अभिनव मिश्रा

शाहजहांपुर,(उत्तर प्रदेश)

Joined August 2020

मैं शाहजहांपुर, (उत्तर प्रदेश) से हूँ। वर्तमान में नोयडा के एक प्राइवेट सेक्टर, में कार्यरत हूँ। लेखन करना एवं सीखना मेरा जुनून है। अपने इर्द गिर्द देख कर भाव प्रगट करता हूँ ।

पुरुस्कार:- हिंदी दिवस प्रतियोगिता पर “पाञ्चजन्य काव्य प्रसून” मंच
द्वारा सम्मानित ।

Copy link to share

विजात छन्द

विजात छन्द, प्रथम प्रयास 1222 1222 (◕ᴗ◕✿)(◕ᴗ◕✿)(◕ᴗ◕✿)(◕ᴗ◕✿) मुक्तक:- किसी को द्वार प्यारा है। किसी को यार प्यार है। ... Read more

मधुमालती छन्द

मधुमालती छन्द, प्रथम प्रयासः 2212 2212 (◕ᴗ◕✿)(◕ᴗ◕✿)(◕ᴗ◕✿)(◕ᴗ◕✿) है बात कुछ यूँ रात की। उस ने नहीं जब बात की। मैं जोर से ब... Read more

कीर्ति छन्द

कीर्ति छन्द, प्रथम प्रयास 112 112 1122 प्रभु कष्ट हरो सब मेरा। मुझको दुःख ने अब घेरा। मझधार फसी जब नैया। तुम हो प्रभु नाव खिव... Read more

मोदक छन्द

[ 18/09/2020] मोदक,छन्द प्रथम प्रयास मापनी-211 211 211 211 ◆●◆●◆●◆●◆●◆●◆◆● नाम सदा शुभ राम जपे सब। पाप कटे तम दूर भगे तब। कर्... Read more

जयकारी छन्द

[ 17/09/2020] जयकारी,छन्द प्रथम प्रयास 15,मात्राओं का छन्द पदांत गुर लघु से ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ स्वर्णिम सी लायी है भोर । चिड़िया चहकी ... Read more

शान मान और अभिमान हैं पापा

[ 28/08/2020] *छन्द मुक्त, कविता* ~•~•~•~•~•~•~•~•~•~•~•~•~• शान मान और अभिमान हैं पापा । मेरे जीवन की पहचान हैं पापा । पापा ह... Read more

हँसगति छन्द

[16/09/2020] हंसगति, छन्द प्रथम प्रयास 11,9 की यति रखकर यति से पहले गुरु लघु औऱ यति के बाद में त्रिकल जरूरी एवं पदांत समकल से होता... Read more

अभी राह कोई नहीं जानता हूँ ।

गजल- अभी राह कोई नहीं जानता हूँ । ◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆ अभी राह कोई नहीं जानता, हूँ । बढ़ना मैं' आगे अभी चाहता, हूँ। दिया साथ मेरा किस... Read more

मन मोहन छन्द

[15/09/2020 ] मन मोहन छन्द, प्रथम प्रयास अंत- नगण से 8,6=14 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 कोरोना का, करो हरण । जीवन का प्रभु, करो भरण । रोग मुक्त ... Read more

हिंदुस्तान के युवा हिंदी अब कहते भी शर्माते है

🔻🔻🔻🔻🔻🔻🔻🔻🔻🔻🔻🔻 हिंदी दिवस पर विशेष___ *प्रतियोगिता हेतु* *मातृभाषा,हिन्दी* *हास्य,कविता* 🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦 देश हमा... Read more

उसे हाल दिल का बताया नही है

गजल- उसे हाल दिल का बताया नही है *************************** उसे हाल दिल का बताया नहीं है। कभी दाग दिल का दिखाया नही है। वही द... Read more

अनुभवी दोहा

*अभिनव, के अनुभवी बोल___* [12/09/2020 ] *दोहा-छन्द* ******कर्मसुधार****** प्रातः वन्दन को करो, जपो ... Read more

भुजंगप्रयात, छन्द

[ 13/09/2020] भुजंगप्रयात, छन्द, प्रथम प्रयास, अंकावली-122 122 122 122 कभी क्रोध में तो कभी शान्त हूँ मैं । कभी है खुशी तो कभी... Read more

राधिका छन्द

[ 12/09/2020] राधिका छन्द, 13,9 =22 प्रथम प्रयास, यति से पहले त्रिकल ओर बाद में त्रिकल ********************************* कुछ अ... Read more

नौकरी का भूत

[12/09/2020 ] *नौकरी का भूत* (व्यंग्य-कविता) पढ़ लिख के मैं बड़ा हुआ जब, ये मन में मैने ठाना । जिन सब का था कर्ज पिता पर, ... Read more

मुक्तक

मुक्तक चिलचिलाती धूप में भी मांगते है भीख वो । जीवन यापन के लिए आज हुए मजबूर वो । जिंदगी की जंग को लड़ते रहते वो सदा, आंख से आं... Read more

साधना छंद

मापनी मुक्त छंद 22 मात्राएं 16,6 पर यति साधना छंद *साधना छन्द* 🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺 करे नेह दुनिया अपनी अब, माया से । रहे सदा गुमान त... Read more

कुछ करो

मुक्तक पसीने की स्याही से, लिखूं इतिहास दुनियां में । करुँ मेहनत कठिन ऐसी, बनूं कुछ खास दुनियां में । हमारी कामयावी को, सभी देखे ... Read more

वसन्ततिलका छन्द

[ 10/09/2020] वसन्ततिलका छन्द, प्रथम प्रयास 221 211 121 121 22 श्रीराम जी खुश प्रजाजन आपकी है । देखे नहीं दुखित आदत रामकी है । ... Read more

मेरी प्यारी माँ

[ 09/09/2020] छन्द मुक्त, कविता विषय -मेरी प्यारी माँ ****************** माँ तूने मुझको जन्म दिया, और पैरों पे खड़ा किया । हजा... Read more

भाव पूर्ण

अमीर सोचता बनूँ, बना गरीब में वही । गुनाह जो किया मिला, सिला नसीब में वही ।। कृपा करो प्रभू जरा, बना मुझे अमीर दो । कि सत्य की दि... Read more

वीर रस

भारत मां के सीने पे, घाव नहीं करने देंगे । गद्दारो को सीमा में, कदम नही रखने देंगे । तेरी इन करतूतों से, देश नही मिटने वाला । करो... Read more

मन मनोरम छन्द

[09/09/2020 ] मन मनोरम छन्द, प्रथम प्रयास, मापनी-2122 2122, 2122 2122 लोभ आज दुनियां में सभी क्यों, लोभ करते जा रहे हैं। देखता ... Read more

पञ्चचामर छन्द

[07/09/2020] पञ्चचामर छंद, प्रथम प्रयास 121 212 12, 121 212 12 नहीं कही करार है, मिले नही बहार है । सदैव खोजते रहे, न सावनी फ़ु... Read more

सरस्वती वंदना

🙏सरस्वती वंदना🙏 मां भारती ! सुरवंदिता ! विद्या विनय ! सुरताल दो ! मां ज्ञानदा ! सौदामिनी ! दो ज्... Read more

स्त्री अभिलाषा

[08/09/2020 ] लावणी छंद, (16,14 यति अंत 1 2 3 गुरु से) प्रथम प्रयास, चाह नहीं बेरहम व्यक्ति, अनपढ़ संग थोपी जाऊं । चाह नही... Read more

वाचिक प्रमाणिका छंद

प्रमाणिका छंद मापनी- 12 12 12 12 न हास है न नीर है । न क्षीण है न वीर है ।। सुमार्ग से हटे नही । कुमार्ग पे डटे नही ।। *** दृ... Read more

मत्तगयंद सवैया छंद

[ 04/09/2020] मत्तगयंद सवैया छंद प्रथम प्रयास, 211 211 211 211, 211 211 211 22 ब्याह करे वर खोजत सुंदर । होय सुता अपनी मन भ... Read more

विधाता छंद

विधाता छंद, प्रथम प्रयासः मापनी- 1222 1222, 1222 1222 मरीजों सा हुआ है अब, हमारा हाल कुछ ऐसा । सुने हर बात दिल की जो, हमारा यार... Read more

बिहारी छंद

[02/09/2020 ] बिहारी छंद 221 122 112, 21 122 *जो रीत चली आप उसे, दूर भगाओ ।* *क्यों मार रहे आज सुता, आप बताओ ।।* *ब... Read more

बिहारी छंद

[02/09/2020] बिहारी छंद, प्रथम प्रयास मापनी- 221 122 112, 21 122 यूँ द्वार खड़ा आज सखा, नाम सुदामा । है आस नई और फटे, तनु पर जाम... Read more

कुकुभ छंद उदाहरण

कुकुभ छंद के आओ मिलकर लिखें पटल पर कुकुभ छंद दो गुरु वाला । सोलह चौदह पर यति करके लिख दें अपनी मधुशाला ।। *** बड़ा मनोहर छन्द ... Read more

कुकुभ छंद

[01/09/2020] कुकुभ छंद, (16-14) प्रथम प्रयास, पदांत- 22 राम नाम रटते -रटते हम, अपने सभी पाप धोले । कल क्या ह... Read more

तोटक छंद

[01/09/2020] तोटक छंद, प्रथम प्रयास, सलगा सलगा सलगा सलगा *** बिखरे जब ते मन के सपने । पथ में कुछ यूं बिछड़े अपने ।। अब जांउ कहा ... Read more