पति का नाम –खेम सिंह लालस
शिक्षा –हिंदी स्नातकोत्तर MA
भूतपूर्व आल इंडिया रेडियो एडवाइजर कमेटी मेंबर
ईवेंट मेनेजर
कविताये और हास्य व्यंग्य लिखती हूँ

Copy link to share

मज़हब ए चुनाव

मज़हब नही सिखाता आपस में बैर करना ....ये सुना सुनाया सा जुमला है आधुनिक युग में हर नेता के लिए कारगर फॉर्मूला सा है कर रहे थे ... Read more

नव रूप.....बेटियाँ

माँ अम्मा या हो आई हर रूप में बेटी समाई बेटी बनकर दुर्गा आई झाँसी की रानी वो लक्ष्मी बाई परम रुद्राणि परम ब्रह्माणि सत्यत... Read more

विरह वेदना

हॆ लखन..तुम तो श्री राम से भी वज्र भावनाओं के निकले माँ सीता के वियोग में श्री राम अधीर हो चले खग मृग सभी थे... Read more

अंग दान

सुन ऐ मेरे अभिन्न अंग,लिया था जन्म मेंने तुमको भी साथ लेकर संग , सुन ऐ मेरे अभिन अंग,किया था पोषित तुमको भी माँ ने किया था... Read more

मेरा साया

अंधेरे में नही होता मेरा साया मेरे पास तब मुझे होता है मेरे होने का अहसास उजाले में जब घटता -बढता है मेरे साये का आकार उद्वेलित ... Read more

सूनी कलाई

माँ क्यू सूनी है मेरी कलाई क्यूँ सूना है अपना अंगना बोलो ना माँ माँ बोलो ना कहाँ है मेरी बहना ....हर घर में रक्षा सूत्र लेकर आई है... Read more