manju gupta

Joined January 2017

मैं लेखिका , कवयित्री , सेवा निवृत हिन्दी शिक्षिका हूँ , वाशी , नवी मुंबई में रहती हूँ . ऋषिकेश , उत्तराखंड मेरा जन्म स्थान है . पढ़ना – पढ़ाना मेरा शौक है . मंचों , आकाशवाणी , दूरदर्शन पर काव्य पाठ किए हैं और कर रही हूँ मैंने आठ हिंदी की किताबें लिखीं . प्रथमकृति प्रांत पर्व पयोधि ने मुझे देश – विदेश से जोड़ा . पत्र – पत्रिकाओं में कलम गतिमान है ।
परहित में जीवन काम आए , यही मेरा लक्ष्य

Copy link to share

माँ

माँ खुदा के नूर - सी रोशन हमेशा घर सजाए माँ , मकानों को मोहब्बत से हमेशा घर बनाए माँ !! बन के कुदरत का वरदान रिश्तों से नवाज... Read more

सृष्टि की सृजनहार बेटियाँ

अब दब नहीं सकती आधी आबादी की ये बेटियाँ , जो दबाएँ इन्हें बन जाएँगी संहार की चिंगारियाँ , नहीं हैं अब भोग , विलास , वासना की ये... Read more