मानक लाल"मनु"

गाड़रवारा,बनखेड़ी

Joined January 2017

सम्प्रति••सहायक अध्यापक 2003,,,
शिक्षा••MA,हिंदी,राजनीति,संस्कृत,,,
जन्मतिथि 15 मार्च 1983
पता••9993903313
साहित्य परिसद के सदस्य के रूप में रचना पाठ,,,
स्थानीय समाचार पत्रों में रचना प्रकाशित,,,
सभी विधाओं में रचनाकरण,
मानक लाल मनु,

Books:
जी रहा हूं,कविता,

Awards:
चेतना मध्यप्रदेश

Copy link to share

पास कब आयेंगे,,,,

*💐न जाने पास कब आयेंगे🎉* वो शरारतो के गुजरे दिन अब कब आयेंगे,, वो साथ चलने वाले दूर से पास कब आयेंगे,, अब सफर की मंजिल मुकम्मल ... Read more

आ चल साथी

*आ चल साथी साथ चलते है* चल अब साथी साथ साथ चलते है,, हमे अलग अकेला देख धूर्त छलते है,, साथ रहें तो किसकी हिम्मत जो बोले,, सा... Read more

बेटी को समर्पित

*हर बेटी को समर्पित* कैसे कहूँ कि,बेहतर है,मस्जिद,, कैसे कहूँ कि,पावन है,मन्दिर,, जब नन्ही,मासूम कलियों,को ही,, शैतान,हैवान ... Read more

कानून का राज

*कानून का राज है* किसी का बदन जो उघाड़े यहां पर,, वो कैसे भला खुश रहेगा वहां पर,, झांसे ही झांसे किये जिसने हमेशा,, न आशा मिल... Read more

*सीखो कुछ परिंदों से*

*सीखो कुछ परिंदों से* सीख लो दुनिया वालो मेल मिलाप परिंदों से,, तब ही दिखोगे इस दुनियां मैं इंसा तुम जिंदो से,, खुला आसमा पूर... Read more

हो नाश दरिंदो का

😢हो इनका नाश😢 इन दुष्टों का तो कीजिये अतिशीघ्र विनाश,, जो बहिन बेटी की लाज को समझे उपहास,, मान और मर्यादा का जिनको नही है ध्य... Read more

नाम है उसका माँ

*मेरी माँ (मालती देवी)को समर्पित साथ ही संसार की हर उस माँ को अर्पित जो माँ है,,* *🎊नाम है उसका माँ🎉* जीवन की जो आधार शिला है ना... Read more

आप से ही है हम

*आपसे ही है हम* बहुत ही सहज है, बहुत सरल है हम,, गटकने की सोचोगे तो गरल है हम,, जितने नम्र है, उतने ही विन्रम है हम,, डपटन... Read more

पिता जी से पाया है

🌼पिता जी से ही पाया है🏵️ पिताजी का जो हाथ ही तो बरगद की छाया है,, पिताजी के तन की ताकत से बनी ये काया है,, पिताजी के पसीने से... Read more

एक मर्दानी थी

🗡️एक मर्दानी रानी थी⚔️ निज प्राणों की बाजी देश लगाने बाली वो ही मर्दानी थी,, राजा बहुत हुये इस दुनिया मैं पर केवल लड़ी वो रानी थी... Read more

बलिदानी रानी दुर्गावती

आज बलिदान दिवस पर इतिहास की वीरांगना गौड़ राज की गौरवांकुर महारानी दुर्गावती की गौरवगथा आपके बीच रख रहा हूं,,, सभी को जय जुहार सेवा ... Read more

सचेतक सन्त कबीर

*एक सार्थक सचेतक सन्त कबीर* कबीर या भगत कबीर 15वीं सदी के भारतीय रहस्यवादी कवि और संत थे। वे हिन्दी साहित्य के भक्तिकालीन युग में... Read more

संघ है कई

*संघ है कई* अध्यापकों के हित कारी,, बहुत ही अट्टू संघ,,,, है कई,,,, बने कछु ने पर नेताजी,,, के आगे पीछे टट्टू संघ,,,, है क... Read more

न्याय मिले हर अबला को

*😢न्याय मिले हर अबला को😢* कैसा वहसीपन छाया है मानव के मनमंदिर मैं,, लहरों मैं उन्माद भरा आज के शांत समंदर मैं,, जित देखो शैता... Read more

*संविधान से पाया*

*संविधान से पाया* सबका जीवन सुगम सरल बन पाया,, जबसे मेरे देश मैं संविधान है आया,, जुल्मसितम की हुई खत्म कहानी,, ऐसी व्यवस्था... Read more

*हम वीर है न डरने वाले*

*हम वीर है न डरने वाले* इस कर्म पथ प्रहरी हम है शुद्ध मेहनत करने वाले,, झुकते है तो मर्यादा मैं पर ख़ौफ़ पर न डरने वाले,, कोई ह... Read more

*शिक्षा की नव ज्योति फुले*

*शिक्षा की नव ज्योति फुले* माहत्मा ज्योतिबा फुले का जन्म 11 अप्रैल 1827 को पुणे महाराष्ट्र में हुआ था। उनकी माता का नाम चिमणा तथा... Read more

*आ चल साथी साथ चलते है*

*आ चल साथी साथ चलते है* चल अब साथी साथ साथ चलते है,, हमे अलग अकेला देख धूर्त छलते है,, साथ रहें तो किसकी हिम्मत जो बोले,, सा... Read more

*जारी संघर्ष हमारा है*

*जारी संघर्ष हमारा है* चलो करलो सितम जमाने भर के हम पर अभी वक़्त तुम्हारा है,, फँसे है बीच मझधार मैं हम तेज बहाव है और दूर किनारा ह... Read more

*करो खुदको*

*करो खुदको* नारी तुम अंध बन्धनों से मुक्त करो खुदको,, यान्त्रिक अस्त्र शस्त्र से युक्त करो खुदको,, कब तक पाखण्डवाद के पीछे चल... Read more

*प्रेमरस जब प्रवाहित होता है*

*प्रेमरस जब प्रवाहित होता है* प्रेम पल्लवित हो गर मन मैं तो, तनमन हर्षित होता है,, बन जाता है मधुवन जीवन, जब कोई समर्पित होता ... Read more

*जाता है जी*

*जाता है जी* सोच सोच कर मेरा तो माथा फट जाता है जी,, रात नही कटती मेरी दिन तो कट जाता है जी,, दो भाई बहिन एक आंगन मैं खेले बच... Read more

*रोज की बात

*रोज की बात* उस रोज की बात,, इस रोज करते है,, कोई कुछ भी कहे,, हम वही कहेंगे जो,, हर रोज कहते है,, जमाने के क्या कहने,, ... Read more

*इश्क के बाजार मैं*

*इश्क के बाजार मैं* मेरे सब्र का इम्तहान न लो बहुत,, सब्र कर चुके है तुम्हारे इंतजार मैं,, कुछ भी हो जाये तो मत कसूर देना,, ... Read more

*दीवाना सा हूं*

*दीवाना सा हूं* गुल गुलाब सी कली का दीवाना सा हूं, पास हूं पर दूर ही से कुछ बेगाना सा हूं, धड़क रहा है दिल और बेबाक भी है,, ज... Read more

*आफताब है वो*

*आफताब है वो* खुमारी रूह की उतरने को बेताब है,, कोई पूछता है कौन है वो,, मैं कहता हूं दूर रह आफताब है,, नजरो मैं नशा है जमाने ... Read more

सायरी ये शाम।

सायरी ये शाम। मेरे इश्क की इंतहा तो देखो।। आज भी हम बेंच पे पीछे ही बैठते है सायद आगे वो आ जाये।। वो आज भी कमाल करते है।। ह... Read more

*ऐसे विकास न करिओ*

*ऐसे विकास न करिओ* मजहब जाति धर्म की मीनारें इतने ऊंची न करिओ,, थोड़ा दिल दिमाग भी रखना सिर्फ जेहादी न करिओ,, मरना जीना जीवन क... Read more

*ये दिलवर हमारा*

*ये दिलवर हमारा* नूर चेहरे का रोशन कर रहा है सारा,, इतना प्यारा जो है ये दिलवर हमारा,, नजरो की शरारत से जान ले ली उसने, न जा... Read more

*हमने कोशिश की*

*हमने कोशीश की* सच कहने की जब भी हमने कोशिश की,, तब ही हमको चुप करने की कोशिश की,, बातों को,जज्बातों कभी न उनने समझा,, बस इल... Read more

*"विद्यार्थियों की उपस्थिति"

*प्रकथन/आमुख* *"विद्यार्थियों की उपस्थिति"* एक विद्यालय सिर्फ किसी भवन की चार दिवारी को नही कहा जा सकता,, सिर्फ शिक्षक और भौत... Read more

🙏संत शिरोमणी रविदास जी,,,,🙏

🙏संत शिरोमणी रविदास जी,,,,🙏 मेरे हिसाब से आज भी तार्किक है,,, आज हमारे भारत वर्ष के सन्त परम्परा के काबिल बहुत ही शांत सत्य,सभ्यता... Read more

*😇था??हमने🤔*

*😇था??हमने🤔* आज तमन्नाओ का शहर खाली है जो बनाया था हमने. वीरान जो कभी तेरे आने की आहट मैं बसाया था हमने, वो दौर भी इश्क का क्... Read more

मेरा लेख,,मेरा गणतंत्र,,मेरा संविधान

*मेरा गणतंत्र मेरा संविधान* आज जब हम अपने देश का 69वा गणतंत्र दिवस मना रहे है सभी तरफ भारत के महान तिरंगे को फहरा रहे है सभी और भा... Read more

*नदी का बात*

*नदी का बात* मेरे तट पर जब तुम आते हो,, कपड़े धोते हो मुझमें नहाते हो,, शेम्पू साबुन की भरमार होती है,, शुद्ध करते नही कचरा फैल... Read more

*मातृत्व*

*मातृत्व* नारी की पूर्णता का आभाष है मातृत्व,, स्वयं से स्वयं का विकास है मातृत्व,, सब सुनसान बेकार सा है इस बिन,, दुःखी मन ... Read more

*बदलते है लोग*

*बदलते है लोग* मौसम की तरह भी मिजाज बदलते है लोग।। हर चेहरे पे कई और नकाब पहनते है लोग।। क्या किसका बजूद कोई नही जानता है खुद... Read more

गलती हो गई

👿गलती हो गई😈 हो गई भारी गलती मुझसे में जानता हूँ। पर अभी भी तुझे अपनी जान मानता हूँ। एक आखरी मौका दे दे मुझे ये मेरी जिंदगी, ... Read more

*मुंडन किसका*

*मुंडन किसका* 😭 अभी मध्यप्रदेश ही नही वरन पूरे देश मे अगर कोई चर्चा का विषय है तो वो है अध्यापको का मुंडन जो कि पिछले दिनों प्रदेश... Read more

🗼चाहता है🎡

🗼चाहता है🎡 दौर खुशबूओं का चले तो, हर कोई गुल और गुलजार चाहता है।। फूल हो पास मेरे ऐसे उसूल उसके पास वाले को काँटों की डगार च... Read more

🔴नया साल🔵

🔴नया साल🔵 तुझे मेरा ख्याल, मुझे तेरा ख्याल, यही तो हमारा हैप्पी नया साल।। तेरा गम, मेरा गम, मिलकर हल करलेंगे हर बबाल। तभी... Read more

बुढ़ापा कैसा

बुढ़ापा कैसा,,, आज से महज एक साल पहले की ही बात है,जब गर्मियों की छुट्टियां थी,हमारे गाँव मे एक चाचा जी और चाची जी,रहते है जो कि अ... Read more

*संदर्भ-बढ़ते वाहन और हादसे*

*विषय-सड़को पर दिन व दिन बढ़ता यातायात और वाहनों की तेज रफ्तार* *संदर्भ-बढ़ते वाहन और हादसे* आज शहर तो शहर गाँव भी अब वाहनों से सरा... Read more

👁तो देखो👁

👁तो देखो👁 उस नजर की नजाकत तो देखो, उस शख्स की हिमाकत तो देखो, इश्क को इबादत कहता है, प्यार को इनायत कहता है, उसकी खुदा से ब... Read more

*👨‍👦प्यारे पिता कहलाये👨‍👧*

*👨‍👦प्यारे पिता कहलाये👨‍👧* परछाई सा जो साथ निभाये,, वो ही तो प्यारे पिता कहलाये,, बचपन से यौवन तक बच्चों को,, गोदी में लेकर ... Read more

🏃चले हम 🏃

आपको आपके परिवार को नये वर्ष की असीम शुभकामनाये।। 🏃चले हम 🏃 नाराज़ सी ज़िंदगी को मनाने चले हम,, हर गैर को भी अपना बनाने चले हम,, ... Read more

♻तुम न बदल जाना♻

♻तुम न बदल जाना♻ साल आये साल जाये, दिन रात रोज आये, कोई सवाल न होगा, दुनिया बदल जाये, कोई मलाल न होगा। तुम न बदल जाना, चेहरा ... Read more

❄ये जो साल नया❄

❄साल नया❄ नित नूतन उत्कर्ष नया, ये साल नया लेकर आये।। नाम काम और साम दाम, हर दिल में तुम्हारा छा जाये।। खुशियो की बहार आये ... Read more

*चाँदनी रात है*

*चाँदनी रात है* चाँद तारो की ये जो बारात है,, साथ मैं ये जो चांदनी रात है।। उजाला ये मद्धम हंसी रात है,, हाथ में साथिया ये तेर... Read more

🌞आज हुआ🌞

🌞आज हुआ🌞 आज सुबह का सूरज देखा । मन में बहुत हर्ष हुआ।। लाल लाल किरणों के रंग से। मन में बड़ा उत्कर्ष हुआ।। चिड़ियो की चह चह स... Read more