Manju Bansal

Joined September 2017

Copy link to share

बलात्कार जैसे अपराध को कैसे रोका जाये

एक समय था जब हमारे देश में नारियों की पूजा होती थी.... उन्हें देवी- स्वरूप समझा जाता था.... समाज में उनको उचित सम्मान प्राप्त था ...... Read more

माता- पिता के प्रति बच्चों का कर्तव्य

हमारी भारतीय संस्कृति व परंपरा के अनुसार माता- पिता को परमपिता परमेश्वर से भी श्रेष्ठ माना गया है । ईश्वर को हम देख नहीं सकते.... ब... Read more

किरण

**किरण** उम्मीद की किरण जो सहारा बन जाती दिल के सारे अरमान पूर्ण कर पाती संघर्ष के पलों में पतवार बन कर जीवन की डगर पर चलना सि... Read more

मंदसौर की दुर्घटना पर मनोभाव

आततायियों के हाथों कुचली गई मासूम बाला सुनकर दरिंदगी अन्तस् में भीधधकलउठी ज्वाला । वहशियों की हरकतों ने कन्या को कुचल डाला ख़ता... Read more

सच्चा प्यार

कुछ माह पूर्व ही मीता का विवाह योगेश के साथ खूब धूमधाम से हुआ था ।योगेश इंजीनियर था व बंगलौर में किसी कंपनी में नौकरी करता था.... मा... Read more

रोशनी

अँधेरें का सीना चीर जहाँ को रोशन कर दो निर्धन की कुटिया में तनिक उजाला भर दो टिमटिमाते तारों का भी वजूद है आसमां में स्नेह व प्रे... Read more

करवटें

समय भी लेता रहता करवट दिन- प्रतिदिन वक़्त- बेवक्त मानव आकलन करता रहता समय की करवटें झेलता रहता । महँगाई, अत्याचार व अनाचार सह... Read more

प्रतिशोध

प्रतिशोध की आग क्या कुछ नहीं करवा देती बदले की ये भावना रिश्तों को दरकिनार करती बिखर जाते मानवता के मूल्य प्रतिशोध की खातिर महायु... Read more

हिंदी भाषा: वर्तमान संदर्भ में

हमारा देश भारतवर्ष गौरवशाली व संसंस्कृति प्रधान देश रहा है । यहाँ पर विभिन्न धर्मों के अनुयायी व अनेकों भाषायें बोलने वाला जनजाति... Read more

नवरात्रि पर्व

हमारे देश भारतवर्ष में अनेकों त्यौहार समय समय पर रंगीली छटा बिखेरते रहते हैं । हिंदू धर्म के प्रमुख त्यौहारों में नवरात्रि पर्व भी अ... Read more

दुर्गाजी का आराधना

संकटहरणी, मंगलकरणी, शक्तिदायिनी माँ हर पल तेरा स्मरण करें मुझे दर्शन दो माँ । तू ही चंडीगढ़, तू ही ज्वाला, तू ही दुर्गा माँ भक... Read more

नारी की वेदना

नारी के अन्तस् की वेदना क्या समझ पाया कोई त्याग, बलिदान की मूरत कहलाती सहनशीलता व धैर्य दिखाती ।। घर- परिवार की धुरी भी बनती ... Read more

भ्रूण हत्या

माँ! मुझे मत मारो अपनी कोख के नूर को इस तरह स्वयं से जुदा न करो। चंद लम्हे ही तो हे हैं जहाँ में आँखें खोले मुझे बेटी हूँ इसलिय... Read more

हमसफ़र

जीवन की राहें अधूरी हैं हमसफ़र बिना जीवन बिल्कुल सूना है हमसफ़र बिना हमसफ़र हो ऐसा जो हमराज़ बन जाये इस भरी दुनिया में सहारा बन ज... Read more

हिंदी भाषा का महत्व

विश्व का विज्ञान है हिंदी, मस्तक पर ताज है बिंदी भारत का गौरव है हिंदी, जन- जन की भाषा है हिंदी ।। एकता की ये अनूठी मिसाल, सारे ... Read more