JAGMOHAN SAXENA

बीकानेर

Joined August 2018

पूर्व बैंक अधिकारी , फिल्म गीतकार, साहित्यकार,कार्टूनिस्ट

Books:
बेलु रा मोती कहानी संग्रह
अंकुरित हो रहे शब्द कविता संग्रह

Awards:
साहित्यिक विश्व रिकॉर्ड के लिये लिम्का बुक ऑफ़ रेकोर्ड्स 1993 में नाम दर्ज
7स्वरचित फिल्मी गीतों व 4गैर फिल्मी गीतों का ध्वन्न्यांकन
एल पी टेसिटोरी अवार्ड
बीकानेर रत्न पुरस्कार
नगर निगम बीकानेर द्वारा सम्मानित
फ्रेन्डशिप वौयेज अवार्ड
राश्ट्रीय स्तर पर कोमन वेल्थ भारतीय कविता महोत्सव
में सहभागिता
दूरदर्शन से राश्ट्रीय प्रसारण हेतु साक्षात्कार प्रसारित
सुरभि कार्यक्रम हेतु स्व निरमित वृत्तचित्र प्रसारित

Copy link to share

हिन्दी की बहन उर्दु

जो बन्दिशें बाँधी थी तेरी जुगल बन्दी में वो आज सिसकती हैं नफरत की बारिश में किसी की खाला थी किसी की मईया थी हम तो सगी बहन थी... Read more

शेर-दीन ने कब सिखाया

हाँ मैं बुत परस्त हूं काफिर ही सही, तेरे दीन ने कब सिखाया नफरत का कारोबार -जगमोहन सक्सेना Read more

माँ तमसा नदी सफाई महा अभियान आजमगढ़

लेकर कुदाल लो कूद पड़े करने कल्याण वो जूझ पड़े माँ तमसा को आज़ाद कराने कलुशित बेड़ी से छुड़वाने कलजुग के भागीरथ जैसे हो मांझी ... Read more

रिजर्वड सीट

जच्चा वार्ड में रोज की तरह चहल पहल थी । ड़ाक्टर अपनी ड्यूटी पे मुस्तैदी के साथ महिलाऑ की सश्रुषा मे व्यस्त थी।अचानक वार्ड मे सरगर्म... Read more

गज़ल-सागर ओ मीना

मंजर-ए-तमाशा -ए -दुनिया मेरे आगे होता है हर रोज़ नया तमाशा मेरे आगे इक खेल ए हार जीत है मासूम ज़िन्दगी क़िस्मत भी खिलाती है क्या ... Read more

गज़ल-सागर ओ मीना

मंजर-ए-तमाशा -ए -दुनिया मेरे आगे होता है हर रोज़ नया तमाशा मेरे आगे इक खेल ए हार जीत है मासूम ज़िन्दगी क़िस्मत भी खिलाती है क्या ... Read more