प्रकाशित कृतियां– गजल शतक (100 गजलों का संग्रह), सिलवटें (गजल गीत संग्रह), कई साझा संकलन, विभिन्न पत्र पत्रिकाओं में रचनाएं प्रकाशित,

Copy link to share

फतह होगी यकीनन

आफतें यूँ ही न आईं कुछ वजह होगी यकीनन| रात का पैगाम है ये कल सुबह होगी यकीनन| ++ मन्जिलें कुछ दूर हैं ये रास्ते मुश्किल भी लेकि... Read more

बोलो तुम भी उदास थे क्या

मेरी तरह वफा तुम मेरे ही पास थे क्या| मुझसे बिछड़के बोलो तुम भी उदास थे क्या| ++ यादों में आके मुझसे करते थे गुफ्तगू त... Read more

गजल

दिल की ही सुनी होगी दिल से ही कही होगी| वो आँख न वैचारी बे वजह बही होगी| ++ दौलत में हुनर कब था इन्सान बनाने का, ... Read more

गजल

वक्त की आमद का ये आगाह तो होता नहीं | जो भी होता सबके खातिरख्वाह तो होता नहीं | (खातिरख्वाह--मनचाहा) ++ ठोकरें भी सख्त दे... Read more

गजल

जश्ने चरागां मुफलिस कैसे मनायेगा| बाजार जल रहा है धुआं घर में आयेगा| ++ जिसके दिलो दिमाग पे बछड़ों का झुन्ड है, दीप... Read more

गजल

करें भी चोट का किससे यहाँ गिला कोई| दियारे ग़ैर में अपना नहीं मिला कोई| (दियारे ग़ैर--दूसरे देश, परदेश|) ++ मियाने राह म... Read more

गजल

दे रहे हो सदा क्यों मिटाने के बाद | लौट आया यहाँ कौन जाने के बाद || ++ ये दवा है या दारू है पहले बताते, इल्म झाड़ो न अपन... Read more

गजल

ग़ज़ल कमतर की बात है न ये बहतर की बात है | मिलना बिछड़ना सिर्फ मुकद्दर की बात है| ++ मेरा अजब नहीं जो, फसाना सुने कोई, रिश्... Read more

गजल

गजल मोत आये तो मेरा हुजूर आयेगा| मेरा मातम मनाने जरूर आयेगा| ++ अश्क छलकेंगे उसके मेरी याद में, बाद मरने के मुझमे... Read more

गजल

ख्वाहिशों! इतनी जिगर में रोशनी हो जाने दो| दौरे नौ में भी मुझे बस आदमी हो जाने दो| ++ हँस रहे झूठी हँसी सब खुस्क सा म... Read more

माँ

माँ हकीमों से तो लगता है मुझे माँ का जिगर अच्छा | हजारों इन दवाओं से जो होता है असर अच्छा | बतादे राज मुझको माँ यहाँ आखिर छु... Read more