आशीष गुर्जर पटेल

साईंखेड़ा जिला_नरसिंहपुर ( म.प्र )

Joined November 2019

I am a writer by profession.

Instagram -iashishgujjar

Ashish gurjar patel was born as in Gadarwara, India.

आपका नाम आशीष गुर्जर पटेल है और आपका जन्म 1 मार्च सन 2000 में देतपोन में हुआ है जो की गाडरवारा के पास है । पिता का नाम श्री अशोक पटेल और माता का नाम वर्षा पटेल आपने अपनी पढ़ाई खैरी के स्कूल शुभम विद्यापीठ से पूर्ण की है।और इन्होंने अपनी आगे की पढ़ाई ( Vedica college of pharmacy bhopal m.p ) से पूर्ण की है।
Books: देहाती की आत्मकथा
छपी नहीं । परन्तु यहाँ टिपण्णी आवश्यक नहीं।

Awards: लेखन में प्रथम स्थान 2018 गाडरवारा (म.प्र) और
भी अवार्ड कभी कभी मिलते रहते हैं। सॉशियल मीडिया की गतिविधियों पर भी ओर ,प्रत्येक्ष समारोह में भी ।
Mobile Number – 9399926349
Email – iaddynagar@gmail.com

Copy link to share

संतुलन

दिल और दिमाग को संतुलित रखिए यही जिंदगी की चाबी है । Read more

सावन गीत

सावन गीत लगे प्यारे , सावन मीत लगे प्यारे पिया छोड़ गए हमको भूल गए अब तो सावन भी हमसे रूठ गए अब तो आजा ओ परदेसी हम तो तुम से ह... Read more

बारात

फूल सबनम में बिखर जाते है । ज़ख्म सारे मरहम में मिल जाते है जब भी तेरी याद आती है तो, हम तेरे गम में डूब जाते है । बात जब बन... Read more

केहत कहते रह गए

छाता , दिमाग जब खुले तभी हो सब काम बंद हुए तो बोझ लागे , कह गए तुलसी राम केहत केेहत वो रह गए हुआ ना कुछ काम अन्तिम घड़ी आई तब केह... Read more

इश्क़ एक जाम है ।

राज जो कुछ भी हो इशारों में बता भी देना दिल में जो है पर्दे दिल के ,वो पर्दे हटा भी देना हमने चखा है अभी तक व्यंजनों का स्वाद ... Read more

हास्य कविता

राज दिल के कोने तक जाते रहे बो हमारे और करीब आते रहे हमने देखा ना प्यार से बरना वो हमको बहुत लुभाते रहे हम मिले थे एक चाट की ... Read more

बलात्कारी हत्यारे

रोते हुए बैठ गया मैं उस जगह जहां एक लड़की किसी जानवर रूपी इंसान की शिकार हो गई इन लोगो को में जानवर भी नहीं बोल सकता क्योंकि इनस... Read more

जीवन पथ

भय नहीं कर चल मुसाफिर, अभी तुझे जाना है दूर कर भरोसा खुद पर, लड़ने को खुद से पाना है तुझे मंजिल को पथ से खुद पर ना कर रेहम हमे... Read more

अपनो से प्रेम

लड़ना चाहता हु अपनो से , लेकिन डरता हूं की, जीत गया तो सब कुछ हार जाऊंगा Read more

इश्क का जाम

मैंने इश्क का जाम तेरे लबों से पिया था प्यार तुमने भी मुझसे बहुत किया था पर तुमने कहा तु था मेरा पिया मैंने किया प्यार, पर तुमने... Read more

मृत्यु की खुशी

आज देखा है मैंने किसी को मृत्यु की खुशी में नाचते हुए देखकर आंखों में आंसू आ गए लोग बेवजह ही बात का बतंगड़ बनाए बैठे हैं । ह... Read more

लेख

तब तक हारना मत छोड़ो जब तक कि तुम जीत न जाओ यही जिंदगी का सिद्धांत है मंजिल को पाने का एकमात्र रास्ता । प्रयास करने से भले ही ब... Read more

कविता

तेरे भीतर की खामोशी को, मैं पहचान जाता हूं तेरे भीतर की रवानी को, भी पहचान पाता हूं। तुझे देखते ही भर गई मेरी आंखे, तू मेरे दिल ... Read more

कविता

देखकर किसी की शख्सियत को सर झुका देना यूं तो आदत नहीं है हमारी देख कर मुस्कुरा देना भी आदत नहीं है हमारी सामने वाले को खुश करने... Read more

कविता

कोशिश करो ऐसी सफलता मिलनी चाहिए अगर ना मिले सफलता फिर भी, हौसला बड़ा चाहिए असफलता भी मिले अगर, अनुभव रहना चाहिए पाना है तुझे मंज... Read more

कविता

किस्मत का भरोसा क्या करना हर कोई बेगाना होता है साथ साथ चलने वाला भी साथ छोड़ देता है ये 21वी सदी है यारा चलता पेन भी धोखा देता ह... Read more

मुक्तक

जिंदगी के सफर में बहुत अजनबी लोग मिलते हैं उनमें से जो खास होते हैं वह हमेशा साथ होते हैं । Read more

रेलगाड़ी का सफर

चलो दोस्तों आज शुरुआत करते हैं रेलगाड़ी का सफर एक नई कहानी से मैं आपके लिए लेकर आया हूं एक जबरदस्त कहानी जो आपको बहुत कुछ सिखाएगी ... Read more

कविता

मुझको टोका है जिसने, उनको दिखाना बाकी है जो समझे कमजोर मुझे, उसे पढ़ाना बाकी है चल पड़ा है तू अब , समस्या आना बाकी है । इरादे ने... Read more

मां के लिए कविता

तू ठंड में सूरज सी किरण तू भारत का है तरुण तू है पास, तू है खास तुझ पर है सबको विश्वास तू गर्मी में पानी की प्यास तुझमें ज्वाल... Read more

जिंदगी एक खाली पन्ना

हर कदम पर टकराए अगर मुश्किलें तू समझ मंजिल के तट पर है रख अपने पैरों पर विश्वास ये ऎतबर तुझपर है । तू जैसा भी लिख तेरी मर्जी ... Read more

मंजिल ही निशा है ।

रास्तों की परवाह नहीं मालूम नहीं कोन दिशा है आगे बो बड़ा है जिन्दगी में जो चंदन की तरह पिसा है तब जाके बो माथे पे सजा है । ... Read more

हरकत दिल की

ये हरकत किसकी है दिल में जो पल रही आग़ किसकी है अरे इस पर कोई पानी डालो जिंदगी हसीन किसकी है । अरे हम जी लेंगे अपनी जिन्दगी ... Read more

हम तो ठेठ देसी है ।

आप सभी महानुभवो का ह्रदय से धन्यवाद । की आप मेरी लिखी हुई कविता लेख गीत को पसंद करते है । तो समय बर्बाद ना करते हुए में अता हूं । ... Read more

पोस्ट थानेदार की

जितनी पोस्टे भैया सरकार की, सबसे कठिन थानेदार की । ( २ ) लफड़ा झपड़ा जब बिध जबे करन रिपोर्ट थाने में जावे, पहले पैसा उते चढ़ाब... Read more

घर से दूर रहने वाले विद्यार्थी को समर्पित

घर जाता हूं तो मेरा ही बैग मुझे चिढ़ाता है । मेहमान हूं यह पल पल मुझे बताता है । मां कहती है, सामान बैग में डालो, हर बार तुम्हारा... Read more

बचपन की कुछ यादें

मेरे साथ कुछ खास हुआ था मेरे दोस्त विकास ने मुझे बहुत अच्छी बात बताई थी बचपन के बारे में वह कुछ इस प्रकार हैं । अक्सर हमको बचपन की ... Read more