Sumit singh

Joined November 2018

Copy link to share

ग़ज़ल

1• इश्क़ वफ़ा जफ़ा हुस्न हया भी कहती है , औ ग़ज़ल जब रोती है तो माँ भी कहती है । 2• क़ुरआन बाइबिल गीता क्यों पढू मैं भला, जब वह... Read more