Rupam Yadav

Joined November 2017

Copy link to share

खुशी

खुशी नाम सुनते ही उसकी चमकती आँखे सामने आ जाती है | 2-3 साल पहले पापा मुझे छोड़ने इलाहाबाद आ रहे थे| मुझे बस स्टाप पर बैठाकर किसी क... Read more

चाँद

सुनो चाँद! तुम हमेशा भागदौड क्यो करते रहते हो? कुछ पल रुको तो सही, कुछ बातें करनी है| तुम इतने उजङे हुये और सुनसान से क्यो हो ? कोई ... Read more

मेरे आने से पहले, माँ ऐसा संसार बना देना!

हरियाली के चादर पर दादा-दादी के संग खेलूँ, और थककर सो जाऊँ, पीपल के शीतल छाँव में, मेरा दम न घुट जाये, माँ इतने पेड़ लगा देना ! मै... Read more