Simmy Hasan

ballia. (Up) Hasansimmy@gmail.com

Joined March 2018

Urdu and hindi poetry writer

Books:
Non

Copy link to share

ज़ुल्मत

घर से निकल रहे हो इतना खयाल रखना ज़ुल्मत की इंतेहा है तुम एहतियात रखना दाढ़ी और टोपियों से जलती हैं जिनकी जाने निकले हैं भेड़िए ... Read more

चलन

कुछ जाने पहचाने लोग बहुत डराते हैं की अंदर तक सहम जाए मन दिल जैसे कोई भींचे मुट्ठियों में बेल्ट, चप्पल, जूते सबसे खतरनाक की इ... Read more

शिलालेख

मैं अगर थोड़ी मजहबी नहीं होती तो अपनी कब्र पर एक पत्थर लगवाती शिलालेख जैसा कुछ और उनसब के नाम भी जिनसे मैं प्रेम करती थी और बदल... Read more

डर

वे डरते हैं। वे डरते हैं अमन से, एकता से, भाईचारे से.. विद्यार्थियों से, विद्वानों से, शिक्षाविदों से.. अधिकारों के लिए उठती हु... Read more

बरहना लाशें

नाज़ों से पाली हुई पलकों पे सजने वाली माँ की परछाईं बाप की जान जब टुकड़ो में उठाई जातीं हैं या आधी रात मार कर जला दी जाती हैं ... Read more

यहोवा

यहोवा! मैंने स्वयं नहीं चुना था खुद को न अभिलाषा थी किसी जीवन की न चाहा यूँ खुद को घोंटते हुए जीना की स्वयं को पल पल मुरझाते हु... Read more

शेर 2

चाक कर डाला कलेजा चीख़ कर तन्हाइयों ने, कब तलक हम याद की मरहम लगाते चाराग़र.. Read more

तिरंगा

वो लड़े पर झुके नहीं लड़खड़ाए, पर गिरे नहीं कुरबां हुए वतन पर और लुटा गए अपनी मुहब्बतें आजादी की शक्ल में हमारे आजाद मुस्तकबि... Read more

वादियां

अपनी मस्ती में कोई दीवाना, गीत उल्फत के गा रहा होगा.. या कोई परवाना किसी शम्मा को, वफ़ा ए मुहब्बत सीखा रहा होगा.. चाँद फिर चांदनी... Read more

वबा

रोज़ ब रोज़ लोग मर रहे हैं कुछ वबा से, कुछ भूख से कुछ सपनो के मर जाने से और कुछ उन बंदिशों से जो तुमने लाद रखे है उनपर की लोग बेग... Read more

बचपन

चारदिवारी में कैद अक्सर मुर्झा जातीं हैं नन्ही कलियाँ की बचपन डरा सहमा सा झांकता दीवारों के उस पार देखता है रंगीन तितलियां खूब... Read more

बलिया

बाग़ियों की सर ज़मीन, सौ बार तेरा शुक्रिया.. सुर्खरू हैं हम की हमने, जन्म बलियाँ में लिया.. सौ बार तेरा शुक्रिया.. सौ बार तेरा शु... Read more

शेर1

रूह का पैरहन उतार फेंका है जिस्म बोझिल सा हो गया था मेरा Read more

सुनो दोस्त

सुनो दोस्त हाशिए पर चलना छोड़ो तलाशों अपनी राहें दिल की सुनो और मौका मिलते ही निकल भागो कहीं दूर जहां महसूस कर सको खुद के पंख... Read more

महानता

सुनो किसे पुकारती हो तुम इस बियाबान में ये जंगल इंसानों का है हर एक सुनाना चाहता है बस अपनी ही और इस शोर में क्या तुम कह सकोग... Read more

ये बनिहारिने...

धान रोपने जाती बनिहारिनों की कतारें भींगतीं जातीं, गाती जातीं गीत....जो बरसो से है उनके होंटों पर ओर हर साल की बारिश में मचल उ... Read more

सिपाही

सुनो सिपाही कुछ सुनाओ न अच्छा सा झरबेरियों पर उगी खट्टी मीठी बेरियों पर बच्चों के पत्थर और बया के घोसलों के बारे में या उस ज... Read more

टूटे पत्थर...

हथौड़े का भार , यूँ तो कम नहीं.. पर कंधे पर, जिम्मेदारियों की गठरी.. भारी है , इस लोहे के बोझ से.. जिससे तोड़ पत्थर, खरीद सकती ... Read more

वो एक दिन।

वो एक दिन जिसके इंतज़ार में हमने हज़ार रातें रो रो काटी हैं उससे कहना कि जिसने चाहा था उस एक दिन को हज़ार रातों में हयात ए बेसबाती... Read more

अंधेरे

डूबते सूरज की तरह आकाश से दूर एक छोर पर खो रही हूं या उग रहीं हूँ नहीं पता पर थकन इतनी की अब जी चाहता है बस उतार दूं ये लबादा ... Read more

"तारा"

वो टांक रहा था बड़ी नफासत से, आहिस्ता आहिस्ता.. आसमान के आंचल में रात के अंधेरों तले चाँद सितारे छिड़क रहा था दरियाओं पर कहकश... Read more

अंगूठा..

दोस्त बिछड़ गए थे मन में कुछ सवाल थे झिझक और डर भी ये वही दोस्त थे जो हमसे ज़्यादा हमे जानते थे हमारे दिल से लेकर ज़हन तक जिनको ह... Read more

स्त्री

गावँ की कच्ची सड़क पर टहलती उस वृद्धा से अनायास ही मिली थी और ठहर गयी कुछ क्षण 70 पार मृदुल स्नेह वाली जीवन के इस ठहराव पर भी ज... Read more

सत्ता

जब निरंकुश लिप्साओं के पुजारी, मानव वेश में स्वघोषित, स्वचयनित, आसीन होते हैं, एक मर्यादित स्थान पर.. गूंज उठती हैं चीत्कारें... Read more

वो लड़कियां

वो लड़कियां जो अब भी हैं पर हमारी ज़िन्दगियों में नहीं दूर हैं एक बहन होने से या एक बेटी पर अब भी किसी की बहू किसी की बीवी हैं औ... Read more

मन की गिरहें..

मन की गिरहें, यूँहीं नहीं बनती की हर गिरह का.. अपना दर्द है अपनी कहानी , और ये गिरहें इस तरह चुभती हैं , की छीन लेती हैं ... Read more

ऐ मेरी रात...

रात मेरी जान तू क्यों बेज़ार नज़र आती है सोगवार सी हर रात तू बेचैन गुज़र जाती है लग के सिरहाने से हर रात तू सिसकती है सहर शबनम लिए आ... Read more

मेरे ख़्वाब..

ख़्वाब और हक़ीक़त मेरे लिए दोने एक से हैं शाम के अंधेरों के साथ जब खत्म हो जाती हैं उम्मीदें.. तो रात सितारों की छावं चाँद को निह... Read more

माँ

दूर जाते हुए मुड़ कर देखा था तुझे और पाया मुस्कुराते हुए वही फीकी सी मुस्कान जिसे पहचानती हूँ उन दिनों से जब तुम कह देती ... Read more

ज़िंदगी

खुद को कुछ मोहलत तो दे कर देखते, ज़िन्दगी कुछ और जी कर देखते... मौत किस मसले का हल है, ज़िन्दगी बन कर कभी तुम देखते.. ग़ुम हो गए ले... Read more

इंसान

रंजिशों नफ़रतों के दाग़ लिए सूनी आँखों में टूटे ख़्वाब लिए देखो कराहता है हिंद का दिल यकजहती की मुर्दा लाश लिए एक तो फैला है क़हर क़ु... Read more

समंदर पार

हमे लगता था समंदर पार जो एक दरिया सा बहता है जहां रहतीं हैं कुछ परियाँ जहां नग़मा सा बहता है मिलोगी तुम वहीं पर ही किसी फूलों के... Read more

बाबा

बस वही एक चेहरा है जाना पहचाना सा जो मेरी उम्र के साथ बदलता गया शदाबी से झुर्रियों तक पर मेरे लिए मुहब्बतों के रंग कभी मुर्झ... Read more

लिखती हूँ

लिखती हूँ , जो लिख सकती हूं पर अक्सर जब नहीं लिखती तो पढ़ रही होती हूँ हवा की सरसराहट रात का मद्धम गीत ख़्वाबों का तिलिस्म उगते... Read more

भगवान

मेरे हिस्से का भगवान अंधा बहरा दिल का खुरदुरा दिल की नरम रेत पर खींचता है पत्थर से लकीर फिर उन पत्थरों को एहसासों के समन्दर ... Read more

आइन

आईन के मुहाफ़िज़ सड़को पे लड़ रहें हैं तालिब मुहब्बतों के तख्ती लिए खड़े हैं हर एक का वतन ये हर एक का चमन है हिन्दोस्तां के बुलबुल मशा... Read more

कलयुगी रक्तबीज

उग रहें हैं रक्तबीज की तरह एक के बाद एक संविधान के हर गिरते लहू के साथ थामते जाते एक दूसरे का कन्धा की लड़खड़ाते हाथों की पकड़ क... Read more

वजूद

अक्सर ढूंढती हूँ अपना वजूद, एक बेटी की तरह.. एक बहन की तरह, बड़ी हसरत से.. बड़ी बेचैनी से, और पाती हूँ बस ; खुद को तन्हा.. बेबस... Read more

चाँद

चाँद जैसे निर्जर वृक्ष का, एकलौता फल। जो ऊगा है सांझ की बेला में.. रात की शोभा बढ़ाने, की कम हो अंधेरा... ताकि न करना पड़े, जुग... Read more

ये राजनेता

एक वेश्या भी धंधा करती है, पर देह का.. क्योंकि पेट का सवाल उसे स्त्री से, वेश्या बनने को करता है मजबूर .. पर ये राजनेता, देह ... Read more

बच्चा गरीब का

अचानक से हुमकते, ज़िद करते नन्हे बच्चे, बड़े हो जाते हैं। जब बाप के पैरों के छाले, उनसे लाख छुपाने पर भी, नज़र आ जाते है। खुद के ... Read more

विधवा जनता..

जनता जैसे कोई जवान विधवा, सब्ज़बाग दिख कर सुहाने दिनों के.. राजनेता हर पांच साल के लिए, पटक देतें हैं लोकतंत्र के बिस्तर पर, और त... Read more

अरमानों की बरसी..

"बांध लेते हैं अक्सर, धड़कते दिलों के गीत.. अपनी सहर भरी , मीठी आवाज़ों में.. जिन में हल्की सी , थरथराहट के साथ.. मचलते हुए अरमा... Read more

जनपथ ..

जनपथ.. जिस पर चलते हुए, देश की जनता.. करती है तुम्हारा सम्मान, क्योंकि एक गौरवशाली.. मर्यादित स्थान, जिसपर राज कर गयीं.. न जा... Read more

अनाथ

सोच रही हूं, मरने से पहले .. अपनी कब्र , फूलों से सजा दूंगी.. और कुछ पैसे पेशगी में, माली को दे कर .. वसीयत कर जाऊंगी, की मेर... Read more

एक दिन ..

एक दिन जब तुम जागो, और मैं न मिलूं कहीं भी.. न मेरी कोई खबर , मत ढूंढना मुझे.. उजालों में दिन के, न दुनिया के किसी कोने में.. ... Read more

बुरा वक्त

बुरा वक्त जिसमे, छोड़ जाता है भगवान भी.. कोई मन्नत ,कोई दुआ ; काम नही आती.. ऐसे में हम उनसे, क्यों रूठे? जो हमारी खुशियों में , ... Read more

ये मजदूर

गर्मी की शिद्दत से नींद टूटी, लाइट चली गयी थी। अभी जाना था इसे भी; ऊपर से रोजा.. मन उखड़ा उखड़ा सा था कि, औरतों के हंसने की आवाज़े... Read more

उपभोग की वस्तु "औरत"

कला और साहित्य दोनों ने औरत को निखारने के नाम पर उसे नंगा किया, बजाए इसके की वो उनमे आत्मविश्वास भरता, उनके भीतर छिपी हुई कुशलता को ... Read more

अबोध मन..

अबोध मन.. आज फिर ज़िद पे अड़ा है, जाने कैसी? आज फिर से कैद, मन की अंधेरी कोठरी में, आंसू बहाना चाहता है... जाने कैसा बोझ मन म... Read more