Anshul Kulshrestha

Awagarh

Joined March 2018

Awards:
1st award by QCFI for my poem Save Fuel.

Copy link to share

काश मुझे वो मिल जाते

ज़िक्र उनका आने से पहले, महफिल को छोड़ देते हैं हम ! वो ना रहे नज़दीक हमारे, रह गया बस उनका ग़म !! गमे जुदाई किसे सुनाऊँ, बात समझ न... Read more

मंज़िल

अपनी ख्वाहिशों को अपने हौंसलों की लगाम देदे, तू जाकर अपनी मंजिल को ये पैगाम देदे, कि पालूंगा तुझे इक रोज़ तेरा घौंसला बन कर, तू चा... Read more