जयति जैन

रानीपुर जिला झांसी

Joined December 2016

लोगों की भीड़ से निकली साधारण लड़की जिसकी पहचान बेबाक और स्वतंत्र लेखन है !
जैसे तरह-तरह के हज़ारों पंछी होते हैं, उनकी अलग चहकाहट “बोली-आवाज़”, रंग-ढंग होते हैं ! वेसे ही मेरा लेखन है जो तरह -तरह की भिन्नता से – विषयों से परिपूर्ण है ! मेरा लेखन स्वतंत्र है, बे-झिझक लेखन ही मेरी पहचान है !!
युवा लेखिका, सामाजिक चिंतक
जयति जैन “नूतन”
पति का नाम – इं. मोहित जैन ।
1: जन्म – 01-01-1992
2: जन्म / जन्म स्थान – रानीपुर जिला झांसी
3: स्थायी पता- जयति जैन “नूतन “, 441, सेक्टर 3 , शक्तिनगर भोपाल , पंचवटी मार्केट के पास ! pin code – 462024
4: ई-मेल- Jayti.jainhindiarticles@gmail.com
5: शिक्षा /व्यवसाय- डी. फार्मा , बी. फार्मा , एम. फार्मा ,/ फार्मासिस्ट , लेखिका
6: विधा – कहानी , लघुकथा , कविता, लेख , दोहे, मुक्तक, शायरी,व्यंग्य
7: प्रकाशित रचनाओं की संख्या- 450 से ज्यादा रचनायें समाचार पत्रों व पत्रिकाओ में प्रकाशित
8: प्रकाशित रचनाओं का विवरण – जनक्रति अंतराष्ट्रीय मासिक पत्रिका में,
सामाजिक लेखन, राष्ट्रीय दैनिक, साप्ताहिक अख्बार, पत्रिकाये ,
चहकते पंछी ब्लोग, साहित्यपीडिया, शब्दनगरी, momspresso व प्रतिलिपि वेबसाइट, international news and views (INVC) पर !
9: सम्मान-
– श्रेष्ठ नवोदित रचनाकार सम्मान से सम्मानित !
– अंतरा शब्द शक्ति सम्मान 2018 से सम्मानित !
– हिंदी सागर सम्मान
– श्रेष्ठ युवा रचनाकार सम्मान
– कागज़ दिल साहित्य सुमन सम्मान
– वुमन आवाज़ अवार्ड 2018
– हिंदी लेखक सम्मान
– भाषा सारथी सम्मान

10: अन्य उपलब्धि- बेबाक व स्वतंत्र लेखिका ! हिंदी सागर त्रेमासिक पत्रिका में ” अतिथि संपादक “
11:- लेखन का उद्देश्य- समाज में सकारात्मक बदलाव !
12: एकल संग्रह – वक़्त वक़्त की बात ( लघुकथा संग्रह, 20 पृष्ठ)
एकल संग्रह- राष्ट्रभाषा औऱ समाज (32 पृष्ठ)
साझा काव्य संग्रह
A- मधुकलश
B- अनुबंध
C- प्यारी बेटियाँ
D- किताबमंच
E- भारत के युवा कवि औऱ कवयित्रियाँ ।
F – काव्य स्पंदन पितृ विशेषांक
G- समकालीन हिंदी कविता ।
H- साहित्य संगम संस्थान से प्रकाशित
उत्कृष्ट रचनाओं का संकलन
I- अनकहे एहसास
J- वुमन आवाज महिला विषेषांक
K- रेलनामा
13: अनगिनत ऑनलाइन व ऑफलाइन पत्रिकाओं में लगातार प्रकाशित हो रही हैं रचनाएँ ।
14- रानीपुर (जिला झांसी उप्र) की पहली लेखिका होने का गौरव ।
15- लेखन के क्षेत्र में 2010 से अब तक ।

Copy link to share

कविता- अफसोस

कितना आसान था कह देना अब नहीं कोई वास्ता अब नहीं एक रास्ता ना ही होगी एक मंजिल ना होगा अब कोई फासला। कह कर आगे चल देना उसे अच्... Read more

कविता :- वो औरत एक मां है

कविता :- वो औरत एक मां है उलझे हुए से फिरते हैं नादिम सा एहसास लिए दस्तबस्ता शहर में वो नूर है अंधेरे गुलिस्तां में । डरावने... Read more

कविता - शील बचाने उठ अब नारी ।

कविता - शील बचाने उठ अब नारी । चल उठ स्त्री बांध कफन अब कोई रक्षक नहीं आयेगा हत्या शोषण बलात्कार से अब कोई तुझे नहीं बचायेगा ।... Read more

31 जुलाई को घटी 5 ऐतिहासिक घटनाएं, जिन्हें कभी भुला नहीं सकेगा हिंदुस्तान

31 जुलाई यानी बहुत ही विशेष दिन :- इस दिन साल दर साल हम किसी न किसी की जयंती मानते हैं तो किसी को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं । आ... Read more

बलात्कार नेताओं की बहिन बेटी के साथ क्यों नही होते ?

लेख- बलात्कार नेताओं की बहिन बेटी के साथ क्यों नही होते ? -------- वैसे भी कुछ फर्क पड़ा हमें क्या ? रोज़ की तरह एक नया बलात्कार क... Read more

कविता- रस्में रिवाज़ भी जरूरी हैं ।

--- रस्में रिवाज़ भी जरूरी हैं --- हाँ शादी के बाद कुछ रस्में रिवाज़ भी जरूरी हैं । ये वो रिवाज़ नहीं जो आपके स्वाभिमान को ठेस प... Read more

कविता- वो मेरा नहीं

दिल का हाल मैं आज भी वेसी ही हुं, जेसी उसकी पसंद है, लेकिन अब वो वेसा नहीं, जेसा मुझे पसंद है ! वो मेरा पहला प्यार है, लेकिन म... Read more

व्रद्धाश्रम पहुंचे एक दम्पति के दुख

व्रद्धाश्रम पहुंचे एक दम्पति के दुख को व्यक्त करने की कोशिश, जिसने एक घर बनाया था ये सोचकर की उसका बेटा उसका सहारा बनेगा.... ©लेखिक... Read more

निशब्द संसार

तुम शब्द हो और मैं अर्थ तुम हो तो मैं हुं शब्द बिन अर्थ बेकार निशब्द संसार तुम प्रीत हो और मैं जोगन तुम हो तो जीवन रोशन प्... Read more

जो खुद को सेक्युलर नहीं मानते उनके लिए -

बाहर हैं तो अभी सीधा घर जाइये घर जाकर टी.वी. में आग लगाइये सभी जाति -धर्म के लोग दिखाई देगें फिल्म - सीरियल पर नजर दौड़ाइ... Read more

दशलक्षण ( पर्युषण) महापर्व- बहुत ही रोचक जानकारी

आज में आप सभी के सम्मुख बहुत ही रोचक जानकारी प्रस्तुत कर रही हूँ। विषय है *"दिगंबर जैन सम्प्रदाय में पर्युषण पर्व"* भारत वसुंधरा धा... Read more

देश के रक्षक

*** अपने खून के बदले मां बेटी को बचाउगां भक्षक को मार मैं रक्षक कहलाऊगां ! तोड़ कर रख दुंगा आंचल छूने वाले हाथों को अपने खून से ज... Read more

वीरों की सौगंध

मुक्तक " उस नज़र को झुका के ही मानेगें हम जिस नजर ने धरती माँ पर आँख उठायी है अपनी ताकत से सर कुचल देंगे हम आखिरी सांस तक अब ये ... Read more

फ़ौजी बनना कोई मज़ाक नहीं है

हर देश की सीमा होती है, उसके अपने कानून ही उसे अंतराष्ट्रीय स्तर पर एक दर्ज़ा दिलाते हैं ! देश की रक्षा सरहदों पर खड़े जवान करते हैं... Read more

हिंदी बनाम अंग्रेजी

हिंदी हमारी मात्र्भाषा है, लेकिन अन्ग्रेज़ी ना तो मात्र्भाषा है ना ही राष्ट्रभाषा ! कोढ़ में खाज का काम अंग्रेज़ी पढ़ाने का ढंग भी... Read more

एक गीत- बेस्ट फ्रेंड के लिए

हर खुशी नामंज़ूर है जो तू मुझसे दूर है तू ही तो मेरी दोस्त है तू ही साथ है हमदम स्कूल से घर आना होमवर्क का बहाना साथ मे गप्पे... Read more

तेरी जरुरते मेरी चाहत

अगर मैं तुम्हे भूल जाऊ तो मुझे बेवफ़ा कहना, तेरी वफ़ा ना सही बेवफ़ाई तो याद रखुगी मैं ! अब ना जख्म भरेगे, ना दिल हंसेगा, ना अब... Read more

तुम्हें एहसास नहीं

कविता- तुम क्या जानो क्या होती है तन्हाई, चीखती खामोशी तुम्हे एहसास नहीं कराया मेने बंद कमरे मे केद घुटन का किसी की रूह से जु... Read more

बेनाम रिश्ता भाग =2

पाठकों की पसंद पर इस कहानी का दूसरा भाग लिखा है मैने, अब तक इस कहानी को 9,000 लोग पढ चुके हैं तो अब शुरू करते हैं कि आखिर फ़िर हुआ क्... Read more

महावीर जयंति की हार्दिक शुभकामनाएँ

जय जिनेंद्र महावीर जिनका नाम है, कुण्डलपुर जिनका धाम है, ऐसे त्रिशला नन्दन को, हमारा शत शत बार प्रणाम है! 'महावीर जयंती' जैन... Read more

90% पुरूषो को ही हार्ट अटैक क्युं आते हैं ?

90% पुरूषो को ही हार्ट अटैक क्युं आते हैं ? मेरा जबाब- कई वज्ह है : हिचकिचाहट, घबराहट, उनका नाकामयाबी का डर, लोग क्या कहेगे, उनका ... Read more

धर्म- लोगों को बांटने का साधन

धर्म- आज लोगों को बांटने का साधन बन गया है ! धर्म क्या है ? इसके बारे में क्या जानते हो ? आज लोग ये नहीं कहते कि धर्म हमें शांति... Read more

सतरंगी चुनरी

बडे दिनों के बाद आज मालू पागल हुए जा रहा था, समझ ही नहीं आ रहा था उसे कि वो क्या पहने, कब क्या करे, केसे करे, क्या खरीदे ? शाम को बस... Read more

होली के रंग में रंग जाये

आओ होली के रंग में रंग जाये, चलो मिलकर अबीर लगाये! फागुन मास में आता हैं दिल का त्योहार नाचो झूमो गाओ आयी बहार गिले शिक्वे मिटाओ... Read more

उ.प्र. भी आरक्षण मुक्त हो अब मोदी जी

मोदी जी अब हमे एक ही वचन चाहिये अब उ.प्र. भी आरक्षण मुक्त होना चाहिये... ना कोई दलित ना कोई बनिया ना ही ब्राह्मण सारी जातिगत भेदभ... Read more

जीवन एक खेल है

विलियम शेक्सपियर ने कहा था कि जिंदगी एक रंगमंच है और हम लोग इस रंगमंच के कलाकार! सभी लोग जीवन को अपने- अपने नजरिये से देखते है| कोई... Read more

बेनाम रिश्ता भाग =1

बात करीब साढे चार साल पहले की है, सोनू अकेला पर खुश था, और नीतू शादीशुदा... जब नीतू सोनू की जिन्द्गी में आयी तब वो किसी और की हो चु... Read more

गाली क्युं देते हो ? उसका काम है अदाकारी..

जबाब दें- शाहरुख ने फ़िल्म की... पेसों के लिये... उसका काम है अदाकारी... उसे भिखारी का लीड रोल मिलता तो भी वो करता... लेकिन जिसने ... Read more

मोहब्बत वो घर है !

तुम मिलो तो एक बार, दिल का हाल जताने के लिये, फ़िर हमें छोड़ किसी और का खयाल दिल मे नहीं आयेगा! …………………. तुम मेरे हो सब जानते हैं,... Read more

बस 2 मिनट, आराम से बैठकर सोचिये

आराम से बैठ कर सोचिये... लेखिका- जयति जैन ☺ थोडा अतीत में जाइये, देखिये एक मस्तमोला इसान जो कभी आप हुआ करते थे, वो इंसानजो छोटी... Read more

शायरी -Dil se

शायरी कलेक्शन तुम मिलो तो एक बार, दिल का हाल जताने के लिये, फ़िर हमें छोड़ किसी और का खयाल दिल मे नहीं आयेगा! ..................... Read more

जैन धर्म

जैन धर्म भारत का एक प्राचीन धर्म है। 'जैन धर्म' का अर्थ है - 'जिन द्वारा प्रवर्तित धर्म'। 'जैन' कहते हैं उन्हें, जो 'जिन' के अनुयायी... Read more

कानून, विवाह और बलात्कार

यह जान कर आश्चर्य होगा आपको कि २०१४ के मौजूदा कानून के अनुसार भी विवाह के लिए लड़की की उम्र 18 साल होनी चाहिए ,मगर 18 से कम होने पर... Read more

मर जाने दो बेटियों को...

मर जाने दो बेटियों को... लिंग परिक्षण कर भेदभाव जताया मारने को उसे औज़ारों से कटवाया इतनी घ्रणा है उसके अस्तिव से तो मर जाने दो... Read more

गलती का एहसास- कहानी

" रिश्ते-नाते तोड दीये" - मुकदमा एकसाल तक चला। आखिरकार करुण और समता में तलाक हो गया। तलाक के कारण बहुत मामूली थे। पर मामूली बातो... Read more

लो चला मैं... ओमपुरी जी को श्रद्धांजलि

लो चला मैं... तुम सबसे दूर कुछ के लिये बुरा तो कुछ के लिये अच्छा था... लो चला मैं... आंखें नम हो जाये तो खुद को सम्भाल लेना...... Read more

कुछ सालों में इंसान उडने ही लगेगा... नयी तकनीक

सवाल ये है कि क्या आपने भविष्य को देखा है? हम ऐसी दुनिया में रहते हैं, जहां संभावनाएं अपार हैं. हमारे अंदर की जिज्ञासा हमें हर नयी च... Read more

दोस्ती ही प्यार की पहली सीढी है ?

दोस्ती ही प्यार की पहली सीढी है ? लेखिका- जयति जैन, रानीपुर झांसी प्यार दोस्ती से ही शुरू होता है ! जब दो शक्स एक दूसरे को पसंद ... Read more

पीरियड़ का समय (संवेदनशील विषय)

**** हर लड़की के जीवन से जुडी बात, जिसे कहने में अक्सर हम लड़कियां हिचकिचा जाती हैं, शर्मा जाती हैं, पर आज ऐसी ही ना जाने कितनी लड़... Read more

वो मेरा नहीं

वो मेरा नहीं- (दिल का हाल) मैं आज भी वेसी ही हुं, जेसी उसकी पसंद है, लेकिन अब वो वेसा नहीं, जेसा मुझे पसंद है ! वो मेरा पहला प्... Read more

समकालीन थे भगवान महावीर और गौतम बुद्ध -

लेखिका- जयति जैन "नूतन" एक राजा जिसने राजपाट होते हुए भी दिगम्बरत्व धारण किया और समूचे प्राणी जगत का नेतृत्व कर उसे सत्य, अहिंसा ... Read more

बहुत प्यारा वादा था वो...

वो कहती है मुझे हमेशा कि में उसकी जान हुं, लेकिन दूसरे के साथ उसकी मुस्कुराती हुई तस्वीरें देखकर तो ऐसा नहीं लगता मुझे !!! वो कहत... Read more