Copy link to share

बेटियां

(१) खिलतीं धूप हैं बेटियां, हों सबकी दरकार. बिन बेटी सब सून है, सजा धजा घरबार. सजा धजा घरबार, सदा बेटी से मिलती. महके घर संसार, ... Read more