न मंजिल पता है, न डगर हमें मालूम है,
रुकना कहाँ है, मुझे नहीं मालूम है,
धक्का दे रहा है ये जमाना मुझे,
कहाँ धकेलना चाहता है ,ये मुझे नहीं मालूम है।

Copy link to share

भारत मेरौ महान : एक मीठी कविता

देखौ भारत की उजियारी रे भारत मेरौ महान, देखौ भारत की उजियारी रे भारत मेरौ महान, सारी यहाँ बीमारी रे पर भारत मेरौ महान, रोटी है ... Read more

कविता का महत्व

जनम लिया तो अम्मा ने कविता से सहलाया था, जब जब रोया, तब तब उसने कविता से बहलाया था, कविता की ही दादी नानी ने लोरी एक सुनाई थी, आजादी... Read more

एक हास्य कविता : गधा लीला

ये Z के आकार की मेरी हास्य कविता मैंने उत्तर प्रदेश चुनाव के वक्त लिखी थी । अच्छी लगे तो बताना कुछ और अच्छा लिखने की कोशिश करूंगा। ... Read more

मटका : हमारी संस्कृति भी, हमारा स्वास्थ्य भी

आज का समय तेजी से भागती दुनिया का है। प्रतियोगिताओं के जंजाल ने हमें खुद में जकड रखा है और इन सब के बीच हमारे मूल्य व् संस्कार कहीँ ... Read more