Rajiv Goel

Joined August 2016

मैं बच्चो का डॉक्टर हूँ और देहली में प्रैक्टिस करता हूँ
मेरे दो हाइकु संग्रह ‘यादों के टीले’ और ‘चितकबरी धूप’ छप चुके हैं

Copy link to share

ओस

पिघला चाँद टपका बूंद बूंद बन के ओस करें श्रृंगार कमसिन कली का ओस के मोती कातिल सूर्य कोहरे ने बचाई ओस की जान नो... Read more

उम्र

वक़्त दीमक चाटे दिन ब दिन शाख उम्र की खर्च हो रहे ज़िंदगी गुल्लक से उम्र के साल वक़्त की आंधी संग उड़ा ले जाती उम्र क... Read more