मन के भावों की अभिव्यक्ति ही कविता है…

Copy link to share

धुँए का बादल

!!धुँए का बादल!! हम तमाम उम्र इंतज़ार करते रहे बारिश का, वो छाया था उमड़ा था घुमड़ा था हवा के झोंको सँग लहराया था दिल क... Read more

हाइकु

1. भूल जाना तो सरल है बहुत कठिन यादें। 2. छल करना कभी आया ही नहीं छले ही गये। 3. पिछड़ गए तेज रफ्तार था वो रुक न सका... Read more

सर पे कैसी मुसीबत बड़ी आ गई

ग़ज़ल सर पे कैसी मुसीबत बड़ी आ गई। देखिये फैसले की घड़ी आ गई। साँस लेना मुनासिब भी लगता नही ये हवा किस कदर नकचढ़ी आ गई। ... Read more

कायर

कायर कायर होते हैं वे लोग जो चाहते तो हैं कहलाना किसी का पालनहार पर वे पाल नहीं पाते स्वयं को भी... कायर होते हैं वे भ... Read more