Software Developer by profession, Writer from my heart.
Love English, Hindi and Urdu literature.

Copy link to share

शाम आखिरी हो |

मत रूठा करो मुझसे यूं तुम क्या पता मेरे होठों पे ये तुम्हारा नाम आखिरी हो | यूं तो हजारों लोग मिलते हैं मील के पत्थरों की तरह ... Read more

बात बाकी थी

कहां चले गए थे तुम। मुझे अकेला छोड़ के।। अभी मेरी बात बाकी थी ।। रोशन बेशक थे चिराग । अधेंरी रात बाकी थी ।। अभी बहुत दूर ज... Read more

दर्द बाहर निकले लगा

है जो सीने मे दर्द भरा लिखने बैठा तो बाहर निकलने लगा | बरस बीत गए इसे संजोते संजोते बचपन मैं थोड़ा कम हो जाता था रोते रोते |... Read more

तुम हो

क़ज़ा भी तुम हो हयात भी तुम हो डायरी के पन्नों पर उतरे लफ्ज़ भी तुम | सर्द मे खिड़की से आती मीठी धुप सी तुम खलिहानो मे आयी नयी फ... Read more

मेरा एक दोस्त खो गया है (नज़म )

पता नहीं कहाँ गुम है वक़्त की गलियों मे वो ही गलियां जिनका शोर मुझे रात भर सोने नहीं देता कैद है नीदें एक अरसे से किसी कारागाह मे... Read more