Wasiph Ansary

Joined September 2017

Copy link to share

जब कभी हम उनसे हाले दिल सुनाने निकले। उनके होंठों पे सदा वक्त न होने के बहाने निकले।।

जब कभी हम उनसे, हाले दिल सुनाने निकले। उनके होंठों पे सदा, वक्त न होने के बहाने निकले।। ... Read more

ज़िन्दगी यून्ही गुज़ार ली हमने।

तेरे वादों पे वार ली हमने। ज़िन्दगी यून्ही गुज़ार ली हमने।। अब तबस्सुम कहाँ से आएगी? ज़ख्म सीने उतार ली हमने।... Read more

पहले नैन मिलाके नैन -चार उसने किया। रात की नींद गई बेक़रार उसने किया।।

पहले नैन मिलाके नैन-चार उसने किया।। रात की नींद गई बेक़रार उसने किया।। दिल न तोड़ेगे कभी यक़ीन तो मानो मेरी। ऐसी जूठी कसमें,व... Read more

अब नफ़रत की धुंध छँटने लगी। जिन्दगी तुझमें फिर सिमटने लगी।।

अब नफ़रत की धुंध छँटने लगी। जिन्दगी तुझमें फिर सिमटने लगी।। चूड़ियों की अजीब ख्वाईश है। शाम होते ही ये खनकने लगी।। आ भी जाओ ... Read more

आप आये हमें एक निधि मिल गई।

स्वागतम स्वागतम स्वागतम स्वागतम। स्वागतम स्वागतम स्वागतम स्वागतम।। आप आये हमें एक निधि मिल गई। आसमाँ से ज़मीं तक कली खिल गई।।... Read more

बिन बात की बातों-बातों में बातों से रुलाये जाते हैं।

बिन बात की बातों-बातों में बातों से रुलाये जाते हैं । दीपक तो यहां जलते ही नहीं बस दिल को जलाये जाते हैं।। ये अब्र कहां तक फैली है... Read more