Hasnain Aaqib

Akola, Maharashtra

Joined July 2017

Teacher Educator

Poet, writer, academician, translator

Copy link to share

राष्ट्रीय जिजाऊ गीत

राष्ट्रीय जिजाऊ गीत हसनैन आक़िब शतः शतः उसे प्रणाम..... जिजाऊ की जय के नारे आओ लगाएं मिल कर सारे आकाश भरे धरती... Read more

बहोत आसान सी लगने लगी हो।

बहोत आसान सी लगने लगी हो! हसनैन आक़िब इधर कुछ दिन से जानां तुम बहोत आसान सी लगने लगी हो। बस ऐसा लग रहा है जैसे मेरे हाथों... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब कुछ सिलसिले फ़लक के पड़े हैं उजाड़ से। रिश्ते बने हुए हैं ज़मीं के पहाड़ से॥ तुम तो चले गए मेरी द... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब तेरे नज़दीक ही बैठा हूं मैं । लोग कहते हैं कि तन्हा हूं मैं ॥ उस के माथे पे शिकन आई है उस ने देखा है... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब ढूंढ आया हूं कई आज और कल। तेरा मिलता ही नहीं कोई बदल॥ कुछ उमीदें ना ज़माने से रख काम आता है बस... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब अब तुमसे मोहब्बत की ये आदत नहीं जाती। सुनता हूं कि आसानी से ये लत नहीं जाती॥ तुम भी गए, ओझल हु... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब जिसे तुम देखना चाहो, ये वो मंज़र नहीं लगता। तुम्हारे दर की चौखट से हमारा सर नहीं लगता॥ जो तुम हो तो... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब ताक़-ए-माज़ी पे तुझे अब भी सजा रक्खा है। तेरी यादों से त'अल्लुक़ तो बना रक्खा है॥ हो ज़रूरी भी तो ताब... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब तुम से गुलों ने रंग बदलना सीखा है। परवानों ने हम से जलना सीखा है ॥ देर लगेगी तुम को सहारा बनने में ... Read more

ग़ज़ल

ग़ज़ल हसनैन आक़िब अभी से अक़्ल के पीछे पड़े हैं ये बच्चे कितने बूढ़े हो गए हैं जिन्होंने मुफ़्लिसी में हाथ थामा... Read more