Kavi Devendra Sharma

Rajendra Nagar, Teacher colony Meerganj Bareilly, 243504, Mobile no. 8979535257

Joined August 2016

–प्रारंभिक जीवन–

कवि देवेन्द्र शर्मा का जन्म 15 नबम्बर 1996 को उत्तर प्रदेश के बरेली जिले की तहसील मीरगंज के गांव करौरा में हुआ।
इन्होंने अपनी शिक्षा मीरगंज में ही प्राप्त की।
इनका वास्तविक नाम देवेन्द्र कुमार शर्मा है, परन्तु यह देवेन्द्र देव के नाम से सृजन करते हैं।

–साहित्यिक जीवन–
देवेन्द्र शर्मा देव बचपन से ही साहित्य में बेहद रूचि रखते थे।
बचपन से अपनी दादी व ताऊ व पिताजी से आल्हा व कहानियाँ सुनकर देव की रूचि साहित्य में बढ़ी और कक्षा 10 से यह स्वरचित सृजन करने लगे।
और फिर मुसलसल अपनी काव्य यात्रा प्रारंभ कर दी।
देवेन्द्र शर्मा देव लेखन के महज एक वर्ष बाद से ही कवि सम्मेलनों के मंच पर अपनी प्रतिभा से धूम मचाने लगे।
और अनेक बड़े कवि सम्मेलनों का आयोजन व संयोजन भी करने लगे जो आज तक लगातार कर रहे हैं।
देवेन्द्र शर्मा देव ने इतनी कम उम्र में साहित्य की ज्यादातर हर विधा पर लिखने का प्रयास किया है, जैसे ग़ज़ल, नज्म, कविता, गीत, मुक्तक, छन्द, दोहा आदि।
देव ने ग़ज़ल कहने का सलीका शिरोमणि उर्दू साहित्यकार जनाब अक़ील नोमानी से सीखा। जो ग़ज़ल कहने का सिलसिला थमा नहीं आज तक निरन्तर चल रहा है।

Copy link to share

इतिहास बाकी है

मेरी आंखों में देखो तुम अभी एक प्यास बाक़ी है । सभी मिल कर रहे यार अब यही एहसास बाक़ी है ।। मैं महलों में रहूं बेश़क मगर यह जानत... Read more

फेसबुक पर आ गई हो तुम

हजारों फोन में देखा कि अब तो छा गई हो तुम । बदलते दौर में सबके दिलों को भा गई हो तुम।। हमारी पोस्ट सारी अब तुम्हारे नाम की होंगी ।... Read more

गरीबों के फ़कत बच्चे सदा इतिहास लिखते हैं

गिरा नफ़रत की दीवारें सदा मधुमास लिखते हैं। मिटा अभिमान को मन से चलो कुछ खास लिखते हैं।। अमीरों की तो औलादें यहाँ रोमांस करती हैं।... Read more

माँ को भूल जाते हैं

जमाना यूँ बदलता है वफा को भूल जाते हैं । सदा कमजोर इंशा ही जफा को भूल जाते हैं ।। कभी जो पांच बेटों को अकेले पाल लेती थी। यहाँ अब... Read more

दीवाना हो गया सचमुच

तुझे देखा था इक पल जो दीवाना हो गया सचमुच। तेरी मासूमियत से ही पराया हो गया सचमुच।। मिलाई आंख से जो आंख तो ऐसा लगा मुझको। मेरा हर... Read more

।।मोदी जी ने पूरा प्रदेश बदल डाला।।

"होली से पहले हर हिन्दु ने अपना भेष बदल डाला। कुर्ता टोपी मस्जिद वाला पूरा परिवेश बदल डाला। जो लोकतंत्र में अन्धे होकर मुस्लिम मुस्ल... Read more

बेटा ही दगा देता है

हर आशिक अपने प्यार को यूं ही बता देता है। जो न करे ऐतवार उसको भी जता देता है।। अब तलक हमने मोहब्बत में वफा भी बेवफा पाई। जैसे व... Read more

समय बड़ा बलवान हुआ है

समय बड़ा बलवान हुआ है समय समय पर भारी। समय रहा जी सबका राजा जिससे दुनिया हारी।। पलक झपकते सुबह हुई है पलक झपकते शाम। पलक झपकते ज... Read more