Copy link to share

प्रेम

मुझे प्रेम से गले मत लगाओ .. मुझे देश के लिए लड़ना है मैं कमज़ोर न पड़ जाऊँ .. तुम ईश्वर से प्रार्थना करना । मैं अगर मर जाऊँ लड़ते ... Read more

प्यार

वो लड़की बहुत अच्छी लगती है । जो मेरे यादों में बसती है । मेरे आँखों की नमी देख ... जो खुद रो पड़ती है । जो मेरे हँसने में .. खु... Read more

ग़ज़लनुमा

ग़ज़लनुमा मशवरा देना हो तो दे देना चाहिए , पीना चाहे कोई तो पिला देना चाहिए । चाँद , तारे , ये हवाएं सब तुम्हारी हैं , कोई गल... Read more

बेटियाँ

।। बेटियाँ ।। सारे संसार में भगवान की सबसे अच्छी कृति हैं बेटियाँ , बाप का मान सम्मान और ईश्वर का वरदान हैं बेटियाँ । जीव... Read more

बेटी

बेटी वो घर मन्दिर है जिस घर में माँ की पूजा होती है , वो नसीब वाले माँ बाप हैं जिन के घर बेटी होती है । हर वस्तु का मोल होता है इ... Read more

प्रतीक्षा

। प्रतिक्षा । हर पल तुम्हारी प्रतिक्षा करता हूँ .. तुम मेरे निकट नहीं आती हो । क्या मैंने ही प्रेम किया था ? तुम ने भी हजारों वा... Read more

अब बचपन वाला इतवार नहीं आता ,

अब बचपन वाला इतवार नहीं आता , ना गलियों में वो रसभरी कुल्फ़ी वाला , पाव अठन्नी टॉफी वाला , ना चाची मम्मी की चूड़ियों वाला , ना बह... Read more

सरकारी नौकर

सरकारी नौकर सरकारी नौकर का स्वतंत्र अधिकार है ..। दफ़्तरी पैड , पेन ,पेपर ,पिन ,स्टेप्लर .. दफ़्तर की दराज में बचे हुए पन्ने , नोट... Read more

आपदा

कहर ! प्रकृति का या मानव का प्रकृति पर ? कौन निश्चित करेगा ? कौन मरेगा , कौन बचेगा ..? पर्वत खोद कर बेच डाले .. ... Read more

तुम गुलाम हो

तुम गुलाम हो . क्या कहूँ ? भारत माता , हिंदुस्तान , या इंडिया .. हम इसी फेर में फसे हैं आजादी के बाद ..। किस चीज की आजादी ? ... Read more

अस्पृश्यता

।। अस्पृश्यता ।। अरे ! ये नीच है .. इस के हाथ का खाया ... अब तू ,ब्राह्मण, क्षत्रिय नहीं रहा । इसे गाँव से निकालो .. नग्न कर... Read more

स्त्री

स्त्री अबला और सबल , के बीच बढ़ चली स्त्री चाँद तक , मौन तोड़ कर ... अपने सपने ख़ुद बना रही है , बुन रही है ख़ुद ही ... मकड़े के ... Read more

हाइकू

हाइकु 1 प्रेम उर में बिछोड़ शरीर में नीर नैन में । 2 जिन्दा को लात मारने पर श्राद्ध पिण... Read more

वर्ण पिरामिड

वर्ण पिरामिड तू मुझे जग से प्यारा ही है ना छोड़ के जा मेरी पूजा भी तू माँ जमीं में देवता ।। मैं बिन तेरे हूँ अधू... Read more

वर्ण पिरामिड

वर्ण पिरामिड ( 1 ) तो ये है हमारे देश की राजनीति गन्दी,बीमार देश का दर्पण ना जिसका ईमान ।। ... Read more

वर्ण पिरामिड

(1) क्यों ? वृ क्षों प र्व तों ने वल्कल छो ड़ दिए हैं नानी ने कहानी प न घ ट ने पानी (2) हैं अश्क चे ह रे ... Read more

दिल वार आया हूँ

कोई बस्ती बदल आया , कोई मकान बदल आया ... उसने एक बार क्या माँगा मैं दिल वार आया ., मुझे इन अल्लाह और भगवान में मत बाटो .. मैंने ... Read more

मेरा प्रेम

आज नीतू का जन्म दिन था .. नीतू कौन ? भाई वर्तमान में जो मेरी सखी है ...। आप जैसे पढ़े लिखे लोगों की भाषा में गर्ल फ्रेंड ... टेवल... Read more

जन्माष्टमी

कृष्ण जन्म दुःशासन घर - घर जन्मे हैं .. कंस ने लिय हर घर अवतार शकुनि भाईयों में पनपे हैं .. कौन करे अब बेड़ा पार ? हर खेल में... Read more

मोह

मोह माँ के चरणों को छोड़ , सुख भूल पिता के कामों का , कोमल तरु की छाँव छोड़कर .. भटक रहा हूँ इन नगरों में । प्रिये ! मदन ... Read more

उसी ने हमें अपना बना लिया

सभी से दिल लगा के देख लिया .. दुश्मनों को भी गले से लगा के देख लिया । जो मिरे थे वो मिरे न हो सके .. मैंने दुश्मनों को अपना बना... Read more

युवा भारत बेरोजगार भारत ।

युवा भारत बेरोजगार भारत सरकारें आती हैं जाती हैं , बेरोजगार , बेरोजगार रह जाता है , सरकारें नौकरी निकलती हैं फॉर्म भरवाती है , ... Read more

गोरखपुर " नेता "

खुशहाली शब्द चुनावी वादों में था , हत्या, लूट नेताजी के इरादों में था , मेरा घर बचे , मेरे बच्चे पढ़ें , जान की भीख माँगता वोटर ... Read more