ज्योति

Gopalganj , Mirganj , Bihar

Joined December 2019

पिता – श्री शिव शंकर साह
माता – श्रीमती अनिता देवी
जन्मदिन – 09-10-1998
ई – मेल – jjyoti0808@gmail.com

💁💁💁

ये वक्त भी गुजर जाएगा ।

रोना तो जन्म से आता है , हंसना तो सीखना पड़ता है ।।

प्रेम तो हमारे अंदर जन्म से ही विद्यामान है , इसका न ही सृजन होता है न ही विनाश । यह जीवन भर एक रूप से दूसरे रूप में परिवर्तित होता रहता है ।।।

लेखन – मनोभाव , बाल कविताएं , जीवन के अनुभव , भावनात्मक कविताएं ,आदि ।

Copy link to share

" ताक़त ना कमजोरी "

🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷🤷 क्या है ताक़त , क्या है कमजोरी ? सबकी अपनी-अपनी है बोली । कभी बोलूं प्यार की बोली , कभी बोलूं लगे जैसे हृद... Read more

" नज़रीया से मानसिकता का सफर "

हैलो किट्टू ❗ आज मैं तुम्हें ऐसे अनुभव के बारे में बताना चाहती हूं जो बहुत समय से मैंने अनुभव करते आ रही हूं । 👁️👁️👁️👁️👁️👁️👁️👁... Read more

" मुन्ना राजा "

🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸🦸 मुन्ना राजा बजाए बाजा , खबर सुनाता ताज़ा - ताज़ा । सबके दिलों को छू आता , कभी ना खाता किसी से चाटा ।। सुब... Read more

" बिटिया रानी "

🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚🧚 बिटिया रानी बड़ी सयानी , रोज़ सुनाती नई कहानी । कभी पीती वो सादा पानी , कभी आचार पर लार टपकानी ।। सुबह उठ... Read more

" फिर से खुल गए स्कूल "

👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼👼 खत्म हुए छुट्टियों के त्योहार , फिर से सुबह हो कर तैयार । अब न चलेगा कोई जुगाड , ना बनेगा अब कोई बहाना , फि... Read more

" सीखा आई "

🌲🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌵🌳 जिंदगी की इस सफर में हजारों लोग मिले , प्यार , दोस्ती के नाम पर छल - कपट का मुखौटा लिए । वो लगे रहे कोशिश म... Read more

" मेरी जान "

🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳🥳 मैं कर रही थी पढ़ाई , तभी दीदी ने एक खुशखबरी सुनाई , अब मैं बनने वाली हूं मौसी और वो माई । जो होगा / होगी मे... Read more

" पसंद "

👌👌👌👌👌👌👌👌 चलना है तो अकेले चलो , इस भीड़ में क्या रखा है । बनना है तो किसी की आखिरी पसंद बनो , पहले - दूसरे में क्या रखा है ।। ... Read more

" जिंदगी का हिस्सा "

हेलो किट्टू ! कहते हैं सब कि ' लगाव दिल से होना चाहिए । ' क्या यह पूर्णतः सही है ❓ नहीं । कभी किसी के जिंदगी का हिस्सा बनो या... Read more

" घाव "

फरिश्ता था , रिश्ता बन गया । दूर था , हृदय के पास हो गया । नमी था , ओस की बूंद हो गया । दोस्त था , यार बन गया । लगाव था , घाव दे... Read more

" ये क्या हो गया भाया"

रिश्ता था अनदेखा , पंडित जी ने पतरी देखा , गुण - दोष का था लेखा - जोखा । ये क्या हो गया भाया❓ दीदी ने दुल्हन को सजाया , सखियो... Read more

" प्यार का कोई प्रकार नहीं "

हेलो किट्टू ! 🤱जैसे मान लीजिए आपका एक छोटा बच्चा / बच्ची है । बच्चे तो सारे ही बहुत सुंदर होता है उनके प्रति सबके हृदय में आकर्षण... Read more

" गरिमा की उलझन "

हेलो किट्टू ! आज मैं तुम्हें एक अपने सहेली की जीवन के सच्ची घटनाओं को बताने जा रही हूं कि किस प्रकार उसके मासुमियत , विश्वास , प... Read more

" फिर भी नारी को बदल ना पाया "

वाह मानव ! क्या रीत चलाईं , धर्म ने काट दी एक - दूजे की कलाई । हिंदू ने ' जानेवा ' कराया , फिर भी नारी को बदल ना पाया । मु... Read more

" लहू "

💁चाहे कर लो लाखों जतन , बदल ना पाओगे लहू का रंग ।🙅 भले वस्त्रों का रंग सतरंगी होगा ,🤹 पर लहू का रंग लाल ही होगा ।। 💞 🙏 धन्यव... Read more

" सुबह की खीटपीट "

सुबह का सूरज ले कर आता नया सवेरा , मेरे घर होता रोज़ नया बखेड़ा । सुबह उठती मैं लेती अंगड़ाई , तभी मां मेरी ले आती कढ़ाई । ... Read more

" मैं ऐसी ही हूं "

छोटा-सा हैं हृदय मेरा , छोटी सी है मेरी दुनिया । थोड़ी सी सयानी हूं , थोड़ी है बचकानिया । वो क्या है ना , मैं ऐसी ही हूं । कभी... Read more

" क्या यही है विश्वास "

इस बरस मैं अठारह की हूई ही थी कि , तभी एक अंजाना सा रिश्ता आया , इस रिश्ते से थी मैं अनजान । तभी मेरा डगमगाया इमान , कैसे कहूं म... Read more

क्या यही है विश्वास

इस बरस मैं अठारह की हूई ही थी कि , तभी एक अंजाना सा रिश्ता आया , इस रिश्ते से थी मैं अनजान । तभी मेरा डगमगाया इमान , कैसे कहूं म... Read more

सिर्फ इतनी ही है "नारी"

नर और नारी का एक ही है भेद , नारी है मेनका , नर है शेर । हो आठ की या अठारह की या हो वो अठाइस की , सबके मन में छाई उसका जिस्म ही ... Read more

हां ! मै सुंदर हूं

बैठी थी मैं दर्पण के सामने , सोचा जरा श्रृंगार करूं , अपने सुंदरता को और निखार लूं । फिर मैंने सोचा क्या मैं सुंदर नहीं हूं ? ... Read more

कुछ तो है

एक अंजान से मिली मैं एक अनजानी सी , पता नहीं कब हो गयी हमारे बीच पहचान रिश्तेदारों सी । कुछ तो है पर पता नहीं ? कुछ आगे बढ़े हम... Read more

बिदाई

हे गुरु ! तुने दिया ये ज्ञान का दान , कर दी हमारी नईया आर से पार । हम चले जिंदगी के अब नए सफर पर , ले कर आपकी हर बातों की गांठ ... Read more

" मैं पापा की परछाई हूं "

छोटे से वो पैर मेरे और छोटी वो उंगलियां , बिन कुछ समझे पकड़ पापा का हाथ देखने चली मैं दुनिया । इस दुनिया ने क्या रंग सिखाया , द... Read more