Manu Vashistha

Joined November 2018

Copy link to share

यक्ष प्रश्न

✍️ कब आओगे? हमेशा की तरह इंतजार करती निगाहें और मां का यक्ष प्रश्न कब आ रहे हो ........ मेरा भी हमेशा की तरह एक ही जवाब,दि... Read more

मन के मंजीरे

मन के मंजीरे प्रौढ़ावस्था_ संघर्ष / सामंजस्य नई और पुरानी पीढ़ी में वैचारिक मतभेद हमेशा से चला आ रहा है। नई बात नहीं है, लेकिन जित... Read more

बहुत खास हो तुम!

✍️बहुत खास हो तुम! हां! बहुत खास हो तुम, दिल के बहुत पास हो तुम! सूरज की पहली किरण, भोर की नई उजास हो तुम! नैराश्य भरी जि... Read more

ओस की बूंदें और बेटियां

✍️कविता ओस की बूंदें और बेटियां, एक तरह से एक जैसी होती हैं। जरा सी धूप, दुख से ही मुरझा जाती हैं। लेकिन दे जाती हैं जीवन, बाग... Read more

कब आओगे

✍️ कब आओगे? हमेशा की तरह इंतजार करती निगाहें और मां का यक्ष प्रश्न कब आ रहे हो ........ मेरा भी हमेशा की तरह एक ही जवाब,दि... Read more

महिला दिवस पर, शुभकामनाएं

✍️ प्रकृति के हर रूप में नारी ही तो है। नारी में नव सृजन, अंकुरण की, धारण करने की अद्भुत क्षमता है। महिला दिवस पर शुभकामनाएं। प्रक... Read more

यादें

✍️कविता गर्म चाय में उठती भाप, गुड़,अदरक, लौंग की महक, खयाल मात्र से, एक नशा सा छा जाता, तुम्हारे रूई से मुलायम, सफेद बादल ... Read more

ओ मां ! तुम धुरी हो घर की !

#ओ #मां, तुम #धुरी हो #घर की! मुझे आज भी याद है चोट लगने पर मां का हलके से फूंक मारना और कहना, बस अभी ठीक हो जाएगा। सच में वैसा मरह... Read more

वो रचियता, तुम ही तो हो, मां !

✍️ मेरे आगमन की सूचना को, प्रथम जिसने बतलाया, मेरी हरकतों को, अहसास कर जिसने बतलाया, वो तुम ही तो हो मां, हां मां तुम ही तो हो!... Read more