मनोज शर्मा

दिल्ली

Joined February 2017

हिन्दी लेखक एवम् कवि
असिस्टैंट प्रोफेसर गैस्ट
अदिति महाविद्यालय
दिल्ली विश्वविद्यालय
एम ए हिन्दी उर्दू
किरोडीमल कालेज दिल्ली
UGC NET

Copy link to share

बेवक्त

पहले दिन भर और फिर देर रात तक इंतज़ार रहता है कि व्यस्तता टूटे पर व्यस्तता का अंत नहीं होता।सारे काम समय पर होते हैं खाना सोना ऊठना ... Read more

बूंद

बालकाॅनी की परिधि में बादल घिरे हैं पर आसमां में अभी भी सफेदी है जाने कब बरस जाए? दूर कहीं बहता समीर पेड़ों की हरी परत को और गहरा क... Read more

प्रकृति

प्रकृति का क्रोध शांत कछारों को झकझोर देता है एक तेज आंधी!आवेग!या कहर जिससे फिर कोई अछूता नहीं रह पाता।गौधुली में वो शांत थी पर जान... Read more

पिता

वो चुप सा आज खामोश क्यों है शांत चित बेजान सा क्यों है दूर क्षितिज को ताकती पथराई बंद आंखे गुमसुम धरा स्याह सन्नाटा चारो त... Read more

चेहरे

एक ही शख्स जीवन में कई चेहरे लिए जीता है पर हर चेहरे से दूसरों को लालायित करने की कोशिश में वो स्वयं को मिटा देता है।वास्तव में चेहर... Read more

रेत

सूखे रेत पर एक मर्तवा भी बारिश की बूंदे पड़ जाए तो बूंदों के निशां तब तक रहते है जबतक कि कोई वहां से गुज़र न जाए।वो पूछते हैं कि क्य... Read more

लल्ली शीरू

तुम तो कहते थे! मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूं फिर इतनी छोटी सी ख्वाइश पूरी नहीं कर सकते?विड़ियो काॅलिंग पर बात करते हुए दोनो... Read more

लत

कल रात टीवी पर एक ज्ञानवर्धक डाॅक्यूमैंटरी देखी पहले तो विश्वास ही नहीं हुआ पर थोड़े अंतराल पर यथार्थ देखकर आंखे फटी रह गयी।आज हर जग... Read more

मंटो

उस रोज़ घर में घुसते ही सब कुछ अस्त व्यस्त मिला सारा सामान इधर उधर बिखरा था।दरवाजे पर मोंदा गिलास था कंघा कुर्सी के नीचे और बिस्तर प... Read more

Me!

शीशे में स्वयं के अक्ष को देखते हुए मैंने बालों के गुच्छें सफेद बालों की एक छिपी क्यारी को पाया।मैं स्वयं को शीशे के करीब ले जाता गय... Read more

वृक्ष

वृक्ष का धर्म क्या है जहां कहीं खड़ा हो वहीं से शीतलता व उन्नत पुष्प तथा फल प्रदान करे वो कभी दूसरे की निंदा नहीं करते और ना ही ईष्य... Read more

संबंध

संबंध और संबंधों का निर्वाह महज इतना कि संबंध दिखाई दे शायद इससे अधिक कुछ नहीं।किसी को याद तब ही किया जाता है जब ज़रूरत है एक अंतराल... Read more

कोविड में भीख

रोटी खाओगे?वाक्य सुनते ही जैसे वो निढ़ाल हो गया।आंखे खिल गयी होठ फैलने लगे।आज तो पेट भर गया पर कल?ये सोचकर उसने अपना सिर पकड़ लिया।अ... Read more

दोस्ती

कभी-कभी ख़्याल आता है कि ज़िन्दगी इतनी छोटी कैसे हो सकती है ये इल्म कुछ वर्ष पहले ही हुआ जब किताबों से मित्रता हुई।हर तरफ बस किताबों... Read more

चांद

आज फिर चांद बदल गया अभी शाम ही को देखा था धूल से भरा मटमैला रेंगता मेरे घर की ओर लगा यूं कि बड़ा खिन्न था बदरंग सा दिशाहीन ... Read more

बारिश

एल ई डी लाइट्स की सफेद रोशनी बारिश की बूंदों को और दुधिया कर देती है जैसे अंधकार में टिमटिमाते छोटे जुगनु अपने अल्प समाज को चमकीला क... Read more

शाम

ज़िन्दगी जैसे थम गयी है घर के एक कोने में वहीं सुबह जगती है शाम तक आंखे जैसे दीवारें ताकती है।अजीब-सी व्यस्तता जो निरंतर कहीं मुझमें... Read more

कोरोना!एक वैश्विक आपदा

कोविड-19 एक वैश्विक आपदा है जिसने संपूर्ण विश्व के लोगों को घरों में बंद कर दिया है।सारा मीडिया जगत ही नहीं बल्कि हर ज़ुबां पर एक ही... Read more

शीरो

अधखुले दरवाजे के पूरे पाट खुलते ही वो सड़क की ओर दौड़ पड़ा और खुले आकाश को देखने लगा जहां बादल दायें से बायें तीव्रता से एक दूसरे को... Read more

मौसम

मौसम की भांति जीवन विविधताओं से परिपूर्ण है घर की डयोढ़ी रोज़ भीग जाती है सुबह की मंद मंद बूदों से पर कुछ देर में स्वच्छ दिखने लगती ... Read more

पथ

तुम आते कितनी बार रोज़ बस यौंही लौट जाते हो मेरा परिचय इतिहास नहीं आज भी तुम संग है पूर्ववत मेरे शून्य मंदिर में आज भी तुम ... Read more

मूल्यांकन

पसंद चयन और वरीयता तीन ऐसे शब्द है जो एक दूसरे से संबद्ध है प्राय हमें जो पसंद होता है उसे चयन करना अपना ध्येय मानते हैं पर जीवन में... Read more

सुई

दिन बदल गये जीवन नहीं बदला आज भी वही सुई है जो कल थी पर आज उसकी महत्ता बदल गई आज घर के सिले कपड़े कौन पहनता है आधुनिक सभ्य लो... Read more

शब्द

कितने ही निरर्थक शब्द जीवन शैली में अभिन्न रूप से जुड़ने लगते हैं कुछ और कब पता ही नहीं चलता।ऐसे बेअदबी शब्द जिनके कोई मायने नहीं हो... Read more

स्टेटस

तुम मुझे उतना ही जानते है जितना मैं तुम्हें शायद उसी तरह जैसे तुम मेरे रोज़ के स्टेट्स को पढ़ लेते हो और चूंकि मेरा परिचय अब आपके मो... Read more

मोहन राकेश की डायरी से

हवा में वासंती स्पर्श है-समय अच्छा-अच्छा लगता है।ऐसे में अनायास मन होता है कि हल्के-हल्के स्वर में किसी से बात करें।अपने चारों ओर घर... Read more

उर्दू की मिठास

कितने मुख्तलिफ़ चेहरों से ग़ुफ़्तगू होती है कुछ दिले ख़ास होते हैं तो कुछ निहायत बद दिमाग।उर्दू ज़ुबान में 'बा'और 'बे' का यकीनन् बेह... Read more

Wish

Ohh my sweetest wish Come fast Come fast Please hold me tight In your Lovely hand My eyes always Looks your path My lips ... Read more

वक़्त

वक्त साथ है अभिव्यक्त नहीं होता कभी योंही तुम साथ रहो पूर्ववत लगता है तुम हो तुम ही हो पर साथ क्यों नहीं होते तुम कभी कभी स... Read more

सबेरे सबेरे

डेढ़ महीने से कमरों में था घर के अहाते या ड्योढ़ी तक चलना निकलना बस इतना ही या एक आध बार अत्यधिक ज़रूरी काज से घर के आसपास तक ही आना... Read more

मां

मां संग होती है रोज़ उम्रभर हर पल हर क्षण पर दिखती है एक बार 'मदर्स डे' पर व्हट्सअप्प फेसबुक पर फोटुओं में जैसे कोई नया खिल... Read more

कोरोना एक वैश्विक आपदा!

कोविड-19 एक वैश्विक आपदा है जिसने संपूर्ण विश्व के लोगों को घरों में बंद कर दिया है।सारा मीडिया जगत ही नहीं बल्कि हर ज़ुबां पर एक ही... Read more

मेरी किताब

खिड़की के शीशों पर गर्द जम चुकी है ओस की बूंदों से वो और भी घनी हो गई है बाहर झांकने के लिए खिड़की की तरफ देखा पर वहां अब अपना ही प... Read more

किताब

आज मैं मिलूंगा एक बार फिर स्वयं से कभी हरी घास पर कभी बादलों में कभी मखमली बिस्तर की झीनी चादर पर पैर पसारकर उन्मुक्त उच्छृंख... Read more

सिगरेट

जी चाहता है तुम्हें अपने होठों से छूं लूं तुम मेरा पहला प्रेम हो।जानती हो तुम्हे मैं उन दिनों से चाहता हूं जब मैं स्कूल जाया करता था... Read more

मेरा चश्मा

मेरा चश्मा रोज देखता एक सुनहरा सपना कभी इठलाता कभी सहम जाता नज़र बचाता आंख उठाता यौंही बादलों में घिर जाता घने कोहरे सा ... Read more

मोहन राकेश

वो आने वाला है एक बार फिर बस दो रोज़ में उसकी गहरी आंखों पर मोटा काला चश्मा है सिर पर उलझे बालों का पफ उसके गोल चेहरे की परीधि से ज़... Read more

"काव्य का मानवीकरण"

काव्य तुम क्या हो शायद तुम नहीं जानते हो और न समझ सकते हो एक विशुद्ध साहित्य से,सह्रदय से ,एक सुखद आलिंग्न की भांति एक ऐसी अनुभूति औ... Read more