है कितना बेहतर जीवन मेरा(माँ)

है कितना बेहतर जीवन मेरा पल पल मैं ये कहता हूँ सुख है दुःख का पता नहीं क्योंकि माँ की शरण में रहता हूँ मिला मुझे जीवन में सब क... Read more