आशीष गुर्जर पटेल

साईंखेड़ा जिला_नरसिंहपुर ( म.प्र )

Joined November 2019

I am a writer by profession.

Instagram -iashishgujjar

Ashish gurjar patel was born as in Gadarwara, India.

आपका नाम आशीष गुर्जर पटेल है और आपका जन्म 1 मार्च सन 2000 में देतपोन में हुआ है जो की गाडरवारा के पास है । पिता का नाम श्री अशोक पटेल और माता का नाम वर्षा पटेल आपने अपनी पढ़ाई खैरी के स्कूल शुभम विद्यापीठ से पूर्ण की है।और इन्होंने अपनी आगे की पढ़ाई ( Vedica college of pharmacy bhopal m.p ) से पूर्ण की है।
Books: देहाती की आत्मकथा
छपी नहीं । परन्तु यहाँ टिपण्णी आवश्यक नहीं।

Awards: लेखन में प्रथम स्थान 2018 गाडरवारा (म.प्र) और
भी अवार्ड कभी कभी मिलते रहते हैं। सॉशियल मीडिया की गतिविधियों पर भी ओर ,प्रत्येक्ष समारोह में भी ।
Mobile Number – 9399926349
Email – iaddynagar@gmail.com

Copy link to share

जख्म

दर्द सीने में समा बनके पलने लगे है आंखो मैं आशु अश्क के झरने लगे है जख्म पर मरहम लगाने से क्या फायदा , क्योंकि मुझसे अपने ही आजकल जल... Read more

चारों धाम

तेरी यादों को मेरी मां मैं अपना काम लिखता हूं मेरे हृदय के हर पन्ने पर तेरा ही नाम लिखता हूं मेरे लहजे कि छेनी में गढ़े है सिपु ... Read more

क़तील हवा

बेवजह घर से निकलने की ज़रूरत क्या है मौत से आंख मिलाने की ज़रूरत क्या है सबको मालूम है बाहर की हवा क़ातिल है यूँ ही क़ातिल से उलझन... Read more

भारत वासी की आवाज

वहीं पुराने किस्से दुहराना चाहता हूं फिर से गिर कर उठना चाहता हूं जो मज़ा था पहले मेरे देश में में वही इतिहास दोहराना चाहता हूं ... Read more

काफी है

रुको मैं बताता हूं एक कहानी वो रात थी बड़ी सुहानी हवाओं की थी सनसनी सारी चारों ओर अंधेरा था तू जिसको छोड़कर गई वह दिल मेरा था यह तो... Read more

प्रणाम

रूबरू होने का मौका नहीं मिला इसलिए शब्दों से नमन कर रहा हूं प्रत्येक व्यक्ति कहीं ना कहीं मुझसे श्रेष्ठ है अतः सभी श्रेष्ठ व्यक्तिय... Read more

ज़माना

जैसा सुना और जैसा पढ़ा बेसा ही है ज़माना लोग चाशनी में डुबोकर बात करते है यहां Read more

है कुछ यादे आज भी

शायद अब वो मुझे पहचान ना सके दर्द दिल का वो मेरा ,ना जान सके अल्फाज़ ऎ मोहब्बत, ना बयां कर सकूं ना रो सकू ना केह सकू मोहब्बत क... Read more

जन्म दिन मुबारक हो

ज़र्रे ज़र्रे में शमाई है सनम की बो अदाएं जन्म दिन मुबारक हो, दी थी कुछ दुआए खामोशियां बेरुखी से सीखा "शिवी" मैने जिन्दगी में भर... Read more

सायरी

रुखसत हुआ था इस कदर, जुल्फ घटा हटी जैसे कुछ हुआ था इस कदर , मिटा दो लफ्ज़ अल्फ़ाज़ मोहब्बत के नहीं करनी हमें मोहहब्त इन बेवफाओं से । Read more

दो शब्द एक गीत

में कुछ पहले जैसा हो गया हूं बदलने कि कोशिश भी की पर अब लगता है कुछ ठहर सा गया हूं मुझे पता नहीं क्या हुआ था मुझे लगता है अब ... Read more

देश भक्ति कविता

भिगो कर खून में बर्दी, बो निशानी दे गए हमको मोहब्बत मुल्क से सच्चाई की कहानी दे गए हमको वो थे अमर बलिदानी , जिनके रक्त से भीगा है ... Read more

'"धूल'"

मिट्टी में धूल का होना भी जरूरी है वरना खूबसूरत चीजों को बैरंग करेगी कैसे Read more

हालात ऎ मौसम

इन हालातो को दोष क्यों दे हम हालातो को बदलने में देर नहीं लगती साहेब रही मुस्कान की बात ऎ जाने दिल मुस्कुराना तो तुम ही से सीखा ... Read more

पुरवा की हरियाली तीज

शकुन्त की चहक से ओतप्रोत पुरवा की हरियाली तीज मृण की महक से ओतप्रोत पुरवा की हरियाली तीज शस्य की हरियाली से सुरभित पुरव... Read more

"कितना बदल गया इंसान"

एक हसीन लडकी राजा के दरबार में डांस कर रही थी... ( राजा बहुत बदसुरत था ) लडकी ने राजा से एक ... Read more

"हौसला बुलंद"

कमजोर ना बना इस तरह जिंदगी को ये जाने दिल जल्द आयेगा खुशी का पल चलो हम मुस्कुराहट से शुरुआत करते है Read more

"शिवी कलश"

स्याही ना देखो इस कलम सी धार की कोरे है पन्ने सारे लिखती बारीक सी सहजन तुम लेखनी ऎशे "विशाल" की कलम की तुम नोक हो तुम छत्रसाल ... Read more

"बचपन से सीख"

कभी खो जाता हूं अपने बचपन की यादों में इस कदर मालूम पड़ता है सपना था वह मेरा अब नींद से जागा हूं बड़ी रुखसत के बाद । कुछ अजीब सा ... Read more

"हुनर है मुस्कुराना"

कुछ पल की खुशी तो कुछ पल का गम कुछ पल है भले ही साथ हम जिंदगी इसी का नाम है ना कर कभी आंखे नम मुस्कुराने की वजह कभी तुम तो कभी हम Read more

"बच्ची सी बात"

लोग खामोशी को अपना आशियाना समझ बैठे है तकदीर तो उसने लिखी , और मिटा दी मुझे पता नहीं लोग "बच्ची सी बात" को क्यों गले से लगाकर बै... Read more

"कुछ पल मुमकिन नहीं"

अहम लालच को जरा सा छोड़कर के चलिए हर इंसान अच्छा लगेगा जरा मुस्कुरा के चलिए कुछ लोगों का साथ चलना मुमकिन नही पता है थमा है हाथ तो... Read more

पिता

वो मुझे पोधा समझकर पालना याद आता है वो खेतों मै तुम्हारा काम करना याद आता है वो कंधे पे बिठा मेला घूमना याद आता है मेरे बचपन क... Read more

आशु की शिवी

तू दिल का कारण बनी रहे तुहि कुम कुम बनी रहे तुमहि ऒश ,जाम पिला रही तुहि लाल समुंदर बनी रहे तू हमेशा खुश रहती रहे तू झोको सा... Read more

कल किसने देखा

कभी मतलब से मतलब कि तरफ नहीं देखा कभी जिंदगी को जिंदगी की तरह नहीं देखा मुझे पता है लोग मतलबी है कभी विष को "शिवी,"अमृत सा नहीं ... Read more

किसी की मुस्कुराहट

इन मुस्कुराहटों का राज मालूम नहीं ऐसी मुस्कुराहट देखी नहीं कहीं रखें हो कुछ बात दिल के कोने में भरे ऎसे मौसम की घटा देखी नहीं क... Read more

हिन्दू धर्म

*02* *दो लिंग :* नर और नारी । *दो पक्ष :* शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष। *दो पूजा :* वैदिकी और तांत्रिकी (पुराणोक्त)। *दो अयन :* उत्त... Read more

नया साल 2020

हवा लगी पश्चिम की, सारे कुप्पा बनकर फूल गए। ईस्वी सन तो याद रहा, पर अपना संवत्सर भूल गए।। चारों तरफ नए साल का, ऐसा मचा है हो-हल्... Read more

चित्त की बात

महीने में एक बार बरसो में बार बार मौका जरूर मिलता है अपनी गलती सुधारने का मौका मिले तो उसे चित्त के साथ मौका समझो क्योंक... Read more

तरु के दोहे

पेड़ कहे लकड़हार से तू क्यों काटे मोए एक दिन ऎसा आएगा मे जलाऊंगा तोए ।। मत लगाओ रे मेरे भैया, मन को कछु ना होए ऎसो तो मत करो ... Read more

हे इंसान

हे इंसान.. तू इस रश का ना कर कभी पान अब खोलना पड़ेगा तुझको अपने कान अक्सर सीधे पेड़ जल्दी टूट जाते है इसकी वजह से अच्छे अच्छे रि... Read more

फार्मेसिस्ट

हर दर्द दिल की दवा जाता हूं मैं जो बेह रही है हवा पहचानता हूं मैं मुझे पता है हवा क्यों पलटी है ये मौसम की मार को हटना जानता हू... Read more

जिम्मेदारी एक शब्द

जिम्मेदारी जिम्मेदारी को जिम्मेदारी से लो जो जिम्मेदारी को जिम्मेदारी से ले वो मेरी जिम्मेदारी से वो जिम्मेदार है जो जिम्मेदारी... Read more

रूख

नहीं कर भरोसा तो चलेगा, की रहते हैं भगवान । कर भरोसा इंसान पर, कराता यही जलपान ।। पेड़ सिरा काट दिया ,पर पेड़ रहती हमेशा जान कब स... Read more

कुछ बाते अधूरी

एक तरफ हम और एक तरफ तुम ओर एक तरफ हमसफ़र की यादों की डोरी जो चले साथ जिंदगी के प्यार इश्क़ मोहब्बत न पूरी हा मुझे अच्छी तरह याद ह... Read more

ठंड की यादे

ये कैसी है तेरी मौसम की मार देख के मनमोहक ठंड का हार कही टूट ना जाए यादों कि डाल बस कर अब ये चंचल नील सी नार Read more

लोग अजनबी

घास हरी हो तो ही अच्छी लगती है बस यही बात मुझको यू खटकती है हा है मुझे प्यार तुझसे मानता हूं जिंदा तो हूं पर मेरी जान कही भटकती... Read more

पत्ते है हम

इन पत्तों की तरह बेजान बना दिया है लड़े जो तूफानों सी हवा से पर उनको अपनो ने ही गिर दिया है । बेजान पड़े है वो धारा पर , पर क्... Read more

कैसी है मेरी जिंदगी

ओश की बूंद सी बन बैठी ये जिंदगी तू यूं बेजान मत बन ये जिंदगी जरा उठकर देख तेरे अंगे समुद्र भी खारा लागे तू बुझा सकती है बहुतों की... Read more

इश्क बना दुश्मन

दुश्मन अब रह तु अपनी औकात में रेह के फिक्र है खुशियों की सौगात में कभी आयाना उठा कर देख लीजिएगा जिस वक़्त तू था इश्क़ मेरे साथ... Read more

कुछ पल

वक्त थम सा गया था उस वक्त जब किसी ने बस जाने वाले को रोका नहीं । मुझे पता है लोग जाते है लौटकर आने के लिए पर इसके बीच का वक्त ब... Read more

प्रेमिका

पुरानी मोहब्बत को इस नई ताकत से मत तौलो ये संबंधों की तुरपाई है, षणयंत्रों से मत तौलो मेरे लहजे की छैनी से गढ़े कुछ देवता ... Read more

संतुलन

दिल और दिमाग को संतुलित रखिए यही जिंदगी की चाबी है । Read more

सावन गीत

सावन गीत लगे प्यारे , सावन मीत लगे प्यारे पिया छोड़ गए हमको भूल गए अब तो सावन भी हमसे रूठ गए अब तो आजा ओ परदेसी हम तो तुम से ह... Read more

बारात

फूल सबनम में बिखर जाते है । ज़ख्म सारे मरहम में मिल जाते है जब भी तेरी याद आती है तो, हम तेरे गम में डूब जाते है । बात जब बन... Read more

केहत कहते रह गए

छाता , दिमाग जब खुले तभी हो सब काम बंद हुए तो बोझ लागे , कह गए तुलसी राम केहत केेहत वो रह गए हुआ ना कुछ काम अन्तिम घड़ी आई तब केह... Read more

इश्क़ एक जाम है ।

राज जो कुछ भी हो इशारों में बता भी देना दिल में जो है पर्दे दिल के ,वो पर्दे हटा भी देना हमने चखा है अभी तक व्यंजनों का स्वाद ... Read more

हास्य कविता

राज दिल के कोने तक जाते रहे बो हमारे और करीब आते रहे हमने देखा ना प्यार से बरना वो हमको बहुत लुभाते रहे हम मिले थे एक चाट की ... Read more

बलात्कारी हत्यारे

रोते हुए बैठ गया मैं उस जगह जहां एक लड़की किसी जानवर रूपी इंसान की शिकार हो गई इन लोगो को में जानवर भी नहीं बोल सकता क्योंकि इनस... Read more

जीवन पथ

भय नहीं कर चल मुसाफिर, अभी तुझे जाना है दूर कर भरोसा खुद पर, लड़ने को खुद से पाना है तुझे मंजिल को पथ से खुद पर ना कर रेहम हमे... Read more