मधुसूदन गौतम

अटरू राजस्थान

Joined June 2016

मै कविता गीत कहानी मुक्तक आदि लिखता हूँ। पर मुझे सेटल्ड नियमो से अलग हटकर जाने की आदत है। वर्तमान में राजस्थान सरकार के एक विभाग में सरकारी सेवा में कार्यरत हूँ।
कवि सम्मेलन ,एवं मंच संचालन के कार्य भी किया करता हूँ।
कवि सम्मेलन ,एवम टीवी चैनल कार्यक्रम के लिये
मेरा सम्पर्क नम्बर 9414764891

Books:
छपी है कुछ परन्तु यहाँ टिपण्णी आवश्यक नहीं।
कोई टिप्पणी नही

Awards:
अवार्ड भी यदा कदा मिलते रहते है। सॉशियल मीडिया की गतिविधियों पर भी ओर ,प्रत्येक्ष समारोह में भी। परन्तु यहां उनका जिक्र आवश्यक नही समझता।

Copy link to share

लघुकथा

एक मनचले ने किसी गरीब के हाथ से रोटी छीनकर एक कुत्ते को डाल दी। गरीब ने मनचले को जब पकड़ कर मारना चाहा तो कुत्ते ने उस गरीब को क... Read more

दोहा छन्द ,चाणक्य नीति आधारित

*चाणक्य नीति आधारित दोहा छन्द का प्रयास* 1★ नियत बात को छोड़कर ,करे अनियती ध्यान। उसका निश्चित जानिये , कैसे हो कल्यान। 2★ ... Read more

रिश्ते कैसे कैसे

रिश्ते कैसे कैसे* ************************************ देव प्रबोधिनी एकादशी का दिन था। दुल्हन की विदाई का माहौल था। बारी बारी ... Read more

साहित्य स्वरूप

*वर्तमान में साहित्य * साहित्य एक व्यापक शै है। जिस प्रकार सृष्टि त्रिगुणात्मक स्वरूप लिए है उसी प्रकार साहित्य भी सकारात्मक,नका... Read more

एक चतुष्पदी यूँ ही

प्रेम जिसको भी होता है अंधा बना देता है। इश्क की क्या कहूँ यह भी बिन बात सजा देता है। मुहब्बत भी दुनिया को जी भर सताती है । दिल स... Read more

हैपी या अनहैपी दीवाली?

हेप्पी दिवाली कहने वालो तोते जैसे रटने वालो किस से बोल रहे हो तोलो फिर चाहो तो खुलकर बोलो किस का निकला आज दिवाला और किसकी मनी द... Read more

दीपावली**** ?

दीपावली आखिर आ ही गई। 15दिन से विशु के घर तैयारियाँ चल रही थी। 5 मज़दूर मिलकर पुताई ,रंग रोगन कर रहे थे। 3 बाईयां झाड़ू पौछा कर रही थी... Read more

हैपी दीवाली।

विष्णुपद छंद पर कलम....ई। 16 +10 पंक्ति पूँछ(पदांत) 112 ******************************* दीपमालिका के अवसर पर प्रेमिल दीप जले।... Read more

रूप चौदस

सुबह उठकर करो मालिश, मनालो रूप चौदस को। मिला उबटन लगालो जी, निखारो रूप चौदस को। लगाकर दूध थोड़ा सा, बदन कमनीय कर लो जी, मगर मुस... Read more

बन्धन

******अल सुबह****** चल पंछी पिंजरे के अंदर। देख भला बन्धन के मंजर। हो आजाद बहुत तू घूमा। इस दर से उस दर को चूमा। बन्धन तोड़ निक... Read more

एक डायलॉग

मैंने बहुत अमीरों को गरीब होते देखा है। हेल्थ की वेल्थ गंवाकर , कमाते देखा है। Read more

दीवाली की सफाई

*लिखाई या सफ़ाई* ******************************* अरे सुनो तो .. क्या है यार, फ़िज़ूल ही डिस्टर्ब कर रही हो। अरे ऐसा क्या कर रहे ह... Read more

मतदान दिवस पर

सुनो सब को ही बतलाओ,दिवस मतदान आया है। बड़े दिन बाद ऐसा चांस हम सबने जो पाया है। निकलकर घर से जाना है ,हमें मतदान करना है। समझकर ... Read more

एक आंख मार गई

*मनहरन कवित्त* ******************** एक आंख मार गई ,दिल को उजाड़ गई। जीभ को निकाल कर ,नींदें मेरी छीन ली। कब दिन रात आये , कब... Read more

किसलिये

मुँह में रखते राम आखिर किसलिये। गर हुए बदनाम आखिर किसलिये। प्यार में पगलाये जाते हो सुनो । पूछते अंजाम आखिर किसलिये। *कलम ... Read more

स्वाभिमान की चिड़िया

स्वाभिमान की चिड़िया भी लगती बिलकुल अलबेली है। सबको अच्छी लगती है पर उड़ती निपट अकेली है। नाज़ुक इतनी होती है, बातों से घायल होती है।... Read more

करवा चौथ टशन

हाँ ,कितनी देर में आ रहे हो यही लगभग 8.30 पर क्यो इतनी देर क्यों? अरे तुम्हारी कॉल अटेंड कर ली जो ही बहुत है। 100 अटेंडेंट... Read more

गुनहगार कौन?

सबूती आधार पर बेशक संज्ञान ले। हर चीज़ का सबूत होता है जान ले। बेगुनाही का सबूत नही पर पास में। तो क्या किसी को गुनहगार मान ले। ... Read more

खूब कमाते मगर भिखारी

तन मेरा था मन मेरा था , लेकिन मिलन नही होया। बचपन में डरता पापा से, छुप छुप कर तन्हा रोया। थोड़ा बड़ा हुआ तो कांधे, बांध दिया म... Read more

नोकरी

मेरी इकलौती महबूबा, बताये रोज़ नखरे क्यो? तुझे मालूम तेरे बिन , नही कुछ भी कभी हूँ मैं। लगाती रहती है ठोकर, पड़े मरज़ी जिधर ही त... Read more

हिम्मत न हार यार

वक्त पर निर्भर है दोस्त, हाय, बाय ,नमस्कार। पर तू मत बदलना , कम मत करना प्यार, कुछ भी हो मेरे मन, हिम्मत न हारना यार। सदियों ... Read more

वक्त

है वक्त तू ठहरता नही है। मैं तेरे साथ चलता नही हूँ। तू किसी को कब तलाशता, मैं तुझे कभी मिलता नहीं हूं। तू ठिक जाता है जबकि ... Read more

ज्ञानी मत बन

बहूत सारे कष्ट पायेगा ज्ञानी मत बन। नजारे नही देख पायेगा ध्यानी मत बन। सही मायने में भौंट बनकर जी ले एक दिन सारे सुख ... Read more

एक मतला एक शेर

हम तो उड़ते नही उनके पर से। जाने जाते है अपने हुनर से। आजकल जो ये बदला ज़माना। हम निकलते नही है जी घर से। Read more

मै रावण ही सही

मैं तुम से दूर रहता हूँ। कारण साफ कहता हूं। अच्छाई बुराई दोनों है मुझमे। अच्छाई ज्यादा बुराई कम है। लेकिन मुझे जिस बात का गम है... Read more

मै रावण ही सही

मैं तुम से दूर रहता हूँ। कारण साफ कहता हूं। अच्छाई बुराई दोनों है मुझमे। अच्छाई ज्यादा बुराई कम है। लेकिन मुझे जिस बात का गम है... Read more

मंच को छोड़

चलो अब मंच को छोड़ो ,कहीं अब और लिखेंगे। लगाकर गेप फिर थोड़ा ,यहां आकर के लिखेंगे। बचे हम बोर करने से , नहीं खुद बोर ही होवे। मजा ल... Read more

दशहरा मेरी नज़र में

दशहरा निकल गया।रावण जल गया।पर मेरे मन में प्रश्न अनेक सिर उठा रहे हैं।आखिर यह नवराते वर्ष में 2 बार क्यों आते है।रावण क्यों जलाया जा... Read more

कन्या पूजन के माने

कन्या पूजन नो दिन के नवराता करके ,फिर कन्या पूजन होता है। कन्या कितनी महत्वपूर्ण है , यह धर्म सनातन कहता है। दो वर्ष से दस व... Read more

देवी महात्म्य नवम अंक *9*

★सिध्दिदात्री★ ******************************************** नवमी का दिन नवराता का, सिध्दिदात्री मैया का। नंदा पर्वत पर आप ... Read more

काश तेरी बिंदिया

काश तेरी बिंदिया बन जाता। चेहरे पे तेरे मैं फब जाता। आईना देखतीजब जब तुम, पहले मैं सबसे नजर आता। काश ..... तुम सारे जहाँ से न्य... Read more

देवी महात्म्य अष्टम अंक * 8* महागौरी

देवी महात्म्य अंक 8 ★महागौरी★ ***************************** दिवस आठवाँ नवराता का, नाम है महा गौरी के। सकल पाप नष्ट... Read more

वक्त वक्त की बात

वक्त वक्त की बात है आये सबका वक्त। वक्त जिसके साथ नही वो ही है कमबख्त।। * कमबख्त है वो जिसका गया हाथ से वक्त। वीर होता वो ही... Read more

देवी महात्म्य सप्तम अंक 7

7-सप्तमी कालरात्रि- दिवस सातवां नवराता का , शब्दों में बांध नही सकता। कालरात्रि कालनिशा का ,वर्णन में छाप नही सकता। जो भी सा... Read more

देवी महात्म्य षष्ठम अंक 6

अंक 6- षष्टम नवराता कात्यायनी ******************************* छठा दिवस है नवराता का , कात्यायनी नाम तेरे। नमन करूँ ... Read more

दूजा पाकिस्तान है।

मनहरण घनाक्षरी **************** पुण्य भूमि भारती की ,ख्याति है वसुंधरा की। जिस पर हुए खूब ,लोग भी महान है। बड़े छोटे लोग ... Read more

मुक्तक

यहाँ पर नीति पर चलना लगे भारी अनीति है। जहां दुष्कर्म पर लगती टिकी सब राजनीति है। बताओ पाप यह फलता जमाने में सुना है'कब। मग... Read more

देवी महात्म्य पंचम अंक 5

जय माता दी पंचम नवराता स्कंदमाता- ************************************************ दिवस पांचवां नवराता का ,माता स्कंद के... Read more

प्लास्टिक बन्द का नाटक

आज बहुत धूम धड़ाका ,देखने को मिला ,प्लास्टिक की विदाई जैसे तय कर दी गई हो। परन्तु एक बात समझ नही आती क्या प्लास्टिक विदाई के प्रति सर... Read more

2 अक्टूबर ,दो बन्ध

अहिंसा का पुजारी ,सत्य व्रत का धारी। गांधी महामानव , का जन्म दिवस है। वेश जिसका धोती, न माला कोई मोती। साधारण सी लाठी , यही कु... Read more

देवी महात्म्य चतुर्थ अंक * 4*

★देवी महात्म्य अंक 4★ 💐 देवी कूष्मांडा💐 दिवस चार का यह नवराता , कुष्मांडा देवी माता। एक अंड से ब्रह्मांड सकल ,जाना उप... Read more

ज़रा छोड़ो ये मोबाइल

एक मुक्तक मापनी (1222 1222 1222 1222) ******************************* सदा रहते हो खोए क्यों,कभी तो मुस्कुराओ जी। तनिक छोड़ो ये... Read more

ज़रा छोड़ो ये मोबाइल

एक मुक्तक मापनी (1222 1222 1222 1222) ******************************* सदा रहते हो खोए क्यों,कभी तो मुस्कुराओ जी। तनिक छोड़ो ये... Read more

देवी महात्म्य तृतीय अंक * 3*

***************************** देवी महात्म्य * अंक 3* *चन्द्रघण्टा* ---------------------------... Read more

साहित्य दर्पण नही

साहित्य किसे कहते है ? जैसे प्रश्न बेमानी है। ठीक उसी तरह से जैसे समन्दर किसे कहते है आदि आदि। साहित्य क्या है ? क्यो है ? जैसे प... Read more

देवी महात्म्य द्वितीय अंक * 2*

*दुर्गा महात्म्य अंक 2* ***************************** नवराता का दिवस दूसरा ,माता ब्रह्म स्वरूपा है। ब्रह्मचारिणी ,और अपर्णा ,उम... Read more

देवी महात्म्य प्रथम अंक

दुर्गा महात्म्य *प्रथम अंक* 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 आज सुनाऊँ तुमको गाथा ,धर्म सनातन भारी है। जिसमें ध्याते देव अनेको ,सबकी महि... Read more

दिव्यमाला अंक 38

गतांक से आगे ------------ कालिय प्रकरण ********************************************** चला छोड़ मैं जाऊंगा पर, जाउँ तो मैं कह... Read more

व्यंग दोहे की शक्ल में

बिना बिके बकवास हे , कलम चले बेकार। कलम कसाई जब बने ,तब पूजे संसार। *1* कलम चले ईमान पर ,तो भूखे मर जाय। कलम बिके कोठी बने ... Read more

न देवर कोई भी न साली

*एक ग़ज़ल* ★💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐★ मुहब्बत से दुनियाँ ये सारी मिलेगी।★00★ न धन से कुई कामयाबी मिलेगी ।★00★ 💐 ये। हालात नफरत क... Read more