बी॰ ए। प्रथम वर्ष
इतिहास (ऑनर्स)
दिल्ली विश्वविध्यालय

Copy link to share

दामिनी

चीख थी वो उसकी, पर किसी ने ना सुनी, जिसने सुनी ,उसने कर दी अनसुनी. जिसकी थी जीने की तमन्ना, वही हम सबको छोड चली क्यों एक लडकी फिर... Read more