मधुसूदन गौतम

अटरू राजस्थान

Joined June 2016

मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के एक विभाग में सरकारी सेवा में कार्यरत हूँ।
कवि सम्मेलन ,एवं मंच संचालन के कार्य भी किया करता हूँ।

Books:
छपी है कुछ परन्तु यहाँ टिपण्णी आवश्यक नहीं।
कोई टिप्पणी नही

Awards:
अवार्ड भी यदा कदा मिलते रहते है। सॉशियल मीडिया की गतिविधियों पर भी ओर ,प्रत्येक्ष समारोह में भी। परन्तु यहां उनका जिक्र आवश्यक नही समझता।

Copy link to share

दिव्यमाला (अंक 30)

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 30 ***************************** बकासुर प्रकरण * *************************... Read more

दिव्यमाला (अंक 29)

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 29 ***************************** बकासुर प्रकरण ******************************... Read more

*कमी *

कलम घिसाई: एक मित्र ने पूछा यार मुझमे कोई कमी हो तो बताओ? मैंने मित्र से पूछा कि ऑस्ट्रेलिया की कमी बताओ। उसने बोला यार मैं आस... Read more

मेला

मेला एक भीड़ भी है ,तो एक संस्कार भी। मेला एक मेलापक है ,तो एक बाजार भी। मेला एक मनाटन ,मनोरंजन अपार भी। मेला एक संस्था भी है ,... Read more

दिव्य लीला अंक 28

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 28 ***************************** बकासुर प्रकरण ****************************... Read more

डिग्रियाँ

चन्द कागज़ के टुकड़ों ने इतना घमण्ड भर दिया। जिन्हें हम डिग्रियां कहते उन्ही ने उदण्ड कर दिया। इल्म क्या होता है कुछ मालूम नहीं ... Read more

दिव्यमाला (अंक 27)

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 27 ***************************** वत्सासुर प्रकरण **************... Read more

आल्हा छंद (बरसात पर)

आल्हा छंद 16,15 अन्तमे 21 करो वंदना बादल की तो ,उमड़ घुमड़ आये बरसात। भरे तलैया सिमट सिमट कर, मूसलधार पड़े दिन रात। चपला चमक ल... Read more

दिव्यमाला अंक 26

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 26 ***************************** वत्सासुर प्रकरण ****************************... Read more

दिव्यमाला अंक 25

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 25 ***************************** ****************************** गाय चराते जंग... Read more

बाज़ार

मैं बाजार हूँ मैं भावनाओ से नही, आदर्शो से भी नहीं, मैं सिर्फ मूल्यों से चलता हूँ। जो काम की होती है, उन वस्तुओं से ही, अक... Read more

हिंदी दिवस पर एक तेवरी

*आज हिंदी दिवस पर खास पेशकश* ---------------------------------------------- आज गुरुजी हिंदी दिवस है ,मुझे कुछ बोलना है क्या लिखू... Read more

दिव्यमाला। 24*

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 24 ***************************** *मिट्टी की महिमा* ****************... Read more

हिंदी भाषा माला। अंक 2

गतांक से आगे......................... *हिंदीभाषा माला* अंक 2 ***************************** हे हिंदी तू उर में सजती,सु... Read more

दिव्यमाला अंक 23

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 23 *********मिट्टी की महिमा* *********************************************** ए... Read more

दिव्यमाला अंक 22

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 22 ****************************** एक दिवस यूँ खेल खेल में , कान्हा माटी निगल गया।... Read more

हिंदी भाषा माला

हिंदी भाषामाला (हिंदी दिवस पर विशेष) ******************************** अपने अपने मन:भावों को ,जिसमें व्यक्त किया जाता। उसी उचित ... Read more

नया मोटर वाहन अधि नियम 2019

* नए मोटर अधिनियम पर तुकबन्दी* ********************** मानो बात यकीनन है। मोदी है तो मुमकिन है। तुमसे कार छुड़ा देगा। सबक... Read more

दिव्यमाला अंक 21

गतांक से आगे...... दिव्य कृष्ण लीला ....अंक 21 ****************************** कहाँ चले ?फिर नंद राय जी ,लेकर के बालक किसना ।... Read more

राधे रानी का जन्म

कैसे राधे ने जन्म लिया ,क्या उनके बनवारी है। इसके लिये एक सुनी हुई ,कथा बहुत ही प्यारी है। कहते है गोलोक में कृष्ण ,राधा के सं... Read more

चन्द्रयान 2 पर मुक्तक

मिशन चन्द्र का फैल हुआ है , तो क्या हम घबरा जाये। एक असफलता से डरकर के ,क्या हम छिपते जाये। अरे खेल का हिस्सा है यह, फैल... Read more

दिव्यमाला अंक 20

★गतांक से आगे★.......★.अंक 20★ **************************** अब तो माता चिंतित रहती ,जरा जरा सी बातों में। थोड़ी सी जो आहट होती... Read more

दिव्यमाला अंक 19

गतांक से आगे........अंक 19 ******************************* ******************************* वर्णावर्त जब हुआ शांत ,तब सब के जान ... Read more

दिव्यमाला

गतांक से आगे......... ******************************** उधर कन्हैया झूल रहे थे ,अपनी माँ के हाथों में। हुए अचानक भारी कान्हा, ... Read more

चन्द्रयान 2 पर एक मुक्तक

हार गए है गेम फाइनल, घबराने की बात नहीं। जीत एक दिन जाएंगे , रहती गम की रात नहीं। मेहनत ही अपनी थाती है, मेहनत ... Read more

गणेश अवतार विशेष

भगवान श्री गणेश के आठ अवतारों का संक्षिप्त वर्णन (गणेश चतुर्थी विशेष) ******************************* खास चतुर्थी भाद्र मास की ,... Read more

एक ग़ज़ल की शक्ल में कलम घिसाई

एक ग़ज़ल शक्ल में कलम घिसाई ****************************** मतला * कदमो में हिन्द के अब महताब देखता हूँ। सारी जमी हो अपनी यह ख़ाब ... Read more

कलम घिसाई। बहर 212 2122 212 2122

*कलम घिसाई* काफिया---आन रदीफ़--सा है। ******************************** रीत सब को निभानी,इश्क़ कुरबान सा है। प्यार जिसका ख़ुदा ... Read more

कलम घिसाई ग़ज़ल के रूप में

वाचिक मापनी 2222 22 22 प्रत्येक पंक्ति 16 मात्रिक *पर कलम घिसाई* समान्त –अर पदान्त ―लगता है। ^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^^... Read more

देश भक्ति का पाठ

आओ तुमको पाठ पढ़ाऊँ देश भक्ति के ज्वार का। लोगो में फिर जोश जगाऊँ मुफ्त के उदगार का। जोर जोर से चीख चीख कर नारे खूब लगाओ तुम। देकर... Read more

बालिका दिवस पर

धुन --- 1*दिल के अरमां आंसूओं में बह गये | 2*तुम न जाने किस जहां में खो गये | 3*हर जगह दुश्मन ज़माना गम नहीं | ***************... Read more

सम्पूर्ण मतले वाली गजल

वज़्न - 22 22 22 22 अर्कान - फैलुन फैलुन फैलुन फैलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - गैर मुरद्दफ ( बिना रदीफ़ के ) ~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~ आधार... Read more

भाम छ्न्द

भाम छंद◆* विधान~ [ भगण मगण सगण सगण सगण] ( 211 222 112, 112 112) 15 वर्ण, यति 9-6 वर्णों पर,4 चरण दो-दो चरण समतुकांत] ... Read more

पति गये परदेश

गये पति परदेश सखी री कब तक पन्थ निहारु। मेरे इस मन के आंगन को कब तक रोज़ बुहारू। इस तन के तान तम्बूरे के भी नित ही तार उतारू। भरे ... Read more

मदकलनी छ्न्द

कलम घिसाई मदकलनी छ्न्द पर 11112 ,11112,11112,11112 *******†********†*********** पिक बयनी, मृग नयनी , मन बस जा ... Read more

गुरु पुरनिमा

आज गुरु पूर्णिमा पर एक ओर हटकर मेरी कलम घिसाई विधा 30 मात्रिक छंद ****************************** कायनात के हर जर्रे ने मुझको ज्... Read more

गजल

2122 2122 2 जब हवा मद मस्त चलती है। यह दवा सी सबको लगती है।*0* रुत चली आई बड़ी प्यारी सी। देख कर तबियत मचलती है।*1* शाख पर ... Read more

तुम झूंठे हो

कलम घिसाई। ****************************** तुम झूंठे हो तुम पागल हो जो छाता लाये साथ में। मुझसे क्यों बोला था बोलो भीगेंगे बरसात म... Read more

वेगवती छन्द

*◆वेगवती छंद(अर्ध सम वर्णिक)◆* विधान~ 4 चरण,2-2 चरण समतुकांत। विषम पाद- सगण सगण सगण गुरु(10वर्ण) 112 112 112 ... Read more

माँ एसी भी होती है।

** मातृ दिवस पर *** मेरी कलम घिसाई +++++++++++++++++++++++ माँ तुम कहाँ हो? मुझे नही पता। तुम्हने मुझे जन्म देकर, झाड़ियो में ... Read more

कोटेशन

इज्जत बेचकर सब कुछ पाया जा सकता है। परन्तु सब कुछ बेचकर इज्जत नही पा सकते । ठीक उस तरह से की पेड़ काटकर फर्नीचर बना सकते है। पर... Read more

न हो सकी

बेबहर गजल ********************************* भले ही हमसे खिदमत नवाजिश न हो सकी। पर कभी किसी खातिर साजिश न हो सकी। 0 नजर... Read more

तू भी.... मै भी....

मजदूर दिवस पर कुछ कलम घिसाई मैंने भी कर दी आज। +++++++++++++++++++++++ ?मै भी .... तू भी..?.( कलम घिसाई) ********************* ... Read more

बीती बाते रहने दे

बीती बाते रहने दे। कुछ भीगी पलके रहने दे। वक्त गया जो स्वर्णिम था। अब प्रस्तर युग को सहने दे। लौट वक्त कब आता है। बस मन में याद... Read more

डमरू घनाक्षरी

***डमरू घनाक्षरी**** (*इसमें सभी वर्ण मात्रा रहित होते है*) सकल जगत तव नमन करत रब। भगवन न नजर कर इधर उधर।। मन नगर नगर चल डगर डगर... Read more

गजल 2122 2122 212 पर

मतला रात से है मोगरा महका हुआ । गंध से लगता सनम बहका हुआ।**0** अशआर आपसे मुझको छुपाना क्या भला। आपके कब सामने पर्दा हुआ।... Read more

अहसास नाजुक सा

खुबसुरत अहसास* ** जाना तो चाहता हूँ मै भी। कब रुकना चाहता हूँ। अतिथि हूँ , तो ठहर भी कैसे सकता हूँ? पर मेरे पानी का मोल ही ... Read more

काश्मीर पर मिश्रित गीत

मिश्रित गीतिका +16 व 12 पर यति तुकांत पदांत+ (धुन विशेष में चतुर्थ पंक्ति का दोहरान 10 मात्रिक बंध के निश्चित टेग के साथ) ... Read more

विमला छंद

*विमला छन्द* (सगण+मगण+नगण+लघु+गुरु, ११ वर्ण, ४ चरण, दो-दो चरण समतुकान्त) 112 222 111 12 तुझसे मेरा जीवन महका। तुझसे मेरा आंगन चह... Read more

विमला छंद

*विमला छन्द* (सगण+मगण+नगण+लघु+गुरु, ११ वर्ण, ४ चरण, दो-दो चरण समतुकान्त) 112 222 111 12 तुझसे मेरा जीवन महका। तुझसे मेरा आंगन चह... Read more