Kajal Soni

Joined January 2017

Copy link to share

"मन"........ काजल सोनी

मन की बातें मन ही जाने, कोई और समझ न पाये । कभी तन्हा, कभी गुमसुम बैठे , कभी तितली बन उड़ जाये। देख परिंदों की हलचल, ब... Read more

इश्क है तुमसे

Kajal Soni शेर Jan 27, 2017
बेशक मुझे इश्क है तुमसे, मगर मेरी जां तुम मिल न सकोगी मुझसे । जिंदगी भी है कश्मोकस में, है फासला जो तेरे मेरे दरमियान, क... Read more

अक्सर

हम तुम्हारी चाहत में अक्सर मौसम की तरह बदलते हैं । कभी दिवाने से लगते हैं कभी पागल बन कर फिरते हैं । तुम दुर नहीं पास लग... Read more

बेटी

गम में न करती हूँ , फरियाद किसी से , नाकाम हसरतों में भी, जी लेती हूँ । दे दे कोई जहर का प्याला , ये कहकर कि प्यार है, वो ... Read more

दोस्त

उम्र बित गये, दोस्त बनाते बनाते । सफर कट गये, उन्हें निभाते निभाते। पर वो दोस्त मेरा, कही खो सा गया । जो चलता था, हर वक... Read more