k.r.meena karan

Joined January 2017

Copy link to share

मेरे देश की बेटियों

मेरे देश की बेटियों तुम नाजुक हो ऐसा बचपन से सुनती आई हो! संध्या-पूर्व घर आने की जुल्मों को सहते आने की ऊँचे बोल नहीं करने की... Read more