MA B Ed (sanskrit) My published book is ‘ehsason ka samundar’ from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank you for your support.

Copy link to share

बेटी और प्रकृति

(1)स्त्री और प्रकृति की करो सुरक्षा, तभी होगा विश्व कल्याण की रक्षा। (2) बेटी और प्रकृति से बैर ना पालो, अपने ही जड़ों को ... Read more

बचपन

याद है वो बचपन के दिन, किताब के पन्नों के बीच, हम मोर पंख पाला करते थे। उसमें रोज़-रोज़ चॉक झाड़ कर पन्नों के बीच ... Read more

मेरे मन के अंधेरे कमरे में

मेरे मन के अंधेरे कमरे में अनेक ही ख्वाब पलते हैं। कुछ अधुरे से, कुछ पूरे से, इन ख्वाबों के परिंदों को मैं उड़ाना चाहती हूँ।... Read more

अच्छा लगता है

बारिश में भीगना, बूंदों को चूमना, गीले जुल्फों को झटकना, नैनों को मटकाना, कितना अच्छा लगता है। कोयल के संग कूकना, मोर ... Read more

मेरी तकदीर

सब चले जाते हैं। मैं बंद कमरे में अकेली रह जाती हूँ। तन्हाईयों से लड़ती हूँ। उन्हीं से बातें करती हूँ। दरों-दिवार चिखती ... Read more

झूठ बोलना पड़ा

🌹 🌹 🌹 🌹 आज फिर मुझे झूठ बोलना पड़ा। अर्थात् सच्चाई की मार्ग को छोड़ना पड़ा। परआत्मा पर बोझ सा बन गया। क्यों? इतनी छोटी बात... Read more

मौन से बेहतर है शोर

🌹 🌹 🌹 🌹 अपना कान ही नहीं, मन भी पक गया है, महानगर के शोर से। बोलते-बोलते खुद ही, चिखने लगे हैं जोर से। सड़कों पर हर कि... Read more

तन्हाईयों में...

आज बस यूँ ही..... 🌹 🌹 🌹 🌹 तन्हाईयों में... यादों की इन सूखी शाख पर ना जाने कितने ही अनगिनत कोपल निकल आये हैं। कुछ ... Read more

बादल और स्त्री

🌹🌹🌹🌹 कभी घिरते बादल और स्त्री को पढ़ा है। दोनों का चरित्र एक सा ही गढ़ा है। वे नारी सन्दर्भों की रागात्मकता है। नारी जीवन ... Read more

भारतीय किसान

???? छू कर माटी सोना कर दे एक ऐसा इन्सान। भारत माँ की प्यारी संतान भारतीय किसान।। ? देश का पोषक, अन्नदाता तनधारी भगवान । त्या... Read more

सारस

??????? परिंदों का संसार बहुत ही सुंदर होता। हर परिंदा किसी ना किसी खूबी से जाना जाता।। सारस पक्षी का विशिष्ट संस्कृति महत्व ... Read more

??झूठ ??

?????? सत्य की खोज करना तो है, ऋषि - मुनियों का काम। आम-आदमी झूठ ना बोले, तो जिन्दगी नाकाम। शपथ लेते समय, कितना झूठ बोल... Read more

वेद

?????? वेद सबसे प्राचीन ग्रंथ, इसमें धार्मिक पवित्र मंत्र। विश्व का प्राचीनतम् वाङ्मय, दैविक एवं अध्यात्मिक काव्यमय। वे... Read more

आखिर तुम कब आओगे

????? मेरे नयन के चांद सितारे , इस घर-आँगन के उजियारे। बुढापे के एक मात्र सहारे , घर लौट के आजा, ओ मेरे प्यारे। कितने ही वर... Read more

रिश्ते

???? अब रिश्ते बस नाम के रह गये हैं, अब रिश्ते हाय-हेलो में सिमट गये हैं, ये नया जमाना है, अब तो लोग रिश्ते सिर्फ फोन पर निभा... Read more

दोहरी जिन्दगी

???? सच-झूठ का मुखौटा पहन खुद से अनजान। दोहरी जिन्दगी जीने लगा है आज का इन्सान।। युग नई, सोच नई,पुराने का हो रहा अवसान। अपन... Read more

कृष्ण मुरारी

????? पाँव पायलिया अधर मुरलिया, छम-छम नाच रहे कृष्ण मुरारी। चाँद से मुख पे बड़ी-बड़ी अंखियां, काले-काले लट लटके घुंघरारी। म... Read more

??मेरे सपनों का भारत??

?????????????? मेरे सपनों के भारत का विश्व में पहला स्थान हो । दुनिया में अपने देश का एक अलग पहचान हो ।?? राष्ट्रीयता एवं विश्व... Read more

जन्माष्टमी

आओ मनाये सब मिलकर पर्व जन्माष्टमी। गली – गली सज रहे हैं दही और हांड़ी। धूम मचाओ आओ'सब गोपाल और गोपी। नाचे – गाये करे धमाल और जमकर ... Read more

ओ कृष्णा

???? ओ कृष्णा! मौत की आखिरी क्षण तक तू मुझे थामें रख। मैं मिट जाना चाहती हूँ, तेरे मुहब्बत के नाम पर। ओ कृष्णा! तू मुझे बाँ... Read more

साड़ी

??????? पांच-छह मीटर का लम्बा वस्त्र है साड़ी, जिसे दिल से पहनाती हर भारतीय नारी। साड़ी तो एक भव्य परिधान है ऐसा, जो किसी भी ... Read more

पापा

(1)???? मै पापा की लाड़ली बेटी हूँ, मैं पापा की जिन्दगी हूँ। ये अजीब रिस्ता है , आज अपनी कल परायी हूँ। ???? (2)???? पापा ... Read more

काला धन

(१)???? पूरा काला धन सफेद करने का , केन्द्र सरकार का जबरदस्त नुस्खा। आधा तुम्हारा और आधा हमारा, अपनाओ विकास का रास्ता। पचास प... Read more

सास बिना ससुराल ना होता

???? सास बिना ससुराल ना होता, सुना बंगला खंडहर सा होता। सास से समाज मे है मर्यादा, ये तो घूँघट है बहु के सर का। जो बहु की हर एक... Read more

नारी

जननी जन्मदायनी , नारी तू नारायणी। हर रूप पूजनीय , तेरा स्थान सर्वोपरी।। ????? मिली नहीं बराबरी , पुरुष प्रधान संस्कृति। उप... Read more

तू दुर्गा , तू पार्वती है

तू दुर्गा, तू पार्वती है । तू दुनिया की पराशक्ति है। हे देवी तू आद्य शक्ति है। प्रकृति में सहज प्राकृति शक्ति है। तू स... Read more

मित्रता (मित्रता दिवस पर)

?????? मित्र हो तो कृष्ण की तरह हो जो भले ही मित्र लिए लड़े नहीं, पर सुनिश्चित करें कि मित्र जीत जाये। या तो फिर मित्र कर्ण ... Read more

क्यों परदेशी होती है बिटिया

???? बाबुल के आँगन की चिड़िया, क्यों परदेशी होती है बिटिया। बाबुल आँगन फूल सी खिलती, महकाती फिर दूसरी बगिया। बाबुल आँगन... Read more

स्त्री की शक्ति

स्त्री के गर्भ से ही शुरू हो जाती है एक संघर्ष बेजुबानियाँ। ताउम्र सहती परंपरा,रीति-रिवाज के नाम कितनी ही रूढियाँ। अपने भीतर क... Read more

भोला भंडारी

???? वो भोला पी हाला मतवाला डमरू वाला हृदय विशाला जग का रखवाला पहने सर्प का माला तन बाधम्बर छाला पीये भंग का प्याला ... Read more

बंद तालों में

???????? है लगा तालों में जंग अभी तराशना है ... Read more

बुढ़ापे में प्यार

???? कौन कहता है कि बुढ़ापा में प्यार नहीं होता है । सच तो ये है कि किसी को ऐतबार नहीं होता है। बुढ़ापे का प्यार ... Read more

मैं और मेरी परछाई

???? मैं कमरे में बैठी कर रही थी अकेलेपन से लड़ाई। सोच रही थी क्या यही है इस जीवन की सच्चाई। सब छोड़ जाते हैं सिर्फ़ साथ रह ज... Read more

भक्ति रस

???? भक्ति रस से भरे हृदय में सदा ईश्वर रहें समाई। है कल्याण उसी का जिसने ये ज्योति जलाई। भक्ति रस से निकले वाणी कर्णप्रिय सु... Read more

आतंकवाद

????? आतंकवाद सभ्य समाज और मानवता के लिए कलंक, सम्पूर्ण मानव जाति के लिए बहुत बड़ा खतरा है आतंक। गोलियों, बंदूकों, बारूदों ... Read more

दूरियाँ

???? समाज और परिवार में घट रही नजदीकियां, टूट रही है भरोसा व विश्वास की हर कड़ियाँ। रिश्तों में तनाव, मतभेद ला देती है दू... Read more

रोटी, कपड़ा और मकान

???? आम आदमी के तीन अरमान मिले रोटी, कपड़ा और मकान। जग में तीनों चीजें बड़ी महान, जिनकी उंगली पर नाचे इन्सान। भूख गरी... Read more

बचपन और बारिश

???? आज सुबह से ही मौसम बड़ा है अच्छा, ढ़ूढ़े मेरा मन बावरा वो छोटा-सा बच्चा। वहीं सुहाने दिन, वो बचपन, वो बारिश, जवाँ हो... Read more

सुन मन मेरे

???? सुन मन मेरे चल आज कुछ करें मन की मन में न रहे चल कुछ करे सुन्दर प्रकृति बड़े कितने रंग बिखेरे पड़े चल खुद में रं... Read more

भाग्य जानने की उत्सुकता

???? भाग्य को जानने की आदिम उत्सुकता। देश की परम्परा कहो या आधुनिकता। जो कल था,वह आज भी है,कुछ ना बदला। वही लोग, वही पंडित... Read more

चाँद

???? ईद और करवाचौथ पर रहता है चाँद का जलवा। बाकियों दिन वह घटता - बढ़ाता रहे, किसे है परवाह। ? जिसे निहारने के लिए साल म... Read more

मेरा साया

???? खामोश एहसासों में एक धुंधला सा चेहरा उभरता है। तू जिन्दगी है मेरी, आके हाउले से मेरी कानों में कहता है। उसकी एक छुअन स... Read more

योग (योग दिवस पर)

????? नित्य उठ करे प्राणायाम व योग, शरीर रहेगा सदा स्वस्थ निरोग। ? योग प्रकृति से जुड़ी सुन्दर विद्या, बढ़ाता बौद्धिक,शारीरि... Read more

मेरे पापा

???? मैं आपका ही रंग रूप हूँ , मैं हूँ आपका आकार पापा। मेरा जीवन है, आप का ही आशीर्वाद पापा। मैं जो बच्चों को देती हूँ वो आ... Read more

पापा (पितृदिवस पर)

???? हे ईश्वर तेरा मैं ध्यान करूँ। मैं अपने पापा का गुणगान करूँ। इस पितृ दिवस के अवसर पर, मैं दोनों पिता को याद करूँ। एक जन... Read more

तू दुर्गा , तू पार्वती है ।

तू दुर्गा ,तू ही पार्वती है। तू दुनिया की पराशक्ति है। हे देवी तू आद्य शक्ति है। प्रकृति में सहज प्राकृति शक्ति है। तू... Read more

स्त्रित्व की रक्षा

???? कहते है की - पुत्र कुपुत्र हो सकता है , पर माता कुमाता नहीं होती। तो फिर वह स्त्री कौन है ? जो गर्भ में ही बेटी होने पर , ... Read more

चीख-चीख कह रही धरा

???? चीख-चीख कह रही धरा, मुझको रखो हरा - भरा। विनाश का बादल मंडरा रहा, वृक्ष लगाओ ज्यादा से ज्यादा। सारा वायुमंडल हो रहा... Read more

कितना सुंदर जमाना था

???? कितना सुंदर जमाना था, तब मौसम बड़ा सुहाना था। पेड़-पौधों से भरी धरा, साथ हरियाली का खजाना था। शुद्ध पानी, शुद्ध हवा, ... Read more

नारी पुरूष की शक्ति

????? नर व नारी एक-दूसरे का पूरक, नारी पुरूष की शक्ति का उर्वरक। नारी बिना पुरूष जीवन अपूर्ण, नारी ही पुरूषों को करती पूर्ण।... Read more