House wife, M. A , B. Ed., Fond of Reading & Writing

Copy link to share

मेरी माँ

माँ के आँचल की छाँव घनेरी बनी रही वो हरदम प्रहरी भरी धूप में ठहरी ठहरी माँ की बातें प्यार भरी खिड़की दरवाजे और बिछौना... Read more

--

२१२२--१२१२--२२ आ रहा है कोई पास दिल के भी आ रहा है कोई ख्वाब मेरे सजा रहा है कोई ज़िंदगी फिर से जी गये हम तो प्यार हमसे जता... Read more

----

इक सिवा सांस के क्या बाकी है ज़िंदगी अब भी क्यूं सताती है दरमिया अपने इक खलिश सी है वास्ता ये ही एक बाकी है ज़िंदगी की तमाम ... Read more

--

२२--२२--२२--२२ आर बना नफ़रत को तू अब प्यार बना स्वर्ग धरा को ही यार बना बीच हमारे दुनिया सारी कासिद यारो को यार बना सुंद... Read more

--

२१२२--२१२२--२१२२ ई है कोशिशे नाकाम तो हरदम रही है चल रहे हैं फिर भी यारो ज़िंदगी है ज़िंदगी की फ़लसफे बिंदास हैं दुख रहे या ... Read more

--

२१२२--१२१२--२२ अर गया कब का आंख से तो उतर गया कब का जख्म सीने का भर गया कब का टूटकर दिल को अब समझ आया खेल वो खेलकर गया कब क... Read more

---

१२२२--१२२२--१२२ अक है हमारी चाह तो बस तुम तलक है तुम्ही बोलो तुम्हे किसकी कसक है खुलेगा राज सीने में दफ़न है छुपा लेती थी ज... Read more

--

मापनी 221 2121 1221 212 गीत:- मिलती है ज़िन्दगी में मुहब्बत कभी कभी ?????उम्दा मिसरा की बधाई सर?? दामन पकड़ लिया तो छुड़ाया न ज... Read more

--

२२१--१२२१--१२२१--१२२ ईर अलग है जाना ही नहीं प्यार की तो पीर अलग है ये दर्द बड़ा है मगर तासीर अलग है पर्दो ने कहा था तुम्हें ... Read more

--

२१२२--२१२२--२१२२--२१२ आ सकते नहीं दिल बहलता ही नहीं हम ये बता सकते नहीं प्यार में हारे हैं दिल अपना जता सकते नहीं ख्वाइशो के... Read more

--

नमन साथियो। पहली कोशिश देखिये-- दिया दहलीज का क्यूं कांपता है खुदाया दिल मेरा क्या बांचता है नई तकनीक में कुछ खो गया है खतों... Read more

--

१२२२--१२२२--१२२ आ रहूंगा अकेला जान घबराना नहीं तू मैं तेरे साथ बन साया रहूंगा तुम्हारी चाहतो में था हमेशा कहो तो कैसे अंजान... Read more

--

२१२२--११२२--११२२--२२ आयें कैसे जाने वाले भी भला लौटके आयें कैसे कशमकश ये है कि हम उनको भुलायें कैसे आज हम रूठ गये उनसे तो ... Read more

--

२१२२--१२१२--२२ आन रख लेते हम हथेली पे जान रख लेते तुम अगर कुछ ईमान रख लेते यूं तो मैं कुछ नहीं किसी के लिये तुम ही कुछ मेर... Read more

---

२२--२२--२२--२२ आ कर देखो मन की आग बुझाकर देखो दिल अपना दरिया कर देखो दोष हमीं को देते आये खुद से आंख मिलाकर देखो सागर से... Read more

गज़ल

१२२-१२२-१२२-१२ आने लगी शमा दिलजलो को जलाने लगी पतंगो को यूं आज़माने लगी गले ज़िंदगी के जरा वो लगी कज़ा मुस्कुरा साथ आने लगी... Read more

गज़ल

२१२२--२१२२--२१२२--२१२ आना हो गया रब की थी मर्ज़ी गली में उनका आना हो गया यूं ही बस दिल को धड़कने का बहाना हो गया क्या बताऊ... Read more

गज़ल

२१२२--१२१२--२२ आ रहा है कोई पास दिल के भी आ रहा है कोई ख्वाब मेरे सजा रहा है कोई ज़िंदगी फिर से जी गये हम तो प्यार हमसे जता... Read more

कफ़न

मुस्कुरा जब जब बढ़ाया इक कदम तूफ़ान नज़रों में समाया दम- ब- दम घेरकर सारी दिशाओं से मुझे वक्त ने नज़रे चुराईं फिर दम... Read more

मन

कभी सोचो कि पल दो पल जियें खुद के लिये यारो कभी सोचो कि कोई हो जहाँ न हो कोई नज़र यारो कभी सोचो कि सोचो से भी मिल जाये छ... Read more

मैं

हर लम्हा पुकारती हूं मैं.. हर लम्हा हारती हूं मैं.. समझ न आये मायने अब तक बस लम्हे संवारती हूं मैं... इक तमाशा बन गई... Read more

मैं

गुज़रती हूं अंधेरो से लिये तक़दीर हाथों में बिखरती हूं सिमटती हूं लिये उम्मीद ख्वाबों में दोष किसका है किसके सर लगे बस वक्त... Read more

काश मुझे भी बिटिया होती

रचनाकार- Kokila Agarwal विधा- कविता काश मुझे भी बिटिया होती उसकी आंखो में खुद को जीती महकी मेरी बगिया होती मन की बाते मैं उ... Read more

मन

मन --- आंख खोल जब वो मुस्काया प्रथम परिचय बंदिश का पाया जैसे जैसे सम्भला जीवन खुद को तन पिंजरे में पाया ... Read more

काश मुझे भी बिटिया होती

काश मुझे भी बिटिया होती उसकी आंखो में खुद को जीती महकी मेरी बगिया होती मन की बाते मैं उससे करती छन से टूटा ख्वाब मेरा ये तन म... Read more

मुक्तक

ज्ञान पिपासा भोले पंछी चुग चुगके सब पान लिया आत्मसात करके हृदय में पीड़ा को जैसे जान लिया अक्षर अक्षर में बिंधी पीर थी पंछी ये न ज... Read more

गया साल

गया साल हर ले गया कुछ झूठी उम्मीदो की आस जीवन का रास छोड़ गया इक गहरा सागर शब्दों का शायद सुहास इक महारास एक समर्पण निर... Read more

सत्रह

छ:छ: पांच सत्रह का एक दांव शकुनि का क्या बोल गया विवश हुआ ब्रह्माण्ड लाज का घूंघट भी वो खोल गया स्वयं प्रभु के रहते कैसे ,विध्वंस ... Read more

ज़िंदगी यूं भी मिलेगी

ज़िंदगी यूं भी मिलेगी ये कभी सोचा न था लम्हा लम्हा बिंध गया कतरा कतरा बिखर गया कशमकश में वक्त भी सहम सहम ठहर गया सिलवटों... Read more

बांझ

सुमन गर्म कपड़ो का संदूक खोले कितनी देर से बैठी थी। बेटे का पुराना लाल स्वैटर झटककर पहन लिया था दूर से आई एक आवाज , मां कार बनाना इस... Read more

क्या करे

क्या करे---- खुशी , कैसी खुशी अर्जित कर रहा था अखिल जो किसी के आंसुओं से लिखी है, जबरन किसी की जड़ो को काटने से मिली है। सुमन ... Read more

अंतहीन यात्रा

शरीर, क्या है, बस जन्म लेने का माध्यम या फिर एक सौभाग्य भी जन्म देने का। सुमन की थरथराती ऊंगलियां अपने ही शरीर को टटोलकर देखती रहीं ... Read more

नंगे पांव

अंजिली आखिर कितनी देर आंसुओं से तन मन भिगोती , रात कब तक अपनी परछाई से उसकी आंखो में घुलती। शायद मंदिर के घण्टे ने तीन बजाये थे, आंख... Read more

जीवन साथी

छीना मेरे अधिकारो को बोलो तुमने क्या पाया साथी बन यूं साथ चले साया भी साथ न आया पलट गया समय आज अब हम से तू मैं हुये हैं भाव... Read more

अनकही

छीन मेरे अधिकारो को बोलो तुमने क्या पाया साथी बन यूं साथ चले साया भी साथ न आया पलट गया समय आज अब हम से तू मैं हुये हैं भावो... Read more

बचपन

मैं अक्सर सोचती हूं रात के गहरे अंधेरो में न जाने क्यूं वो बीते पल अभी भी मुझमें ज़िंदा हैं मुझे अक्सर ही लगता है शहर शमशान हो... Read more

स्तब्ध

छवियां तो धूमिल हो जातीं हैं पर प्रेम समर्पण अब देखा अंतर्मन भी मौन हुआ उसका ये अर्पण देखा किंकर्त्तव्यविमूढ़ सी तकती आ... Read more

बाल दिवस पर

चलो बचपन की यादों को खुदी से बांट लूं मैं आज पलको में सजे ख्वाबो में बाबा मैं भी हूं क्या आज तुम्हें क्या याद है अब भी मेरी पहल... Read more

अंतर्द्वंद

किसी का किसी पर कैसा अधिकार मैं तू से या तू मैं से जीवन्त तो नहीं कैसे मुगालते पल रहे क्यूं हम खुद को ही छल रहे निक... Read more

पत्नियो के नाम

आज की रचना पत्नियों के नाम-- तिनका तिनका जोड़कर पत्नी जी मुस्काती थीं जब भी मांगे वो उनको अंगूठा दिखलाती थीं रद्दी न हो जाये ... Read more

आस

पांच साल बाद बेटा बहू और पोते को लेकर दिवाली पर घर आ रहा था। कुसुम बड़े मनोयोग से सब तैयारियों में जुटी थी। बाहर भीतर घर चंदन करने म... Read more

चारदिवारी

गुज़रते गुज़रते ज़िंदगी कहां आ गई है। सब समेटने में कब सब बिखर गया , सुमन लगातार हाथ की लकीरो में खोज रही थी। नमकीन आंखे भीतर भीतर ब... Read more

दोहे

जीवन की ये चाकरी मुझको नहीं सुहाय थामूं बहिया अापकी मुझको लियो बुलाय तुझको सुमिरन सब करें जोगी भया न कोय मेरे मन आके बसो भो... Read more

कोहरा

बहुत सोचा कि अश्को को भुला फिर मुस्कुराऊंगी कभी मुझसे कभी तुमसे गल्तियां हो ही जाती हैं न बिसरी धूप की रंगत तेरे सपने म... Read more

सोच

सोचती थी क्या तुम्हारी सुगंध को मेरी खुशबू रास आयेगी क्या वो उसमें समा पायेगी क्या अपने अस्तित्व को तुममें खो पायेगी हंस पड़... Read more

झूठ सच से क्या बोलता रहा

झूठ सच से क्या बोलता रहा सच सच न रहा झूठ बन गया नफरतों की आंधियों में प्यार दुआ न हुआ टूटकर रह गया लम्हा जो मासूम था रो पड़ा... Read more

विलाप

विलाप ये कैसा विलाप मद्धम स्वर की चीत्कारें अंतरिक्ष में खोई नज़र का रूदन अंतहीन एक औरत की मृत्यु का एक मां की मृत्यु का स्व... Read more

सोच

कभी कभी सोचती हूं भगवान सुनता है क्या बहुत ही छोटी होती है ये सोच सोच में बहे आंसू भी यूं ही कोई उंगली क्यूं थाम लेता है क... Read more

सोच

गहराईयां कितनी समय की गर्भ में पर कुछ नहीं एक हलचल थी कहीं पर आज पर वो भी नहीं मैं कहां हूं खोज कैसी और नज़र में भी नहीं कट ... Read more

सुप्रभात

इतने बरस में हमने जाना हार जीत बेमानी है बस में अपने कुछ नहीं है समय रेत या पानी है Read more