musafir vyas

Joined February 2017

Copy link to share

मुक्तक

भोपाल म.प्र. ◆◆ मिटा के हाल दिल का पूछ लिया करते हैं बाह कंधो पे रख के लूट लिया करते हैं कितने जालिम है मुसाफिर ये जमानें वाले ... Read more