Hardik Mahajan

Khargone Madhya Pradesh

Joined November 2018

Writer

Copy link to share

पर्यावरण दिवस कि हार्दिक शुभकामनाएँ

विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून 2019 पर्यावरण दिवस कि हार्दिक शुभकामनाएँ।। 🌲🌱🌴🌳🌵🌿🌾🌷🌻🌳 आओ चलों पर्यावरण को मिलकर बचाये...!!! आओ मिलकर... Read more

ख़ामोशियाँ कुछ कहती हैं।।

ख़ामोशियाँ कुछ कहती हैं,, अनदेखी अनसुनी दास्ताँ बयाँ करती हैं,चुप रह कर भी बहुत कुछ कह देती हैं, कितने होते दुख के सायें फ़िर भ... Read more

मेरी कविता माँ

जब माँ की कौख में था, तब माँ ने नौ महीने संभाला, जब जन्म हुआ, तब माँ ने साथ दिया, माँ ने वो आँचल में छाव दी, माँ ने वो आँचल मे... Read more

मेरी कविता माँ

I❤️love❤️ mom मदर्स-डे की हार्दिक शुभकामनाएँ ना ही अपनों से खुलता हैं, ना ही गैरों से खुलता हैं, ये जन्नत का दरवाज़ा हैं, जो माँ... Read more

मेरी कविता

किस तरह से आगाज़ करूँ.... मैं तुम्हें आज़ाद करूँ.... मैं बंद पिंजरें की कैद, अब अब तुम्हें आज़ाद करूँ.... तेरा जो अंजाम नहीं, उसे ... Read more

मेरी कविता

तूम तोड़ गए.... हम टूट गए.... तूम रुक गए.... हम रुक गए.... तूम मोड़ गए.... हम मूड़ गए.... तूम थम गए.... हम ठहर गए.... त... Read more

मेरी कविता

जब मौसम हो सुहाना तो, खुशियाँ ही खुशियाँ हो, हसीन मंज़िलों के जैसे, खुबसूरत सा सफ़र हो, सारे जहाँ में लिखा, जो मैंने पैगाम तुम्हा... Read more

मेरी कविता

दुनिया में रहने के लिए दो ही जगह अच्छी है , किसी के 'दिल' में या किसी की दुआ मे . दिल तो हमारे नसीब नही, बस दुआ मे याद रखना !! जरुर... Read more

मेरी माँ मेरी कविता

काश कहीं खामोशी कि भी दुकान होती.... ओर मुझे उसकी पहचान होती..... खरीद लेता में वो खुशियाँ आपके नाम, चाहे उसकी कीमत मेरी जान क्यो... Read more

मेरी दोस्ती मेरा प्यार

मित्र वह चित्र हैं,जिसके रंग विचित्र हैं,मित्र वह इत्र हैं, जिसकी खुशबू पवित्र हैं,मित्र वह पात्र हैं,जिसमें प्रेम एकत्र हैं,मित्र ... Read more

मेरी कवितादोस्ती

दोस्ती मोल नहीं अनमोल हैं...... रिश्ते मोल नहीं अनमोल हैं..... कुछ दोस्ती में,कुछ रिश्तों में मिठास हैं..... कुछ दोस्ती कुछ रिश्त... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

गुम हो जाते हैं अपने सब,फिर फिर झुठ बोलकर छोड़ देते हैं हाथ हमारा, क्या रखा हैं,जीने में, न आज न कल बस बेबसी हैं,सीने में,आज भी जन्नत... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

माँ ज़िन्दगी का हिस्सा हैं,माँ का प्यार चाय की प्याली के जैसा, मीठा हैं,माँ कोमल हैं,माँ ममता की प्यारी हैं, माँ जीवन हैं,माँ सुनहरे ... Read more

मेरी कविता

बदल रहा मौसम भी खुशनुमां हैं, बादलों के सायों ने घेर रखा, ठंड सी ठंडी हवाओं का बसेरा, बागों में फुलों के रंगीन नज़ारें, गुनगुनाते... Read more

मेरी कविता

जंजीरों कि लिखि जंजीरे सभी है, आलम अरमान सारे किस्सों में हमनें लिखें है, Read more

26/11 के उपलक्ष्य में मेरी कविता

🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳 Today, 10 years have passed since 26/11. Let us all pay tribute to our hearts and hearts in rememb... Read more

मेरी कविता

"जब सुहानी हवायें बह रही होगी!" "तब तेरे कानों में कुछ कह रही होगी!" "भीड़ तो होगी तेरे आस-पास बहुत!" "तन्हाई तेरे आस-पास रह रही ह... Read more

मेरी कविता

ज़िंदगी कि देन हैं, घड़ी वक्त की सेन हैं, कब आ कर रुक जायें, ये तो उसकी रेन हैं, काफ़िलानों से गुज़रें ये लम्हें आपके हज़ार हैं, कभ... Read more

ए मेरे वतन के लोगों जरा आँख में भर लो पानीजो शहीद हुए हैं उनको जरा याद करो कुर्बानी

🇮🇳!!जय हिंद!!🇮🇳 🇮🇳!!जय भारत!!🇮🇳 26/11 is completed 10 years, then we all bow down to the brave soldiers together !! 26/11 कल ... Read more

मेरी माँ

माँ तू चाँदनी सी चमक, माँ तू रोशनियों सी रोशनी, माँ तू लहर सी लहरायें, माँ तू झरने सी झर-झर बहती जायें, माँ तू बादलों पर भी हवाओ... Read more

मेरी कविता

अजनबी होकर भी अपने ही होते हैं..... जो ज़िन्दगी भर अपनों को खुशियाँ देते हैं.... सारे आँसू सारे दर्द अपनों को जब अपनों में देते हैं... Read more

मेरी कविता

मैंने हँसते हँसते ज़िन्दगी से पूछा हैं, ये क्या हों रहा हैं....? ज़िन्दगी से मुझे बहुत सुंदर जवाब मिला, दिल पर हाथ रख कर मैंने खुद ... Read more

मेरी कविता

अपनों से ज्यादा परे नहीं होते, लम्हों से ज्यादा समय नहीं होता, काँच के छोटे छोटे टूकड़े बिखरें हुये जुड़े नहीं होते, अफ़सोस से ज़िन्द... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

माँ सुनहरे से जीवन का सुनहरा सा हिस्सा हो तुम, माँ हरीभरी शाखाओं का हराभरा स्नेह हो तुम, माँ तेरे प्यार का क्या कहना तेरे प्यार मे... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

माँ आसान नहीं सब मंज़र हैं...... माँ तेरी कमाई जो दौलत हैं....... माँ तखदिर नहीं तख्शियत हैं...... माँ आसान नहीं सब मंज़र हैं......... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

माँ ही संसार जीवन हैं, माँ का जीवन ही संसार हैं, माँ से बड़ा इस संसार में कुछ नहीं हैं! Read more

माँ

माँ-माँ खुशियों कि नगरी हैं,माँ जिंदगी का हिस्सा हैं, माँ बचपन से बड़ो तक सबकी अपनी पहचान हैं, माँ खुशियों कि पवित्र, शीतल सी सूंदर ओ... Read more

माँ

माँ-माँ का क्या कहना हैं!माँ तो माँ हैं, बचपन से साथ हैं,उम्मीदों से व्याकुल हैं,सुनहरी सी कोमल हैं!सबसे प्यारी माँ हैं,हर दिन हर पल... Read more

मेरी कविता

आपसे जुड़े अल्फ़ाज़ों कि हैं...... नादानी,आपसे मिली उम्मीदों कि जो हैं...... कहानी, इधर-उधर से लेकर मिला जो हमें बहुत सारा प्रेम हैं.... Read more

मेरी कविता

तेरे हर लफ्ज़ कि महफ़िल पर में हूँ..... तेरे हर दिल के दर्द में में हूँ..... तू रेत के जैसी रेतीली सी, में हवा के जैसे हवाई सा, तू... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

यादों कि कश्ती हैं.... दूरियों कि बस्ती हैं..... खूबियों कि परी हैं..... नजरों कि भी नजरें हैं... आँखों कि प्यारी सी कली हैं....... Read more

मेरी कविता

दुनिया में कितने भी लोग बदल जायें ! पर हम जैसे हैं ! वैसे ही रहेंगे ! ना जाने कितनी भी दुनिया बदल जायें ! एक सर्वश्रेष्ठ जो स्वयं ह... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

माँ तेरे हर लफ्ज़ महफ़िल पर में हूँ..... माँ तेरे हर दिल के दर्द में में हूँ..... माँ तू रेत के जैसी रेतीली सी, में हवा के जैसे हवा... Read more

मेरी कविता मेरी माँ

तेरी यादों में पल-पल ज़िन्दगी रोती हैं..... फ़ासलों से उलफ़्तों तक ये आँसुओं कि नदियाँ बहती हैं.... मिट्टी कि खुश्बू ये कहती हैं........ Read more

मेरी कविता

मेरे नये अंदाज़ हैं, अब अंदाज़ों में रहने दों, बढ़ रही दिल में खुशियों कि उमंग, अभी उमंगों में ही रहने दों, मौका मिला अभी मुझे हैं,... Read more