Dr.Kiran Panchal

Joined October 2017

Copy link to share

ग़ज़ल ~यादों से दामन छुड़ा रही हुँ मैं

~ ग़ज़ल ~ यादों से तेरी आज फिर दामन छुड़ा रही हुँ मैं मचलते अरमानों को लोरी से सुला रही हुँ मैं । सुर सरगम ... Read more

ग़ज़ल ~लुटा के दिलों जाँ

ग़ज़ल ~~~~~ लुटा के दिलो जाँ, खुशियां जहाँ की उन पर अब हम क्या करे कतरा भी मोहब्बत का वो , हम पर न लुटाए तो हम क्या करे | ... Read more

होली बाल कविता

~ होली बाल कविता ~ चुन्नू लाया लाल गुलाल मुन्नू के रंग दिए गाल । मुनियाँ देखो दौड़ रही है गुब्बारे व... Read more