I am freelancer Lyricist,Story,Screenplay & Dialogue Writer.I can work from my home and if required can comedown to working placernfor short periods…I can Write in Hindi & Bhojpuri.Having 30 years experience in this field.rn

Copy link to share

घनाक्षरी

दो घनाक्षरी भींगें बदन तरुणी तरणी चढ़ ताल में , केश को झटक रही चाँद छिप जात है । रात का तिमिर भी निराश होय सिर धुने , पूर्णिमा ... Read more

अजीब सा कमाल है

गीतिका आधार छंद …. वाचिक चामर आपका कमाल भी अजीब सा कमाल है । आपका जवाब भी सवाल ही सवाल है । हो रहा कहाँ कहीं दिखा नहीं यहाँ... Read more

हद होती है

आखिर कब तक सहेगा कोई , सहने की भी हद होती है . ज़ुल्म करे वो , सहन करें हम , दबने की भी हद होती है . प्रेम की भाषा जो ना समझे , उसस... Read more

नारी और धरती

नारी - धरा की कहानी अजीब है . सब कुछ सहना ही उसका नसीब है . नारी के गर्भ से ही ज़िन्दगी जनमती है . धरती के गर्भ से ही ज़िन्दगी पल... Read more

ये कैसा शरारा है.

दरिया में ही ख़ाक हुए, ये कैसा शरारा है. साहिल पे ही डूब गए, ये कैसा किनारा है. यहाँ छांव जलाती है,मुस्कान रुलाती है. रातों में खु... Read more

मेघा

घिर - घिर आये मेघा चमके , बदरी में बिजुरी . चंचल पवन उड़ाये रही - रही , गॊरी की चुनरी . मेघा आये - दरस दिखाये , बिन बरसे चल जाये . ... Read more

कल्पना

ऐ कवि-शायर! कहाँ तुम छिप कर बैठे हो. ज़रा बाहर निकल कर देख तेरी कल्पना है क्या. कहाँ निर्भीक वह यौवन, जिसे तुम शोख कहते हो. कहाँ ... Read more

नई नवेली नारि

नई नवेली नारि अकेले पावस में ससुराल बसे. बारिश की बूंदे उसको- सौतन के ही मानिंद डसे. मेघा के ही साथ रात में, सेज पे दो नयना बरसे. ... Read more

अगर पूर्वजों के उतारे न होते .

अगर रंग - बिरंगे ये नारे न होते. तो फिर हम भी इतने बेचारे न होते . बस बातों के मरहम से भर जाते शायद . अगर ज़ख्म दिल के करारे न हो... Read more

आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे

दौरे गम में भी सबको हंसाते रहे . आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे . किसमें हिम्मत जो हमपे सितम ढा सके . वो तो अपने ही थे जो सताते र... Read more

थमते कदम आ जाइये

चाँद नभ में आ गया, अब आप भी आ जाइये. सज गई तारों की महफ़िल, आप भी सज जाइये. नींद सहलाती है सबको, पर मुझे छूती नहीं. जानें आँखें पथ... Read more

गुरुवर तुम्हें नमन है

जिसने बताया हमको , लिखना हमारा नाम . जिसने सिखाया हमको , कविता ,ग़ज़ल -कलाम . समझाया जिसने हमको , दीने -धरम ,ईमान . जिसने कहा कि... Read more

वह राम है - रहमान है

हम उसे कुछ भी कहें, वह राम है- रहमान है . कह लो तो सावन भी है, कह लो तो रमज़ान है . इन घरों को देखकर, बस्ती नहीं समझें जनाब. जो य... Read more

पुलिस आ रही है

यूं तो छमिया रोज़ ही हाट से सब्जी बेचकर दिन ढले ही घर आती थी, पर आज तनिक देर हो गयी थी. वह थोड़ी देर के लिए अपनी मौसी से मिलने चली गय... Read more

प्रेम - दोहावली

उमर थकाये क्या भला, मन जो रहे जवान. बूढ़ी गंडक में उठे , यौवन का तूफ़ान . मन का मेल ही मेल है, तन की दूजी बात. जहाँ प्रीत की लौ जले... Read more

आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे

दौरे गम में भी सबको हंसाते रहे . आँखें नम थी मगर मुस्कुराते रहे . किसमें हिम्मत जो हमपे सितम ढा सके . वो तो अपने ही थे जो सताते र... Read more

नयना ! बिन कहे सब कह जाता .

नयना ! बिन कहे सब कह जाता . ठेस लगे तो छलक पड़े ,और खुश हो तो मुसकाता . नयना ! बिन कहे सब कह जाता . कितनी हसीं है दुनिया सारी , क... Read more

जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से .

यूँ ना खेला करो दिल के ज़ज्बात से . जिंदगी थक गयी ऐसे हालात से . रोज़ मिलते रहे सिर्फ मिलते रहे . अब तो जी भर गया इस मुलाक़ात से .... Read more

दोहे

पढ़कर के अखबार अब , पुरखे भी हैरान . बढ़िया है बानर रहे , बने न हम इंसान . हत्या लूट खसोट की , ना कीजै अब बात . अब टॉपर के खेल मे... Read more

मिशन इज ओवर

अनायास विकास एक दिन अपने गाँव लौट आया. अपने सामने अपने बेटे को देखकर भानु प्रताप चौधरी के मुँह से हठात निकल गया -"अचानक ..... कोई खा... Read more

मिलन का प्रथम प्रहर

चारुलता सी पुष्प सुसज्जित, चंद्रमुखी तन ज्योत्स्ना. खंजन- दृग औ मृग- चंचलता, मानों कवि की कल्पना. उन्नत भाल -चाल गजगामिनी, विधि की... Read more