Madhu Nagar

Joined January 2017

लेखनी के माध्यम से अपनी कल्पना और भावात्मक विचारों की अभिव्यक्ति मुझे काव्य लेखन की ओर ले आई है । अतः आनन्द का अनुभव हो रहा है और मन में लिखने की उमंग बनी रहती है।

Copy link to share

राह इन्तज़ार

दिन भर राह तुम्हारी निहारी थोड़ी थकी सी हूँ , अभी क्षितिज की लालिमा विश्वास का दीप , आँचल से ढके बैठी हूँ पास हो... Read more

इज़हारे बफा

इजहारे बफा करते है वो शौक़ से , क्या करे यह हमें गवारा नहीं । इश्क़ में डूबे इतना कि तुम्हारा साथ हो दर्दे इश्क़ सिर से उतारना ... Read more

यादें

सासें हैं क्या याद दिलाती रहती हैं कोई है कोई है याद आ रहा है। धूमिल नहीं पड़ती ये बेवफा नहीं, साथ देने मे उस्ताद हैं, माहिर है... Read more

प्रेम उत्सव

नभ मंडल मे अप्सराएँ मचा रहीं है शोर , मही पर प्रेम उत्सव मना रहे है लोग । बन उपवन मे मदहोशी , मन वीणा पर पवन की ताल ... Read more

प्रतीक बेटियाँ

राष्ट्र की पूँजी हैं बेटियाँ राष्ट्र की प्रतीक ये बेटियाँ , अम्बर को बाँहों मे लेती ये बेटियाँ , एन सी सी मे परिशिक्षित ये बेटिया... Read more

प्रतीक बेटियाँ

राष्ट्र की पूँजी हैं बेटियाँ राष्ट्र की प्रतीक ये बेटियाँ , अम्बर को बाँहों मे लेती ये बेटियाँ , एन सी सी मे परिशिक्षित य... Read more