Ram Krishan Rastogi

New Delhi

Joined March 2018

I am recently retired from State bank of India as Chief Mnager. I am M.A.(economics) M.Com and C.A.I.I.B I belong to Meerut and at present residing in Gurgaon (Haryana) I am writing for the last twenty years, I generally write Gajal, Geet and Hindi poems on day today actvities of the country specially on politics and leaders of various political parties in India in HASHY & Vayang shally. i had been editor of hose mazine of State bank and genraly published “Harish Chandra Patrica” monthly

Books:
Nil

Awards:
हिंदी साहित्य पीडिया द्वारा सम्मानित

Copy link to share

पांच सालो के बाद ,तुम यहाँ नजर आये --आर के रस्तोगी

(अखियों के झरोखे से ,जब देखा तुझे सांवरे | तुम मुझे नजर आये ,बड़ी दूर नजर आये |गीत पर आधारित पैरोडी ) तुम पांच सालो के बाद,| तु... Read more

माला की महिमा पर कुछ कुंडलियाँ ---आर के रस्तोगी

माला में बहुत गुण है, सदा राखिये पास | मंच पर चढ़ने के लिये ये है एक गेट पास || ये है एक गेट पास,तभी तो माला डालोगे | माला डालने... Read more

एक कुर्सी के भूखे हम ---आर के रस्तोगी

( तू प्यार का सागर है,तेरी एक बूँद के प्यासे हम की तर्ज पे एक पैरोडी आज के चुनाव के माहौल में ) एक कुर्सी के भूखे हम | तेर... Read more

बचपन की यादे ---आर के रस्तोगी

मत दिलाओ बचपन की यादे, वह खूब याद आता है | पुरानी बाते याद करके,वह बचपन लौट कर आता है || एक आने में चार जलेबी दो कचोडी में नाश्त... Read more

आज नारी कितनी आजाद है ?---आर के रस्तोगी

आज नारी कितनी आजाद है,यह नारी स्वयं ही बतायेगी | नारी भी समाज का अंग है,यह सत्यता स्वयं ही बतायेगी || मिले है नारी को समान अधिका... Read more

जलियाँ वाला बाग़ बोल रहा हूँ --आर के रस्तोगी

जलियाँ वाला बाग बोल रहा हूँ,जालिम ड़ायर की कहानी सुनाता हूँ | निह्त्थो पर गोली चलवाई जिसने मरने वालो की चीखे सुनाता हूँ || चश्मदी... Read more

चुनाव का महीना,राहुल करे शोर ---आर के रस्तोगी

("सावन का महीना ,पवन करे शोर" गीत पर आधारित पैरोडी ) चुनाव का महीना,राहुल कर रहा शोर | कांग्रेस कह रही देश का चोकीदार चोर || ... Read more

चुनाव का महीना,राहुल करे शोर ---आर के रस्तोगी

("सावन का महीना ,पवन करे शोर" गीत पर आधारित पैरोडी ) चुनाव का महीना,राहुल कर रहा शोर | कांग्रेस कह रही देश का चोकीदार चोर || ... Read more

ऐ ! मेरे प्यारे देश के मतदाता --आर के रस्तोगी

ऐ ! मेरे प्यारे देश के मतदाता | तुम हो भारत के भाग्य विधाता || करना तुम उस व्यक्ति को मतदान | जो कर सके अपने देश का कल्याण || ... Read more

मानव आज कितना सिमट गया है ---आर के रस्तोगी

मानव आज कितना सिमट गया है | केवल वह मोबाइल से चिपट गया है || उसे फुर्सत नहीं है किसी से मिलने की | उसे फुर्सत नहीं है किसी को सुन... Read more

मतदान व मतदाता पर दोहे --आर के रस्तोगी

मत का दान जो करे,वह मतदाता कहलाय | मत का दान जो ले,वह सीधा नेता बन जाय || मन भेद न कीजिये,भले ही मत भेद हो जाय | सही सच्चा र... Read more

प्रकृति क्यों बदला लेती है ?---आर के रस्तोगी

घनघोर घटायें घिर रही,घन भी घडघडाहट कर रहे | दामिनी दम दम दमक रही,ये दिन को रात कर रहे || ओलावृष्टि भी हो रही,धरती भी सफेद चादर ओ... Read more

करते है माँ ! तेरा नवरात्रों में अभिनन्दन --आर के रस्तोगी

करते है माँ ! तेरा नवरात्रों में अभिनन्दन | लगाते है तेरे मस्तक पर रोली व चन्दन || हिमालय है पिता तुम्हारे,शैलपुत्रि कहलाती | ... Read more

आया आज बैशाखी का त्यौहार --आर के रस्तोगी

आया आज बैशाखी का त्यौहार | जिसमे होती है अन्न की बौछार || इन दिनों खेतो में अन्न पक जाता | पक कर अन्न घरो पर है आ जाता || फिर ... Read more

अम्बे माँ ! कैसे उतारू तेरी आरती ?--आर के रस्तोगी

माँ ! अम्बे कैसे उतारू तेरी आरती ? जब संकट में पड़ी है मेरी माँ भारती || चारो तरफ जब चुनाव माहौल बना हुआ है | उजाले में भी चारो... Read more

चुनाव में नेताओ के हालात --आर के रस्तोगी

( ऐ मालिक तेरे बन्दे हम गीत पर आधारित पैरोडी ) ऐ ! मालिक तेरे बन्दे हम |, ये नेता जो बहरुपिये बने || आज के चुनावो में जो खड़े | ... Read more

चुनाव का बाजार लगा हुआ है --आर के रस्तोगी

चुनाव का बाजार लगा हुआ है | देखो ! ये कितना सजा हुआ है || चारो तरफ पोस्टर लगे हुये है | बैनर और झंडे भी लगे हुये है || कोई नही... Read more

भले ही तुम दूर हो,हमे याद आते रहेगे --आर के रस्तोगी

भले ही तुम दूर हो, हमे याद आते रहेगे | व्हाट्सएप्प के जरिये तुम्हे रिझाते रहेगे || गमो से गुजरना मेरी आदत बन गयी है | भले ही त... Read more

तेरे इश्क में हुआ हूँ मै, इस कदर पागल --आर के रस्तोगी

तेरे इश्क में हुआ हूँ मै, इस कदर पागल | जैसे कोई भटक रहा हो आसमां में बादल || इश्क ऐसी चीज है,जो छिपाये नहीं छिपता | छिपा लो आँ... Read more

बहात्तर हजार रुपए --आर के रस्तोगी

बहात्तर हजार रुपए क्या,बहात्तर पैसे नहीं दे पायेगा | अपने फैलाये मकड जाल में,वह स्वयं ही फस जायेगा || बहात्तर साल होने को आजादी... Read more

करता है क्यों घमंड माया पर --आर के रस्तोगी

करता है क्यों तू घमंड माया पर,ये तो आनी जानी है | कर ले कुछ नेक काम,फिर न मिलगी जिन्दगानी है || समझता था जिन्हें अपना वे तुझे फ... Read more

हर हर मोदी घर घर मोदी,मच रहा चारो तरफ शोर---आर के रस्तोगी

हर हर मोदी घर घर मोदी,मच रहा चारो तरफ शोर | राहुल भैया शोर मचा रहे ,देश का चोकीदार है चोर || कौन है चोर कौन है चोकीदार,ये तो सम... Read more

गंगा जैसी पवित्र हो तुम ---आर के रस्तोगी

गंगा जैसी पवित्र हो तुम,मै ठहरा खारा सागर | प्रेम रस मुझे पिला दो,भर दो तुम मेरी गागार || कृष्ण की तुम राधा हो,राम की तुम ही सीत... Read more

एक चुनाव देश में क्या आ गया --आर के रस्तोगी

एक चुनाव देश में क्या आ गया | शहरों में एक तूफ़ान सा आ गया || कोंई बैनर लेकर चलता | कोंई झंडे लेकर चलता || कोई लाउडस्पीकर से शोर ... Read more

मात-पिता की सेवा करना --आर के रस्तोगी

मात-पिता की सेवा करना,उनको कभी कष्ट देना नहीं | जैसा बोओगे वैसा काटोगे,उनको कभी रुष्ट करना नहीं || तुमने हमारा क्या किया है,ये त... Read more

दुश्मन को कभी मित्र न मानो (एक बाल कविता)--आर के रस्तोगी

मिली कही तुलसी की माला | लेकर उसे गले में डाला || तन पर अपने राख लगाई | बैरागी सा रूप बनाया || बिल्ली चली प्रयाग नहाने | चूहों ... Read more

होली में क्या क्या होना चाहिए --आर के रस्तोगी

होली में जब तक हलवाई ना हो | देशी घी की मिठाई बनाई ना हो || गर्म गर्म भांग के पकोड़े ना हो | उन पर चटनी की लाग लगाई ना हो || तब ... Read more

चली चली रे मोदी की हवा चली रे --आर के रस्तोगी

( चली चली रे पतंग मेरी चली रे गीत पर आधारित एक पैरोडी ) चली चली रे मोदी की हवा चली रे | ले के लक्ष्य तीन सौ के पार || हो के विक... Read more

अब याद आते है,पुराने दिन होली के --आर के रस्तोगी

अब तो याद आते है,पुराने दिन होली के | जब गाते थे सब मिलकर गीत होली के || इकठ्ठी करते थे लकड़ी दो महीने पहले होली के | बनाते थे... Read more

अब तो पुराने दिन याद कर लेते है ---आरके रस्तोगी

अब तो पुराने दिन याद कर लेते है | अपनी ख्वासियो के चराग बुझा देते है || कभी सोलह आने स्वपन सच होते थे अब तो एक आने भी सच नहो... Read more

बीस नेता लगे हुए है मोदी को हराने में ----आर के रस्तोगी

बीस नेता लगे हुए है,मोदी को अब हराने में | मोदी भी लगा हुआ है,उनको धूल चटाने में || रस्सा कसी हो रही है,सत्ता को हथियाने में ... Read more

बुढ़ापा --आर के रस्तोगी

आ गया है बुढ़ापा,शरीर अब चलता नहीं | चेहरा जो गुलाब था,वह अब खिलता नहीं || हो गयी आँखे कमजोर,अब दिखता नहीं | काँपने लगे है हा... Read more

चुनाव सात चरणों में ---आर के रस्तोगी

मेरे पास तो दो चरण,सात चरण कैसे होय | सब डालेगे जब वोट,तब सात चरण होय || पूछ रहे है सब किसकी बनेगी सरकार | भैया मेरे घर में... Read more

चाँद जब चमकता है,प्रियतम की याद दिलाता है ---आर के रस्तोगी

चाँद जब चमकता है,प्रियतम की याद दिलाता है | याद दिलाकर कभी कभी बादलो में छिप जाता है || विरहणी को ये तड़फाये,पास किसी के... Read more

उठो जवानो ! भारत को अब आंतकवाद से मुक्त करना होगा --आर के रस्तोगी

उठो जवानो ! भारत को आंतकवाद से मुक्त करना होगा | होगा जो राष्ट हित में उसको तुम सबको अब करना होगा || आस्तीन के साँपों को अब उन... Read more

नारी तू है एक,पर तेरे नाम है अनेक --आर के रस्तोगी

(कृपया बताये इस कविता में मैंने कितनी नारियोके नाम लिखे है ) नारी तू है एक,पर तेरे नाम है अनेक तू विद्या की दायनी सरस्वती क... Read more

कश्मीर समस्या का समाधान

370 धारा क्या मिली कश्मीर को हिंदुस्तान से वह अपने आप को अलग समझने लगा हिंदुस्तान से कश्मीर पर ज्यादा खर्च करना अब मुनासिब नह... Read more

रस्तोगी की कुण्डलिया --आर के रस्तोगी

Reply with quoteModify messageRemove message धर्म बदला जाति बदली,बदल लिया है गोत्र दादा को दफनाया है,पंडित बन गया है पौत्र पंडित... Read more

देवो के है वे महादेव --आर के रस्तोगी

Reply with quoteModify messageRemove message देवो के है वे महादेव,नमन इनको सब देव करते | खाली हाथ कोई नहीं जाता झोली सबकी भरते ||... Read more

देवो के वे है महादेव --आर के रस्तोगी

Reply with quoteModify messageRemove message देवो के है वे महादेव,नमन इनको सब देव करते | खाली हाथ कोई नहीं जाता झोली सबकी भरते ||... Read more

पाक को ललकार -- आर के रस्तोगी

पाक तूने औकात दिखादी, हमारे शेर को वापिस करने में | वही शेर फिर वार करेगा,देखेगे कितना दम है तेरे घुटने में || आंतकवादी चूहे ते... Read more

जय अभिनन्दन,जय अभिनन्दन --आर के रस्तोगी

जय अभिनन्दन,जय अभिनन्दन करते है सब तुम्हारा अभिनन्दन शोर्य साहस जो तुमने दिखाया उससे पाकिस्तान भी थर्राया अकेले तुम थे भारत क... Read more

मोदी के मन की बात,चार लाईनों के साथ --आर के रस्तोगी

मोदी जी जो कहते है | वे हमेशा करते भी है || अब तो साबित हो गया | वे 56 इंच का सीना रखते है || वैसे तो पहले भारत छेड़ता नहीं | ... Read more

शहीदों के सम्मान पर भी सियासत --आर के रस्तोगी

करने लगे है सियासत,अब तो शहीदों के सम्मान पर देश के नेता क्यों चुप है ,शहीदों के इस अपमान पर सेकते है राजनैतिक रोटिया, केवल सत... Read more

कश्मीर समस्या के समाधान --आर के रस्तोगी

("कहनी है एक बात मुझे देश के पहरेदारो से" की तर्ज पर) कहनी है एक बात मुझे,इस देश के वफादारो को | पहले तो गोली मारो,देश में बसे ... Read more

तुम दिल जलाते रहे,मै दीये को जलाती रही --आर के रस्तोगी

तुम दिल जलाते रहे,मै दीये को जलाती रही | इस तरह तेरे इंतजार में,पूरी रात बिताती रही || निभाया क्यों नहीं, तुमने वादा,मै सोचती रह... Read more

बचपन की याद बहुत आती है --आर के रस्तोगी

बचपन की याद बहुत आती है मुझे तुम्हारी बहुत याद आती है जब हम आँख-मिचोनी खेलते थे तुम आँखे बंद कर लेती थी हम सब कही छिप जाते थ... Read more

एक शहीद की पत्नि की अभिव्यक्ति --आर के रस्तोगी

आई लव यू,जानू आई सैलूट यू,जानू[ तुम पर सबको नाज हो तुम्ही तो मेरे सर के ताज हो फिर मिलेगे,चाँद तारो के पार ये दुनिया तो मे... Read more

बात-चीत से कुछ नहीं होगा,अब तो सीधा वार करो --आर के रस्तोगी

बात-चीत से कुछ नहीं होगा,अब तो सीधा वार करो | बात-चीत का समय खत्म है,अब तो करारी चोट करो || लातो के भूत बातो से न माने,अब तुम क... Read more

शहीद की पत्नि की मन की पीड़ा --आर के रस्तोगी

मै करती हूँ नमन, मेरे भीगे है नयन, तुम कहाँ खो गये ? मुझ को रुलाकर, देश को जगा कर, तुम कहाँ सो गये ? देश पर हो के कुर्बान,... Read more