Bikash Baruah

Guwahati, Assam

Joined June 2017

मैं एक अहिंदी भाषी हिंदी नवलेखक के रूप मे साहित्य साधना की कोशिश कर रहा हू और मेरी दो किताबें “प्रतिक्षा” और “किसके लिए यह कविता” प्रकाशित हो चुकी है ।

Books:
प्रतिक्षा, 2008 में
किसके लिए यह कविता, 2017 में

Awards:
Attend several hindi camps arranged by Central Hindi
Directorate, New Delhi
Got “KAVYA MEGH” reward from KAVYANCHAL, a jaipur based literary group, at New Delhi on 10.2.2018.

Copy link to share

मैं आजाद हूं!

कैसे कहूं कि मैं आजाद हूं, नजाने कौन-सी सियासत रची जाए अपने ही देश में गुलाम कहलाऊं, बनकर बुथ की तरह यहाँ वहाँ रखा जाऊ... Read more

बेबसी

नजाने दुनिया में क्या हो रहा है चैनो सूकून कहाँ खो गया है, धन दौलत सबके पास होते हुए नजाने सब क्यों परेशान लग रहा है । दुआएं ... Read more

मुक्तक

दिल में हमने चोट हज़ारों खाए हुए है मगर फिर भी जी रहे है एक बुथ की तरह, शिकवा किसीसे क्या करें भरोसा हमने खो दिया सबका बस अंत... Read more

माथे पर शिकन

लो बन गया हमारे माथे पर शिकन चिंता की थपेड़ों से , भूल न करना पहचानना मत कहना भाग्यरेखा इसे; भाग्यरेखा हमारे कहा अभागे जन... Read more

क्या यह ठीक हुआ?

क्या यह ठीक हुआ, जिसकी कोख में पले बढ़े और फिर दुनिया में जनम लिया उसे ही घर से बाहर किया? क्या यह ठीक हुआ, हाथों ने जिसक... Read more

कभी अगर चाहो तो

कभी अगर चाहो तो मेरे बारे में सोच लेना, फुर्सत मिले तुम्हें काश तस्वीर मेरा देख लेना । कभी अगर चाहो तो गम हमसे बाँट लेना, ... Read more

हरेक दिन अमावस

जल रहे है दिए घरों में रौशनी फैलाए, चारों ओर खुशी की रौनक मन हर्षोल्लास पूर्ण सबके; लेकिन फिर भी कहीं किसी कोने में है अंधेर... Read more

किसे कोसूँ

एक तरफ रोकता है यह हाथ जुर्म करने को, वही दूसरा हाथ दागदार है पेट की आग बुझाने को; कभी डरता हूँ लोगों को अपना परिचय देने मे... Read more

दर्द सह लूंगा

दर्द सह लूंगा मैं यूंही जिंदगी गुजार दूंगा मैं यूंही, शिकवा किसीसे कुछ नहीं साया भी छोड़ देती साथ यूंही। बहाऊँ आसूँ क्यों कि... Read more

एक घर चाहिए मुझे

एक घर चाहिए मुझे जो ईंट पत्थर से नहीं बना हो प्रेम जज्बात से, लड़ाई न कोई फसाद हो एकता एवं शांति बिरजते हो, जहाँ नारी-पुरुष... Read more

रावण का वध

कौन कर सकेगा आज रावण का वध, गलि गलि में भरे हुए हैं रावण कितने सारे, लेकिन वध करने उनको एक भी राम आज जनम नहीं ले पाते या... Read more

माँ दुर्गा

कई दुर्गाओं को आज मैंने हाथ फैलाए दुर्गा के सामने ही खड़ी होकर लोगों से भीख मांगते देखा है ; आज दुर्गा शायद कमजोर पड़ गई है,... Read more

वक्त

कपड़ों से तन को ढका जाता है ना कि दिखाया जाता, मगर आजकल यह आलम है सरेआम जिस्म की नुमाइश हो जाता । कोई कहता वक्त का तकाजा ... Read more

गुलशन

गुलशन सजते है गुलों से पतझड़ से, खारो से नहीं। भंवरा कलि को फूल बना देते भले उसकी सच्ची कदर होती नहीं । फूल महल में पले या क... Read more

मैं मृत कहलाऊंगा

शायद यह मेरा अंतिम क्षण है होंठ सुख गए है शरीर शीतल हो गया है बिस्तर पर पड़ा हूँ चलने की शक्ति खो चुका हूँ, मगर फिर भी ... Read more

फूलों की किस्मत

बाग में महकने वाले फूलों को माली संभाल लिया करते है, मगर कीचड़ में उगने वाले फूलों को संभालने वाला माली जग में कहाँ मिलते ह... Read more

गुरबत

फिर एक बार शरत आया है अपने साथ लेकर नवरात्रि का पर्व , चारो ओर चहल-पहल खुशी की है माहौल, रंग बिरंगे कपड़े पहनकर निकलेंगे ... Read more

नेताओं की वाणी

नेताओं की वाणी पर हरगिज विश्वास न करना ऐ मेरे भोले भारतवासी, चुनाव से पहले जो कहते वादा जो करते भूल जाते, पहले चार वर्ष वह... Read more

मोहब्बत

लड़खड़ाता है होंठ मेरा जब भी दिल की बात जुबान पर लाने की नाकाम कोशिश करता हूँ, बड़े अदब से पास उनके जाता तो हूँ मगर पसीने म... Read more

स्वार्थी

कौन कहता है कि वह स्वार्थी नहीं, मुझसे पूछो अगर मैं कहूंगा तुमसे संसार में रहने वाले हर एक है स्वार्थी, ममता के लिए अगर ... Read more

एक तिली हूँ

यह सच है मैं एक तिली हूँ, मुल्य मेरा कुछ नहीं , अस्तित्व मेरा है और ना भी, मगर फिर भी काफी हूँ मैं , सबकुछ राख में तब्दी... Read more

कोशिश

तपती सड़क पर नंगे पाँव चलना उतना ही मुश्किल जितना महाकाश में नए ग्रह तलाशना , लेकिन असंभव नहीं संभव सब कुछ हासिल कर पान... Read more

हिन्दी मेरी प्यारी

सारे जहाँ से अच्छा हिंदी और हिन्द हमारा, हमें नाज है दोनो पर आला भाषा है यह और आला देश हमारा; भाषा हिन्दी है ऐसी जो सबको ... Read more

पानी

कहीं पर बूंद बूंद पानी के लिए तरस रहे लोगों की कतार दिखाई देती, तो कहीं लोग बेझिझक व्यर्थ में ही उसे जाया करती; कुछ लोग पा... Read more

मुक्तक

भगवान् को खोजे मंदिर में अल्लाह को खोजे मस्जिद में, पर इंसान को कोई न खोजे जो काम आए दुख-सुख में। Read more

आपकी बेवफाई

जरा सी बात पर आपको क्यों इतना गुस्सा आया, यकीन था हमें आपकी वफा पे फिर क्यों हमें रुला दिया । आपको गर हमसे कोई शिकवा था आप ... Read more

घृणा

घृणा करो अगर घृणित न हो, घृणित होकर अगर घृणा करोगे किसीसे तो मूर्खता होगी तुम्हारी; आदमी होकर अगर आदमी से ही घृणा करोगे ... Read more

जुनून

ऊँची इमारतों को देखकर चक्कर आना कोई मेरी कमजोरी नहीं बल्कि नादानी है, क्योंकि ख्याली पुलाव कभी पकते नहीं और जागकर सपने ... Read more

घुटन

आजकल कुछ घुटन सा महसूस होने लगा है अपने ही घर में अपनों के बीच रहकर, शायद उन्हें नागवार हो अब मेरी हरकतें, उलझनें और परेशा... Read more

महसूस

तुम क्या जानो मेरे दिल को तुम्हारी कौन सी बात चूभ गई है, बेखबर सी रहती हो फुर्सत नहीं है किस कदर परेशान हूँ तुम्हारी बेअ... Read more

अत्याचारी

अत्याचारी!तुम लाख करो अत्याचार नहीं टूटेगी हमारी सहने की डोर, हमारे खुन का एक कतरा भी तुम्हारे खिलाफ नहीं मचाएगा शोर । अत्य... Read more

अत्याचारी

अत्याचारी!तुम लाख करो अत्याचार नहीं टूटेगी हमारी सहने की डोर, हमारे खुन का एक कतरा भी तुम्हारे खिलाफ नहीं मचाएगा शोर । अत्य... Read more

कटोरा

कटोरा सिर्फ पात्र नहीं खान-पान की व्यंजन परोसने के लिए, कटोरा पहचान भी हो सकता है भिन्न-भिन्न जनसमुदाय का; एक समुदाय बाँट... Read more

तलाश

राह मिल नहीं रहा , भटक रहे है सब रोशनी की तलाश में, दिन के बाद रात रात्रि के बाद प्रभात हर लम्हा सिर्फ एक खोज ऊजाले की, ... Read more

जिन्दगी का राज

कल जो हमारे साथ चला करता था ऊंगली पकड़कर, आज कतराते है वह हमारे हाथ थामने को, टाल देते है हमें अक्सर किसी बहाने से , साम... Read more

दोमुहे चरित्र

पुरुष हो या नारी हर एक व्यक्ति के दोमुहे चरित्र होते है, जो सिर्फ कभी-कभी उजागर होते है; यहाँ तो मुँह में राम राम और बगल म... Read more

एक शुद्ध सवेरा

आज मिली मुझे एक शुद्ध सवेरा, ठंडी हवा का झोंका नर्म धूप सुनहरा; खुशबु बिखेरता फूल चारों तरफ हैं खिला, चिड़ियों की चहचहाटे... Read more

गंगा और भगीरथ

हे! पुत्र,हजारों साल पहले तुमने मेरी तपस्या कर जग एवं जनकल्याण हेतु मुझे बुलाया धरती पर, परंतु स्वार्थी ये मानवगण शिखर पर ... Read more

बद

बद-वाक् और बद-भाव बदतर मनुष्य का आविर्भाव, बदतर खान-पान और पोशाक बदतर बना जाति का चिह्न-स्वभाव; बदतर भाषा और संस्कृति बदतर... Read more

प्रतीक्षा

बैठे है सड़क के किनारे सब्जियों में अपने गमो को छुपाकर, आँखे बिछाए ताँक रहे है शायद आ जाए कोई उनके गम को खरीदने बदले में ... Read more

कदम बढ़ाए चलो

प्रेमचंद की 'कफ़न' की सच्चाई इस युग की है कहानी, जानवर से बदतर बन गया आदमी देख पछताता खुदा आसमानी । रंग जमाई बच्चन की 'मधुशाल... Read more

मैं तुम्हारी सुनहरा अतीत

मैं तुम्हारी सुनहरा अतीत, जब कोई तुम्हें आघात दे दिल को तोड़ दे, मायूस न होकर देखना एकबार मेरी तरफ मन की आँखे खोलकर; मैं ... Read more

जय भारती

क्यों न करूँ मैं गर्व देश पर, धन्य हुआ मैं यहाँ जन्म लेकर, गीत गाऊँ मैं अपने देश के, गर्व से कहूं जय भारती! जय भारती! ... Read more

कुम्हार

मिट्टी के बर्तन बनानेवाले कहलाते है वे कुम्हार, पृथ्वी की रचना करनेवाले भगवान को भी देते आकार; क्या गरिमा है उसकी हमसे न पू... Read more

अधिकार

आसमान को छत समझकर फुटपाथ को बिस्तर सा सजाकर लोग जो बस रहे हैं जहाँ में , अरमान उनके भी है दिलो में आहट उनके भी है कदमों में,... Read more

मैं जिंदा हूँ

मैं जिंदा हूँ क्योंकि मुझ में अभी साँस बाकि है, मैं जिंदा हूँ क्योंकि मुझ में अभी आश बाकी है, मैं जिंदा हूँ क्योंकि मु... Read more

एक चेहरा

एक चेहरा खूबसूरत सा जैसे कोई गुलाब लहराता, सभी चाहते उसको पाना मुश्किल हुआ उसका जीना, लोग दौड़ते उसके पीछे दामन बचाकर वह भा... Read more

एक कुर्सी

घर में परा है एक कुर्सी, टाँग टूट चुकी है जिसकी; बैठ नहीं सकता है वह, किसीको बिठा भी नहीं पाता वह; उसकी मरम्मत हो नहीं सकती,... Read more

नाथूराम ने किसको मारा?

नाथूराम ने किसको मारा ? एक आदमी की देह को, जिनकी आत्मा उन्हें पहले ही छोड़ चुके थे, वे हमारे बापू नहीं थे; नाथूराम ने एक कंक... Read more

पहाड़

मूर्खता की दौड़ मेें जब तुम नंगे थे कपड़ा पहनना भी तुम्हें नहीं आता था, हम उससे कई युग पहले ही से लिबास पहने हुए थे; अब ... Read more