Manoj Gupta

Vill-Patehari, Khuniyanwa,itwa (Siddharth Nagar)

Joined January 2019

…. लघु #जीवन की रेखा को लंबा करने की कोशिश है।
हूं भले ही लघु पर कुछ बड़ा #लिखने की कशिश है।।

Copy link to share

होते न बंद...#रास्ते कभी!

हुई शुरुआत कहां?वह लंबी राह कहां! शुरू की जो तुमने, खत्म होगी ये तय। कठिन हो चाहे जितना, चल दिया तो बस सोच इतना, फूल,कांटे मग क... Read more

मैंने भी #प्यार किया है!

......... क्या मोहब्बत की किस्से सुनाते हो, रात पूरी जगते हो,...बताते हो। शांत हो जाओ!... बस इसमें ही समझदारी है, खत्म तुम्हा... Read more

# वक्त... तूं क्यूं?

.. वक्त तू क्यूं? गलती कराता है। बाद जाने के रुलाता है।। याद कर अपनी नादानियों को, छलक आंखों से मोती आंसुओं के आता है।। ... Read more

#आखिर कौन??

मुझपे अपना हक जताना, रगड़ हाथों को सर्द गालों की हटाना, हाथ अपने से खिलाना, कौन करेगा? मेरी इच्छा की करना, आप अपने को भूल जाना,... Read more

# पढ़ाई: अति आवश्यक

पढ़ाई में दम बहुत है, सदा राखिए याद। सब क्षेत्र में जीत, होगी कहीं न तुमको मात। होगी कहीं न तुमको मात,बिठा मन अपने। होंगे तेरे पू... Read more

सुन..# जवानी!

सच तू बड़ा है तूफानी, संभल तुझे खुद की है रचनी कहानी। मिट गए जो जोश सारे, बन गए जीते-जी आसमां के तारे। रच गये इतिहास प्यारे, खे... Read more