

======एक जनसंदेश आपके समक्ष घर में ही तो रहना है, घर कोई कैदखाना तो नहीं। बेवजह बाहर निकल कर ,यूं ही तो मर जाना नहीं।। चलो इसी बह... Read more

पर्यावरण बचाइए

*आज का …गीत* 🌴🌳🌲🎋 🙏🏻 *आओ पेड़ लगाए भाई*😤🌳🌲🦚🦜🐇🐉🌵🍀☘🌿🌴🌳🌲🎄 आओ पेड़ लगाए भाई जीवन को महकायें भाई कितना दम सा घुटता है थोड़ा सा मुस्... Read more

मजदूर

प्रतियोगिता हेतु विषय... श्रमिक दिवस दिनांक.==01/05/2020 *मजदूर दिवस का कड़वा सच* ,================== आज मजदूर दिवस है …. जैसे... Read more

मोह

विषय ...मोह विद्या.... कविता दिनांक.....02/05/2020 ======== माया मोह में क्या रक्खा है मोह माया किया न कर घर में मां है प्या... Read more

शराब

04/05/2020 *ठेका खुलवाया जाएगा* ==================== *हालात- ए- गरीबी को, इससे भी नापा जाएगा ।* गरीबों की बस्ती में, ठेका खुलव... Read more

पापा

07/05/2020 पापा आप मेरा आसमान थे गर्व थे आप मेरा और स्वाभिमान थे आप तो चले गए छोड़ अकेला हमें बहुत याद आती है ,हर रोज हमें आज... Read more

चित्रकार

06/05/2020 अपनी धुन में रमा हुआ है । चित्र में वो वसा हुआ है । जानें क्या-कया बना रहा है। नई लकीरें खींच रहा है।। लगता है गंभ... Read more

चांद

चांद दिनांक..09/05/2020 विषय... गीत ===== *चांद*==== मेरी बीवी के माथें पर, चमकें चांद- सितारे। कितने प्यारे -प्यारे लगते,सच म... Read more

मुझे बस मां की चिंता है

..............मुक्तक..... ................1........ ना जन्नत की ख्वाहिश है ,तमन्ना ना खजानें की । मुझे कोई शिकला दे, अदा... Read more

ठेका खुलवाया जाएगा

ठेका खुलवाया जाएगा ==================== हालात- ए- गरीबी को, इससे भी नापा जाएगा । गरीबों की बस्ती में, ठेका खुलवाया जाएगा।। ... Read more

=== *मीडिया का सच*===

=== *मीडिया का सच*=== मीडिया हो गद्दार ,तो बोलो क्या करें ? बिकनें लगे अखबार , तो फिर क्या करें ?? जनता देखे रोज, तमाशा झूंठ क... Read more

बाल कविता .....बस पापा घर पर ही रहना

== बस पापा घर में ही रहना *************** कब से बच्चे तरस रहे थे। सपने सारे बिखर रहे थे । पापा के संग कब खेलेंगे ? पापा स... Read more

कोरोना से डरो नहीं

======एक जनसंदेश आपके समक्ष घर में ही तो रहना है, घर कोई कैदखाना तो नहीं। बेवजह बाहर निकल कर ,यूं ही तो मर जाना नहीं।। चलो इसी बह... Read more

..... होली में हुड़दंगा करले

= *होली में हुड़दंगा करले*= ================ होली में हुड़दंगा कर ले, आजा थोड़ा दंगा कर ले । उम्र जवानी की थोड़ी है, प्यार ... Read more

केजरीवाल की जीत

केजरीवाल की जीत ============= =====केजरीवाल जी को जीत की बधाई फेल सभी की हो गई, जितनी खेली चाल। फिर दिल्ली में ठ... Read more

गीत ...हैप्पी वैलेंटाइन डे

हैप्पी...वैलेंटाइन डे ============= प्यार पै भारी फाइन है, देखो वैलेंटाइन है जो भी मांझी संग पकड़ा, डंड... Read more

अब बेटी कहां सुरक्षित हैं

बेटी कहां सुरक्षित है*=🤺✍🏻 ( *जिगर में आग है तो शेयर करो*) ************** शिवानी के हत्यारों को, क्या फांसी दे पाओगे ? या ... Read more

हां मेरा बलात्कार हुआ है

हां मेरा बलात्कार हुआ है (एक सच्ची घटना पर आधारित) =============== हां मेरा बलात्कार हुआ है जी मेरा बलात्कार हुआ है पुरूष नहीं ... Read more

हां मेरा बलात्कार हुआ है

हां मेरा बलात्कार हुआ है (एक सच्ची घटना पर आधारित) =============== हां मेरा बलात्कार हुआ है जी मेरा बलात्कार हुआ है पुरूष नहीं ... Read more

गीत ....भारत मां कितनी प्रगति कर रही है

गीत .......भारत मां कितनी प्रगति कर रही है =========================== प्रगति की और हम कैसे बढ़ रहे हैं नफरतों की खूब सीढ़ियां... Read more

ग़ज़ल .....घर अपना चलाता हूं

घर अपना चलाता हूं =============== किसी के भी पसीने की, सही कीमत चुकाता हूं मैं भी मजदूर हूं यारों, बहाकर ही कमाता हूं ... Read more

डरावना बचपन

कविता ...... डरावना बचपन ================== बाप की गरीबी में मां की बीमारी में हाथों की लकीरों में खो गया बचपन कहीं ....... Read more