कौशल कुमार पाण्डेय

बीसलपुर(पीलीभीत)उत्तर प्रदेश।

Joined January 2017

कौशल कुमार पाण्डेय”आस” बीसलपुर(पीलीभीत)[उ०प्र०]
शिक्षा – एम.काम.
साझा प्रकाशन -एक पृष्ठ मेरा भी,स्वतंत्र्योत्रर कवि,दोहा संकलन,नन्दिनी काव्य(साझा)संकलन संपादक,मेरी साँसे तेरा जीवन।

Books:
कालसेन चालीसा एवं कालसेन सप्तक
तेरी सांसें मेरा जीवन,दोहा सागर, एक पृष्ठ मेरा,
छंद कलश,….
Awards:
दोहा शतकवीर, छंद सम्राट, आदि अनेकों….

Copy link to share

विजय दिवस

विजय दिवस पर विजय तिरंगा सरहद पर फहरायेंगे। दुश्मन की छाती पर चढ़ कर गाड़ तिरंगा आयेंगे।। काशमीर की घाटी में काली करतूतें जो करते।... Read more

माँ की अभिलाषा

अभिलाषा *(गजल)* मैं माँ की लिखावट हूँ सजता रहा हूँ दिल में। अभिलाषा पूर्ण माँ की करता रहा हूँ दिल में।। छोटा था अंक माँ की शै... Read more

देश का विकास हो....

: *◆देवहरण घनाक्षरी◆* विधान :~ ८,८,८,९ वर्णों पर यति ,चार चरण समतुकान्त, चरणांत तीन लघु।(१११) ------------------------------------... Read more

गजल - महफिल में भी तन्हा हूँ......

मैं महफिल में भी तन्हा हूँ वो परदा करके बैठे हैं। मैं घायल दिल ले बैठा हूँ वो परदा करके बैठे हैं।। रुखसार पलट दो गर रुख से काफूर... Read more

शहीदों के नाम

आल्हा छंद हँसते हँसते झूल गये थे, जो फाँसी का फंदा डाल। आँखों में था नेह मातु का, था वो भारत माँ का लाल।। देशभक्ति का बन... Read more

◆ बेटी ◆

(१) कुलों का नाम जो करती वही बेटी कहाती है। जन्म इंसान को देती वही बेटी कहाती है। पीहर में झेलती हर कष्ट पर कहती नहीं कुछ भी, सभ... Read more

"जीवन का आधार बेटियाँ"

सुरभित गंध व्यार बेटियाँ। जीवन का आधार बेटियाँ।। उपवन सूना ही रह जाये। कली न कोई खिलने पाये। माली का क... Read more

वतन

दोहे -------- जान लुटाते वतन पर,धन्य धन्य वे वीर। बुरी नजर कोई पड़े,देते सीना चीर।। रक्षा हित निज वतन की,प्राण करें कुर्बान। स... Read more

■◆ मुक्तक ◆■

जो सुर लय तान में गाये वही गायक कहाता है। जो सबको राह दिखलाता वही नायक कहाता है।। जो सेवा में सदा माँ - बाप निस्वार्थ लगत... Read more

मुक्तक :: विषय - खामोशी

विषय ~ खामोशी *◆मुक्तक◆* लोग बतलाते हैं तू तो हूर है। मेरी नज़रों में बसा कोहिनूर है। मैं हूँ तेरा प्यार सब यह जानते हैं... Read more

जिसकी आँखों का पानी मर जाता है....

■◆ गीत ◆■ जिसकी आँखों का पानी मर जाता है। ऐसा मानव बनता भाग्यविधाता है।। सुखद कल्पनाएँ कोई कैसे पाले, धैर्... Read more

आल्हा छंद - शक्ति विस्मरण

वानर सेना बैठी जाकर, सोच रही जा सागर तीर। माँ सीता की सुध लेने को,उठी सभी के मन में पीर।। राह रोक ली है सागर ने,पहुंचें कैसे इसके ... Read more

गजल

बह्र :~ 2122, 2122 , 212 फिर मिलेंगे आज कुछ हासिल नहीं। उठ चुके सारे यहां महफिल नहीं।। दाग कितने मुझको अब तक मिल चुके। कौन... Read more

गजल

लोग जब अपने जख्म देते हैं। गैर भी पीर को हर लेते हैं।। प्यार दुनियां में कम नहीं लेकिन, कश्ती गम की हमेशा खेते हैं।। ... Read more

गजल

बाद मरने के मिलेंगे पल नहीं। साथ बैठे पर कोई हलचल नहीं।। ख्वाब तो देखे बहुत कल रात को, पर हुआ अब तक तो कुछ हासिल नहीं।। हम त... Read more

दोहे

काल गाल में बसत हैं, करते नित्य कुकर्म। बाबा रूप बना लिए, नहिं जाने सद्धर्म।। या तन विष की बल्लरी,जानत है हर कोय। माया मोह अधर्... Read more

अक्षर

अक्षर अक्षर जोड़ लिख दिया सारा दिल का हाल। तूही तो धनवान है गोरी मैं तो हूँ कंगाल।। बिना मोल मैं बिक जाता हूँ देखो जरा कमाल। तेर... Read more

जन जागृति

क्यों सत्ता पर थोप रहे हो, गलती बार बार कर डाली। स्वयं मूर्खता पाठ याद कर,सदा नींद की गोली खाली।। पाँच नहीं दस नहीं वर्ष सत्तर तक ... Read more

नील छंद ~ आराधना

शिल्प :~(5भगण+गुरु) 211,211,211,211,211,2 १६ वर्ण, ४ चरण , २ - २ चरण सम तुकान्त -------------------------------------------------... Read more

क्रांति

------------------------------------------- शांति दूत हम सदा कहाये, हिंसा का भी त्याग किया। पाक पड़ोसी ने इससे ही , ... Read more

दोहे - "मन्थन" पर

नर मंथन उर में करे,बहे ज्ञान की धार। सद् अरु असद् विचार का,है विवेक आधार।। साधू संत समान हैं,अंतर उर का ज्ञान। बुद्धि शांत हो त... Read more

गौ माता

सारा जग माता कहे, कोटि देव करें वास, बंधे जिस गृह बीच,फैलती सुवास है। दूध दही घी के साथ, गोबर गौ मूत्र मिला, पंच गव्य पियो जग... Read more

दोहे...नीति पर

प्रीत रीत सबसे सुघर,तोडो़ मत विश्वास। बिना प्रेम मानव रहे,जीवन जन्म निराश।। नीतिपरक दोहे कहूं,सुन लो धर कर ध्यान। प्रेम सहि... Read more

पाती है यह प्यार की

पाती है यह प्यार की,पहुँच दे प्रिय पास। आयेंगे मिलने पिया , मन में है विश्वास।। मन में है विश्वास,रुक नहीं पायेंगे वो। पूर्ण करें... Read more