Laxminarayan Upadhyay

Sahawa

Joined November 2018

लक्ष्मी नारायण उपाध्याय S/O महावीर प्रसाद उपाध्याय साहवा तहसील तारानगर ,चुरू राजस्थान
अध्यापक G.U.P.S. देवासर बीकानेर

Copy link to share

कारोना वायरस ..

कारोना वायरस ...दो पक्तियां दूरिया मे दवा और दवा से दूरिया बनी है एकांत मे स्वास्थय और देहांत मे घनी है लोक मे तन्त्र और गण ... Read more

सिगरेट से भविष्य

फुली हुई सांसो से अपनी बात को पुरी करने की कोशिश करते हुये उसने जबरदस्ती दम खीँचा और बोला भाईजी एक सिगरेट दइयो.......! दुबला-... Read more

राधे स्नेह.... वियोग

तपती धूप मे ठंडी छाँव हो तुम बिन बयां किये गहरे भाव हो तुम अंतरमन की मेरी परवाह हो तुम ...राधे जो कभी न भरे वो घाव हो तुम ... Read more

झंडा गायन (स्वतंत्रता गणतंत्रता दिवस) देश का ये तिरंगा...

झंडा गायन (स्वतंत्रता गणतंत्रता दिवस) देश का ये तिरंगा झुका है कहाँ वो थे पागल जो उसको झुकाने चले सरफरोसो की तमन्ना से बना ये... Read more

पापा

पापा के पसीने की महक से खुशहाल होता है घर तेरा अल्फाजो की दुआ माँ की काम जो करती है जवानी बेटे की उसके नए आयाम जो भरती है तिनक... Read more

सरपंच चुनण रो टेम

ल्यो आग्यो ओ सरपंच चुनण रो टेम मेट दय् गो ओ कईया रो भेम कई लांबी कोई ओच्छी टेकसी ओरां के चुल्ह पर आपगी सेकसी अब कई आग पगाण... Read more

मेरे वीर कमल

आज देखा जाने और जीने का अलग मिजाज मेरे वीर का ह्रदय हुआ स्थिर जैसे और देखा मन भारी ह्रदय के चीर का देखा मेरा कमल साहवा का जो महक... Read more

बहिन प्रमिला त्याग

आज जो देखा ...... अमर शहीद कमल की बहिन प्रमिला के लिए कुछ शब्द धन्य हो बहिन आप .... प्रणाम तुम्हे हे गौरव भगिनी तुम मेरी कविता ... Read more

देखा हैं आज ...

देखा हैं आज ... जो नहीं थे हाँफते दिन भर मेहनत करके आजकल उन्ही हाथों को कांपते देखा हैं तुम सोचते होंगे हम सही हैं य़ा गलत 2... Read more

जिन्दगी

मेरे ख्वाबो की झिलमिल तू मेरे वर्षो का साया हैं तु प्यासी जमीं मेरी वर्षो से पानी को पाया है आ भी जा मेरे ख्वाबो की अब इंतहा ... Read more

*पता ही नहीं चला ,*

समय चला , पर कैसे चला, पता ही नहीं चला , ज़िन्दगी की आपाधापी में .. कब निकली उम्र हमारी यारो , *पता ही नहीं चला ,* कंधे पर ... Read more

माँ

नमस्कार मैं कोई बड़ा लेखक य़ा वक्ता नहीं हु आज आप सभी की शुभकामनाओ के साथ मेरी पहली रचना आप सबको समर्पित आशा है प्यार और सहयोग मिलेगा ... Read more

माँ

माँ तुमको मैं कैसे लिख दु तुम शब्दो मे कैसे आओगी … अपना सबकुछ देकर बस मुझमे खुद को पाओगी .. माँ तुमको मैं........ कैसे बिताये ह... Read more

माँ

नमस्कार मैं कोई बड़ा लेखक य़ा वक्ता नहीं हु आज आप सभी की शुभकामनाओ के साथ मेरी पहली रचना आप सबको समर्पित आशा है प्यार और सहयोग मिलेगा ... Read more