Ritu Singh

Joined November 2018

Copy link to share

माँ

वो शब्द कहाँ से लाऊं, तेरी महिमा जो सुनाऊ | तू शब्दों से परे है माँ, क्या तुझ पर लिख पाउँ || मेरा वजूद तुझसे माँ,तुझमे छुपी है मेर... Read more