Laxman Dawani

Joined November 2018

Copy link to share

गज़ल

झूठी सही खता मेरी कोई बता तो दे बहने दे आँसु मेरे तू कोई सजा तो दे जीना मुहाल हो गया तेरे बिना मेरा हक़ में तू मे... Read more

गज़ल

तेरे लबो की ही दुआ हूँ मै गुल बनके आँचल में खिला हूँ मै क्यो कररहे शिक्वे शिकायत तुम तेरी हि नफरत का सिला हूँ मै ... Read more

गज़ल

हुआ हूँ दूर खुद से में तुमसे खफा नही बेबस किया है वक्त ने में बेवफा नहीं सीने में जख्म इतने लगे है मुझे यहाँ ये ज... Read more

गज़ल

दिल-ए-नादाँ तुझे हुआ क्या है दर्दे दिल की बता दवा क्या है इश्क के सौदे तौल जिस्मों में कहते हैं हुस्न की खता क्या है त... Read more

गज़ल

अगर तुम मिल गये होते मुहब्बत से हमें शिक्वा न होता अपने किस्मत से बिता देता में अपनी जीस्त सजदों में अगर हाथो म... Read more

गज़ल

बन्द तालों से मेरे दिल को छुड़ाकर ले गया चन्द लम्हो में मुझे , मुझ से चुराकर ले गया जिस्ममें दिल बनके मेरे अब धड़कने था लगा ... Read more

गज़ल

कभी ज़ुल्फो के इन सायों में मेरी शाम हो जाये मिरा भी आशिको की दुनियाँ में नाम हो जाये गिला तो ये है तुम आते नहीं छत पे कभी मे... Read more

गज़ल

क्या करूँ में दिल दुखातीआशिकी का हल नही कोई मेरी लाचारगी का घेर रख्खा है हमे इन अंधेरो ने कोई तो हल तू ब... Read more

गज़ल

है ज़िन्दगी मेरी , मेरा जाँनिसार है वो यादों में है मेरी दिल मे बरकरार है वो हरेक अदा निराली है मोहब्बत में उनकी हर ... Read more

गज़ल

बरसती निगाहों का तो गम नहीं है दिले दर्द भी यार पर कम नहीं है सिवा प्यार के तेरे कुछ ओ न चाहा नजर में तेरे यार बस हम नह... Read more