अगर आप अतीत को ही याद करते रहेंगे ,
तो वर्तमान में जीना मुश्किल हो जाएगा ,
और भविष्य तो असंभव प्रतीत होने लगेगा ,
अतः वर्तमान में जीएं !

लेखक – कपीन्द्र शर्मा
गांव – लाखनमाजरा
जिला – रोहतक ( हरियाणा )
पिन कोड – 124514
फ़ोन नं o – 08529171419

Copy link to share

भगवान परशुराम जयंती पर रचना

जय भगवान परशुराम पितृ भगत परशुराम जी , विष्णु के छठे अवतार हुए । पिता जमदग्नि माँ रेणुका के,पांचवें ऋषिकुमार हुए ।। टेक १ त्रेत... Read more

आजादी के वीर सिपाही

शहीदों को श्रधांजलि स्वरूप यह रचना ????? कैसे मिली आजादी लोगो मैं तुमको आज बताऊंगा । किस किस नै कुर्बानी देदी मैं उन के नाम गि... Read more

गऊ माता पर कलयुग का कहर

कलयुग के म्हां पाप बढे और गऊ का मान रह्या कोन्या ! कित सोगे म्हारे हिन्दुस्तानी , वो हिन्दुस्तान रह्या कोन्या !! १ . गऊ माता का मा... Read more

गर्भ से बेटी की पुकार

रागनी भ्रूण हत्या गर्भ से बेटी की पुकार गर्भ से बेटी कहण लगी , बात सुणो एक मेरी माँ ! बिना खता मनैं रहे सता , क्यूँ दई ज्यान ... Read more