Ram Krishan Rastogi

New Delhi

Joined March 2018

I am recently retired from State bank of India as Chief Mnager. I am M.A.(economics) M.Com and C.A.I.I.B I belong to Meerut and at present residing in Gurgaon (Haryana) I am writing for the last twenty years, I generally write Gajal, Geet and Hindi poems on day today actvities of the country specially on politics and leaders of various political parties in India in HASHY & Vayang shally. i had been editor of hose mazine of State bank and genraly published “Harish Chandra Patrica” monthly

Books:
Nil

Awards:
हिंदी साहित्य पीडिया द्वारा सम्मानित

Copy link to share

एक हास्य रचना -सलवार दिवस --आर के रस्तोगी

साथियों आज सलवार दिवस है | आज के दिन बाबा रामदेव जी रामलीला मैदान से सलवार पहन कर भागे थे | योग की दुनिया में,उठी जो ललकार कि... Read more

रोम रोम में ओम भर जाये हमारे ---आर के रस्तोगी

रोम रोम में ओम भर जाये हमारे | प्रभु, ऐसी शक्ति हमको दीजिये || छल कपट से कोसो दूर रहे हम प्रभु | बस अपनी भक्ति में लगा लीजिय... Read more

तुम्हारी आँखों में आँसू,चेहरे पर बेबसी थी --आर के रस्तोगी

जब दरवाजा खोला,तुम्हारी आँखों में आँसू चेहरे पर बेबसी थी | पहले क्यों नहीं बताया तुमने,मेरी ऊँगली दरवाजे में फंसी थी || गमले के ... Read more

बाल दिवस --आर के रस्तोगी

बाल दिवस के नाम पर,क्यों गलत इतिहास पढाया जाता है ? आज नेहरु के नाम पर,क्यों अब बाल दिवस मनाया जाता है ? कुछ चाटुकार इतिहासकारों... Read more

चाँदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो --आर के रस्तोगी

पूनम की चाँदनी रात हो,पिया मेरे साथ हो | नजरे जरा झुकी हो,दिल से दिल की बात हो || फूलो के सेज हो,केवल मेरे पिया साथ हो | धीमी ध... Read more

बेटी जब पैदा नहीं होगी,तब बहू कहाँ से लाओगे ?--आर के रस्तोगी

बेटी जब पैदा नहीं होगी,तब बहू कहाँ से लाओगे ? बहु जब घर नहीं आयेगी,तब परिवार कैसे बढाओगे ? आज की बेटी कल बहू बनेगी, सारी सृष्टि ... Read more

दिलवर ! मुरादो की ऐसी हंसी रात होगी ---आर के रस्तोगी

दिलवर ! मुरादो की ऐसी हंसी रात होगी | जब गर्दन झुका लो,तभी मुलाक़ात होगी || मेरा दिल मेरे पास नहीं,तुम्हारे पास ही है | जब चाहो ... Read more

तेरी यादो के दीये हम,हर दिन जलाते रहे ---आर के रस्तोगी

तेरी यादो के दीये हम,हर दिन जलाते रहे | इस तरह दिवाली हम हर दिन मनाते रहे || रूठ न जाओ तुम मेरी किसी बात पर कभी | तुझको इस तरह ... Read more

दिल से जो शब्द निकलते नहीं --आर के रस्तोगी

दिल से जो शब्द निकलते नहीं | वे कलम से कभी लिखते नही || लिख दिया जो कागज पर दिल से | वे कभी किसी रबड़ से मिटते नहीं || करते ... Read more

किस्सा कुर्सी का ---आर के रस्तोगी

जब चुनाव सयुक्त रूप से लड़ा था, फिर सत्ता में सयुक्त क्यों नही रहते हो ? दोनों ही सी एम की कुर्सी के भूखे हो , फिर जनता को क्यों ब... Read more

पराली के धुएँ से ज्यादा,कोई देश भक्त नहो हो सकता --आर के रस्तोगी

पराली के धुएँ से ज्यादा,कोई देश भक्त नहीं हो सकता | दिल्ली को छोड़,वह इस्लामाबाद व लाहौर नहीं जा सकता || क्यों न करे स्वागत,इस पर... Read more

प्रभु,तुम भक्त जनों के संकट हरते ---आर के रस्तोगी

प्रभु तुम भक्त जनों के संकट हरते, पर मै कष्टों के भण्डार में हूँ | प्रभु तुम केवल शुद्ध हवा पानी दे दो , मै मरने के अब कागार पर ह... Read more

कहनी है एक बात मुझे,देश के सभी युवाओं से --आर के रस्तोगी

कहनी है एक बात मुझे,देश के सभी युवाओं से | छीन लो सत्ता की बागडोर,इन भ्रष्ट नेताओ से || काले कारनामे ये करते है,देश का हित नहीं ... Read more

चारो तरफ जहरीली हवा फैली --आर के रस्तोगी

चारो तरफ जहरीली हवा फैली,अब कैसे जिया जाये ? आँख कान अब बंद करो,जिससे ये हवा अंदर न जाये || जल रही है पुराली काफी मात्रा में,हरि... Read more

दिवाली पर एक गरीब की अभिलाषा ---आर के रस्तोगी

बनाकर दीये मिट्टी के,जरा सी आस पाली है | मेरी मेहनत को खरीदो,मेरे घर भी दिवाली है || माना कि,तुमने सैकड़ो दीये घर अपने जलाये | ... Read more

मै भारत का रहने वाला हूँ,भारत की ही बात सुनाता हूँ --आर के रस्तोगी

मै भारत का रहने वाला हूँ,भारत की ही बात तुम्हे सुनाता हूँ | यहाँ बुद्ध राम रहीम नानक महावीर जन्मे,उनके उपदेश सुनाता हूँ || करते थे... Read more

दिवाली व होली में वार्तालाप ---आर के रस्तोगी

होली बोली दिवाली से,त्योहारों में हम ही जलते है | मुझ में लकड़ियाँ,तेरे में मिट्टी के दीपक जलते है || मै पूर्णिमा को, तुम अमाश्या... Read more

शर्त यह तुमको आँखों से पिलाना होगा

मुझे तो आपके पास लौट कर आना होगा | तुम्हारे सिवाय मेरा न कोई ठिकाना होगा || भले ही कुछ कह दो,तुम ऊपरी मन से | प्यार करती हो मुझ... Read more

करवाचौथ पर मेरे पति --आर के रस्तोगी

भला है,बुरा है,मेरा पति मेरा सुहाग मेरा ख़िताब तो है भले ही पन्ने पुराने हो, वो मेरे दिल की किताब तो है क्यों निहारु दूर के चाँद ... Read more

करवाचौथ पर पंजाबी टप्पे ----आर के रस्तोगी

दिन करवांचौथ दा आया है मांग भर ले तू सजनी तेरा साजन सिन्दूर लाया है दिन मेहंदी दा आया है हत्था नू तू रचा सजनी तेरा साजन मेहंद... Read more

चाँद मेरी चाँदनी को निहारता रहा --एक मुक्तक --आर के रस्तोगी

चाँद मेरी चाँदनी को निहारता रहा | मै भी खड़ा खड़ा उसे निहारता रहा || मेरी चाँदनी को कोई नजर न लग जाये | उसको नजर का टीका लगाता रहा ... Read more

मेरे दिल की धडकने,तेरे दिल में ऐसी बजती रहे ---आर के रस्तोगी

मेरे दिल की धडकने,तेरे दिल में ऐसी बजती रहे | जैसे कान्हा की बंसी,राधा के होटो पर बजती रहे || में तुझ को प्यार करू,तुम मुझ को प्... Read more

करवाचौथ की कहानी

बहुत समय पहले की बात है कि एक साहूकार बनिये के सात बेटे तथा एक बेटी थी जिसको सभी भाई व भाभी उसे "करवा" नाम से पुकारते थे | सभी सात... Read more

करवांचौथ पर बीबी की फरमाईशे ---आर के रस्तोगी

रखती हूँ व्रत बस तुम्हारी ही ज्यादा उम्र के लिये | बस करवांचौथ पर इतनी फरमाईश पूरी कर दीजिये || हो गई साड़िया बहुत पुरानी फैशन भी... Read more

विकास का दीपक जलता रहे,मेरे इस देश में ---आर के रस्तोगी

विकास का दीपक जलता रहे,मेरे इस देश में | घर घर दीवाली मने,हर क्षेत्र और हर वेश में || ज्ञान की ज्योति जलते रहे,कोई भी अछूता न रह... Read more

दिल तुम्हारे बिन अब लगता नहीं --आर के रस्तोगी

दिल तुम्हारे बिन अब लगता नहीं | कैसे समझाऊं इसे,समझता नहीं || दिल लगाने का हस्र होता है क्या | ये इतना बुद्धू है कुछ जानता नहीं... Read more

अगर रावण ने विभीषण को भगाया न होता ---आर के रस्तोगी

अगर रावण ने विभीषण को भगाया न होता | तो रावण के कुल का इतना विनाश न होता | अगर लक्ष्मण राम का सदा साथ न देता | सोने की लंका का ... Read more

रावण के मन की पीड़ा ---आर के रस्तोगी

इस बार दशहरे पर रावण राम से बोला | था रामलीला मैदान में तन कर बोला || तुम मुझ पर हर वर्ष बाण चलाते हो | बाण चला कर मुझको जलवाते ... Read more

पहले अपने रावण को मारो,फिर मुझ पर बाण चलाओ ---आर के रस्तोगी

अबकी बार रावण दशहरे पर आया राम पर गरजा और ऐसे चिल्लाया पहले अपने देश को ठीक कर आओ फिर मुझ पर आकर बाण चलाओ कुम्भकर्ण को यूही बद... Read more

मै आशा के दीप जलाना चाहता हूँ ---आर के रस्तोगी

आशा के दीप जलाना चाहता हूँ --- --------------------------------- मै आशा के दीप जलाना चाहता हूँ | निर... Read more

माँ की माता,बाँप की क्षमता ---आर के रस्तोगी

माँ की ममता, बाँप की क्षमता, पुत्र की योग्यता, मित्र की मित्रता, ना आंको तुम कम | इसमें है बहुत दम || गुरु की शिक्षा, शिष्य... Read more

मै रहूँ न रहूँ,मेरा देश रहना चाहिए ---आर के रस्तोगी

मै रहूँ न रहूँ,मेरा देश रहना चाहिए | मै बढ़ूँ न बढूँ मेरा देश बढ़ना चाहिए || आया है जनसँख्या का सैलाब,यह रूकना चाहिए | साधन है सी... Read more

पाक को चेतावनी --आर के रस्तोगी

जितनी है पाक औकात तेरी,उतनी कर अब तू बात | तीन युद्ध हार चुका है,कितनी खायेगा अब तू मात || बना है तू सेना की कठपुतली,तेरे नहीं क... Read more

शब्द शब्द में ब्रहम हो ---आर के रस्तोगी

शब्द शब्द में ब्रह्म हो , शब्द शब्द में हो सार | शब्द सदा ऐसा कहो, जिससे उपजे हो प्यार || शब्दों में जरा मीठापन हो , उसमे कभी... Read more

तुम जलाते रहे,मै जलती रही --आर के रस्तोगी

तुम जलाते रहे,मै जलती रही | बिन आग के ही,मै जलती रही || तुम यकीन देते रहे,मै करती रही | धोखा खाया तो,हाथ मलती रही || वादा मु... Read more

मैया,मोहे दाऊ आज बहुत चिढायो ---आर के रस्तोगी

मैया,मोहे दाऊ आज बहुत चिढायो | मोसो कहत तू मोल को लीन्हो, इसलिए तुझे मोबाइल न दिलायो || ग्वाल-बाल सबके पास है मोबाइल | मोहे तूने... Read more

तेरे दिल को पहले ही निकाल रख रक्खा ----आर क रस्तोगी

ख्याल तुम्हारा हर तरह से रख रक्खा है | दिल भी तुम्हारा सभांल रख रक्खा है || हुआ नहीं मै कभी अलग तुमसे | खुद को भी सभांल रख रक्ख... Read more

खता करके पूछती हो,ऐसा मैंने क्या किया ? आर के रस्तोगी

रात के ख्वाब जो दिन में देखने लगे | उन्ही को दिन में अब तारे दिखने लगे || खता करके पूछती हो,ऐसा मैंने क्या किया ? नयनो से तीर च... Read more

दिल की दवा भी मिल जायेगी ---आर के रस्तोगी

दिल को भी करार तुम्हे आने लगेगा | जब कोई प्यार से तुम्हे बुलाने लगेगा || दिल की दवा भी तुम्हे मिल जायेगी | जब कोई दर्द तुम्हारा... Read more

टेंशन की दवा --आर के रस्तोगी

इसको बोलो हैलो,उसको बोलो तुम हाय | हर टेंशन की दवा है,तुलसी वाली चाय || तुलसी वाली चाय,सब साथ पिया करो | रोग कोई न होगा,लम्बी उम्... Read more

बसे है जो दिन रात जो दिल में मेरे ----आर के रस्तोगी

बसे है दिन रात जो दिल में मेरे | उनका नाम अब बताऊं मै कैसे || जो बिल्कुल बोलते नहीं है | उनसे बात बताऊँ मै कैसे || चुरा ली ... Read more

मेरा देश विश्व गुरु बन जाये ---आर के रस्तोगी

चारो वेदो का ज्ञान सब पाये , मेरा देश विश्व गुरु बन जाये | एक और है मेरी आखरी इच्छा , फिर से सोने की चिड़िया कहलाये || कुछ विद... Read more

खा रहे हो नमक,ऐसे मत दगा दीजिये ---आर के रस्तोगी

खा रहे हो नमक,ऐसे मत दगा दीजिये | मुल्क का फर्ज कुछ तो अदा कीजिये || खाते हो किसी का,गुण गाते किसी का | ऐसे तो इस मुल्क को न दग... Read more

लाल किले की प्राचीर से मोदी जी का सन्देश ---आर के रस्तोगी

लाल किले की प्राचीर से,मोदी जी ने दिया ये सन्देश | एक ध्वज हो,एक कानून हो,सबका समान हो ये देश || मिले सबको समान अधिकार,किसी के स... Read more

स्वतन्त्रता दिवस और राखी का त्यौहार ---आर के रस्तोगी

लाया है स्वतन्त्रता दिवस साथ में,राखी का त्यौहार | जिसने फहराया है देश में आज,भाई बहन का प्यार || आजादी के रंग में रंगे है,सभी भ... Read more

रक्षा बंधन पर्व पर एक खास गजल ----आर के रस्तोगी

रिश्ते है कई दुनिया में,बहन का रिश्ता खास है बाँधती है जो धागा बहन,वह धागा कोई खास है लगाये रखती है बहन टकटकी,रक्षाबंधन के पर्... Read more

मै पन्द्रह अगस्त स्वतन्त्रता दिवस हूँ ---आर के रस्तोगी

मैं पन्द्रह अगस्त स्वतन्त्रता दिवस हूँ दिल्ली के लाल किले से बोल रहा हूँ कहने को मैं स्वतन्त्र हो गया हूँ पर भुखमरी और भ्रष्... Read more

आओ बच्चो तुम्हे बताय,हिस्ट्री इस्लामाबाद की --आर के रस्तोगी

आओ बच्चो तुम्हे बताये,हिस्ट्री इस्लामाबाद की | जिस धरती में पैदा होता,केवल आंतकवाद ही || भुट्टो को भी यहाँ इसने,फाँसी पर लटकाया ... Read more

सहमा सहमा पाक सबको नजर आता है ---आर के रस्तोगी

सहमा सहमा पाक सबको नजर आता है | हमे तो कुछ दाल में,काला नजर आता है || पूछता है कश्मीर से,370 धारा क्यों हटा दी ? लगता है उसको ,... Read more

मेघ बरसे ,मेरा मन तरसे --- आर के रस्तोगी

मेघ बरसे , मेरा मन तरसे , पिया न आये -१ रात अँधेरी , दामिनी दमकती , खूब डराये -2 सखी झुलाये , मन को हरसाये , वे नहीं ... Read more