Narender

Bhiwani

Joined April 2018

Copy link to share

चाँद से मुलाक़ात

आज अचानक कई दिन बाद.. चाँद से मुलाक़ात हुई.. चाँद थोड़ी फुरसत से था.. थोड़ी गर्मजोशी.. थोड़ा तकल्लुफ.. मेरा हाथ पकड़ा... पकड़ा क्य... Read more

समंदर

लगता है समंदर भी है संघर्षशील.. जीवन की आपाधापी में.. समय नहीं है शायद अपने लिए.. जी रहा है उदासी में.. पथरीली चट्टानों से ब... Read more

दुविधा

कोई मुझे भी अपने घर का.. रास्ता बता दे.. जाना कहाँ है, अनजान हूँ.. कोई तो मंजिल का पता दे.. हर मोड़ पर लगता है.. आ गया मंजि... Read more

ट्रेन का सफ़र

दूर एक मकान.. खेत में मचान.. अनगिनत पेड़.. बिजली की खंबे.. मुँह चलाती गाय.. हवा की सांये सांये.. पतंग उड़ाते बच्चे.. नीं... Read more

अंतर्विरोध

अंतर्विरोध का दौर है, अपने आप से उलझना है.. जीवन की इस पहेली को, अपने अंदाज़ से समझना है.. उड़ने कि तैयारी में.. यूँ ही हाथ ... Read more

उधेड़बुन

अंतरदवंध है क्यों प्रबल.. मरीचिका है क्यों सबल.. खुद ही मैं रथी.. मैं ही आप,क्यों हूँ सारथी.. और उस पर समय की ये गति.. भीड़... Read more

जिंदगी से मुलाक़ात

अभी कल ही.. गली के मोड़ पर.. अचानक मिली जिंदगी.. थोड़ी मुस्कान का आदान प्रदान.. हाय हैल्लो.. पुरानी परिचित सी.. लगी जिंदगी... Read more

मरीचिका

गरम लू की तपिश.. हवा की तरंगों में कुछ. लिख जाती है.. ये लिखावट, कुछ जानी पहचानी लगती है.. कुछ बताना चाहती है.. शायद ये ... Read more

खिड़की

एक दूर अकेले मकान में.. एक खिड़की है सुनसान में.. कई दिनों से खुली नहीं.. धूल जमी है किनारों पर.. कई सदियों से वो धुली नहीं..... Read more

खिड़कियां

कभी कभी लगता है.. एक ख्याल जगता है.. हम सब मग्न है... सीमित हैं.. अपनी अपनी खिड़कियों में.. इन्ही खिड़कियों से ही.. हम चुर... Read more

मांझी अकेला

भवनाओं के उथले सागर में.. भारी सी नाव लिए.. चाहत की टूटी गागर में.. राहतों का ख्याल लिए.. सागरमंथन की लालसा में.. कमजोर पतव... Read more

तलाश

शब्दों के सितार कभी कभी.. अपने आप चल पड़ती हैं उंगलियां.. सुस्ताई सी. अलसाई सी. कोई धुन.. खोल देती है दिल की बंद खिड़किया. जिं... Read more

शाम

अभी अभी शाम ढल गई.. तपिश की ये चादर.. अलसाई सी रात ने ओढ़ ली.. शाम जाते जाते.. थोड़ा अंधेरा भर गई.. शाम का यूँ चुपचाप.. अ... Read more

सफ़र

मंजिल का पता नहीं.. सफ़र कभी रुका नहीं.. रूह को सुकून मिले.. ढूंढे एक ऐसी ठौर.. बेवजह मुस्कान लिए.. बढ़ रहा उस और.. उबड़ खा... Read more

चाँद से मुलाक़ात

दिन भर की गर्मी के बाद.. सुखी धरती पर.. तेज हवाओं के साथ बरसात.. कुछ राहत दे गई.. पर.. बत्ती गुल कर गई.. बाहर बालकोनी में.... Read more

तलाश

रेत का विस्तार.. और उस पर.. अनगिनत उलझी.. रेखाओं का श्रृंगार.. या ये नदी के पदचिन्ह.. जो गुजरी थी अनायास.. इस विस्तार से.... Read more

सूरज से मुलाक़ात

आज कई दिन बाद.. मैंने उगता सूरज देखा.. शायद हर रोज ऐसे ही.. कर्मठ सा, आता होगा.. पर मुझे नहीं पाता होगा.. पर मैं तो होता ह... Read more