Govind Kurmi

सागर

Joined November 2016

7509786197
8770267644

Copy link to share

डरना कैसा ?

इरादे नेक हैं ना ? तो डरना कैसा ? मुहब्बत की है ? तो मरना कैसा ? वादे कर लिए ना ? 7 जनमों वाले दिल से किये ? तो मुकरना ... Read more

राज की बातें

जख्मों को पर्दा किऐ एक लिबाज की बातें हैं मुहब्बत तो कल थी पर ये आज की बातें हैं अरे जाओ भाई इठलाते दिलों की समझ से परे ब... Read more

वो गलियां मेरे गांव की

जब सूखी बंजर आंखों मे़ं यादों की गघरी भर सी जाती है यारों के संग खेलने की फिर ख्वाहिशें संवर सी जाती हैं जब अकेले खाना खाने म... Read more

पेशा तो बिलकुल भी नहीं है

तेरी वाह की भूख नहीं शायरी शौक है बस कोई पेशा तो बिलकुल भी नहीं है दर्द इश्क आंखें नम भी हैं पर कोई हुस्न को तरसी हो , ऐसा तो... Read more

? ? ? ? ? ? ? ?

कुछ ख्वाबों से ऊब गये क्या कहीं और सपने बुनने लगे हो मुहब्बत सच्ची नहीं लगती ? गैरों को जो गौर से सुनने लगे हो सब कुछ खोया... Read more

मुक्तक

सीने में फकत एक जान पर जान फना कर बैठे हैं मेरी सुबह के ख्वाब तुम्हें हर ख्वाब बना कर बैठे हैं यूंतो नाराज खुदा हमसे क्यों सजदा ... Read more

इबादत बन चुकी है

कोशिश दिल्लगी की अब मुहब्बत बन चुकी है मतलब की थी जो यारी अब आदत बन चुकी है सोचा तो था बस खेलेंगे उनके दिल से पर मासूमियत उनके इश... Read more

मे़ं आवारा नहीं मां

चला जा रहा हूं पर कोई नजर ही नहीं आता बोलते तो सब हैं पर साथ कोई नहीं निभाता दुआऐं जो साथ तेरी मंजिलें पा जाउंगा जानता हूं ... Read more

एक चाह

दीदार तुम्हारा हो हर दिन . . . . पूरी एक चाह हमारी हो जो डगर तुम्हारे तक जाऐ . . . . वो अंतिम राह हमारी हो तेरे ... Read more

शिव

त्रिलोकीनाथ तुम त्रिकालदर्शी आनंद करुणा से तुम भरे हो तुम्ही हो पालक तुम्ही संचालक तुम्ही संहारक रूप धरे हो हो तीनों लोकों... Read more

डर सा लगता है

खामोशियां ही तो पहचान थी मेरी आजकल तो इन्हीं से डर सा लगता है सच कहूँ जान अब आपको खोने से डर सा लगता है बात बात पर लड़ना ... Read more

चांद

चांदनी रात है चांद ऊपर नहीं ।। ढूंढो ढूंढो सखी होगा भीतर कहीं ।। छुपके आया मगर है ये सबको खबर हो परदेशी भला उसका पीहर यहीं ।। Read more

कहां है ?

भर सके मेरे जख्मों को ऐसा कोइ मरहम कहां है वो शर्माते है नखराते है कुछ इस तरह तड़पाते है मेरी ख्वाहिशों पर तरस खाये ऐसा रिवाज... Read more

मैया मोरे घरे चली आइयो हो मां - बुंदेली भगत

मैया मोरे घरे चली आइयो हो मां बाठ हेर रये मां भगत तुमारे निस दिन मैया सांझ सकारे सो अब ओर इने ना तरसाइयो मैया मोरे घरे चली आ... Read more

तुम ही हो

मेरी धड़कन की आवाज तुम ही हो मेरी हर सांस का राज तुम ही हो धीरे धीरे पर एकदम ही जुदा बदलते जा रहे नये अंदाज तुम ही हो जबसे दे... Read more

आशिकी कर बैठे हैं

जख्म पे जख्म मिल रहे , पर जी कर बैठे हैं मुहब्बत के जहर को , पी कर बैठे हैं शिकायतें लाखों करनी हैं उनसे पर कहीं खो ना दूं , लब... Read more

दिल टूट गया

पागल बाबू जान कहने वाले कुछ महीनों से सीने में रहने वाले आज दूर हमसे जा चुके है नजरें मिला पा नहीं रहे कहते वो हमें भुला चुक... Read more

में बेरोजगार हूं

ये दुनिया चोरों की बस्ती है हर नजर यहां पर डसती है हर कदम हमारा रोका है हर हार पर मेरी हंसती है सब कहते है में बेकार हूं पड़... Read more

मुक्तक

गमों की महफिल में केवल हम झिलमिल तारे है इक हमें छोड़ कर यहां सब मुहब्बत के मारे है इनके हाल ऐ दिल का शायद मुझे अंदाजा नहीं ... Read more

मुक्तक

जरूरत एक छोटी सी जीने को सब क्यों होती है ? ? ? ? ? ? ? हरपल उनके दीदार की ख्वाहिश अब क्यों होती है ? ? ? ? ? ? ? व... Read more

मुक्तक

फीकी-फीकी है जिंदगी जीने में अब स्वाद कहां है दिल तिजोरी ना रहे मुहब्बत अब जायदाद कहां है हाल ऐ दिल समझाने में दिल हलाल ही होते ... Read more

बताओ तो !

दिल को कोई ठोकर लगी,,,,,,,,, बताओ तो ! ???????? इश्क था या दिल की ठगी,,,,,,,,, बताओ तो ! ???????? तेरे दिल से जो निकले जाना ते... Read more

लबों की तिस्नगी

धड़कनों पर मर्जीयां किसी और की, ये कैसा नसीब है ???????? मुद्दतों बाद फिर जी उठे जो आज वो रूह के करीब है ???????? आज वो हमसे ह... Read more

मेरा गम ना समझ सके

लाख सहे दीवाने ने मगर, वो सितम ना समझ सके हर जख्म का इलाज थे जो, वो मरहम ना समझ सके मेरी मजबूरियों को बेवफाई तो जल्द ही मान बै... Read more

आखिरी मुलाकात

सीने से लिपटकर रोयी थी कोई अबतक बो रात याद है जाते जाते जो कह गयी अबतक हर बात याद है वो चली गयी कह कर भुला देना हमें हम ... Read more

क्यों दर्द अकेले ढोते हैं

मदहोशी में बिखरकर चांदनी खिलती है जब कोई रोशनी शम्मा से जलती है जब हकीकत सामने चलती है जब नियती से शामें ढलती है जब जान किसी... Read more

मुक्तक

????????? तड़प ऐ इश्क की दिल से कही नहीं जाती चंद कदमों की दूरी भी अब सही नहीं जाती इक तलब महबूब की और जमाने की बंदिशें ब... Read more

मुक्तक

इश्क रोकर सींचे तो क्या, मतलबी दुनिया बंजर है मासूमियत चेहरे पे तो क्या, नफरतों का ही मंजर है यहां बस दिल के बदले में दर्द ऐ... Read more

क्यों इश्क हुआ हमको

जो भूल चुके हमको हम याद करें उनको क्या सोच रहा ये दिल क्यों तड़पाये खुदको ????????? क्यों इश्क में ये जलता क्यों सूरज ... Read more

मुलाकात ऐसी हो

खिली चांदनी हो खुला आसमां हो मिले हमतुम ऐसे की बेसुध जहां हो ?????????? ?????????? रंगी फिजायें और चंचल हवायें हमे देखकर छुपके... Read more

मुक्तक

?????????? मुहब्बत की राहों से गुजर कर देखा है गुलाब की हर कली को नजर भर देखा है रंगत ही नहीं खुशबुओं को भी चुरा लेते है चा... Read more

कुछ मुक्तक - तेरे लिये

१- ????????? सोचूं तेरे लिये ऐसे भी सवेरे हों आंखों में तेरी सपने कुछ मेरे हों लाखों सजदे हजारों मन्नतें तेरे लिये हकीकत ना सह... Read more

हम तड़पते रहे

यूँ चुराके नजर वो गये जब मुकर वो तो हंसते रहे, हम तड़पते रहे ????????? आंखें ये नम हुई सांसे भी कम हुई पर तेरी याद में ह... Read more

भारतीय फौज

???????????????????? आम नहीं इनकी जिंदगी, मौका है हक अता करने का किस्मत वालों को मिलता, मौका ये वतन पे मिटने का ?????????? ?... Read more

बेबस दिवाने

????????? मुहब्बत ही तो जालिम है कहे किस से बता यारा ????????? हमारे इश्क का दुश्मन बना बैठा है जग सारा ????????? तुम्हा... Read more

मोदी एक आंधी है

राहुल गांधी सोनिया गांधी से :- मोदी एक आंधी है कि बच पाना ही मुस्किल है कांग्रेस मुक्त नाकर छोड़े अकेला ही तो काबिल है प्... Read more

? मुहब्बत से पहले ?

रंज ओ गम थे ?????फिरभी कम थे अकेले तन्हा ?????जब अधूरे हम थे ??????❤❣?? बस एक डर था ????? दिल बेअसर था क्यों क... Read more

?होली रंग मुबारक हो यही तो प्यार लाता है ?

?होली रंग मुबारक हो यही तो प्यार लाता है ? ?हर रंग निखरता है ? ?रिश्तों में बिखरता है ? ?सारी दूरी मिट जाती है ? ☘खुशियां सा... Read more

हुस्न की बिजलियाँ

गिराकर वर्क हुस्न की वो यूँ ही निकल गई भरी वज्म आशिकों की उन पर मचल गई कई घायल कई मदहोश कई पागल हो गये जिन जिन पर उनकी एक ... Read more

आरक्षण

जबतक आरक्षण भारी है,छुआछूत भी जारी है जागो नींद से मित्रों बगावत की ये बारी है किस हक को वो खोज रहे, कबतक कुत्तों की मौज रहे ... Read more

मुहब्बत कहां है

हर जुबां पे जिसके चर्चे वो शोहबत कहां है एक बात बता हमको की ये मुहब्बत कहां है हर दर्द में हर प्यास में हर अपने में हर खास म... Read more

भारत ही हर ओर है

शोर है हां शोर है हर जगह यह शोर है हर दिशा हर जगह हर मुल्क में हर ओर है सिर्फ भारत सिर्फ भारत भारत का ही जोर है बाग ऐ ... Read more

यादों का सफर

सजदे तेरे प्यार के मैंने जो थे किये उनको दुहरा रहा नैना अश्क लिये बस एक तेरी आरज़ू इस दिल में रही तू मिल जा तो जमाने के दर्द... Read more

दर्द बेटियों का

हर्षित था परिवार सबको था किसी का इंतजार कोई बेटे कोई भतीजे तो कोई पोते को था बेकरार कुछ पल में बो आई बारी घरभर में गूंजी किल... Read more

दो पल की मौत

एक ठोकर सी लगी दिल में सांसें ही थम गईं । झटका था इस कदर की रूह तक सहम गई । चारों ओर सन्नाटा था हर ओर अंधेरा था । ये कहां प... Read more

मुहब्बत की बारिश

जिस बारिश के लिये हम कब से तरस रहे हैं । मुहब्बत के वो बादल हर दिल पर बरस रहे हैं । घूम फिर कर हमारी नजरें जिन पर अटक रहीं हैं... Read more

हम लव कुश की सन्तान है

हां जी हमे़ं अभीमान हैं । गर्व से कहते हैं हम लव कुश की सन्तान हैं । बहुतायत में होकर भी एकता जिनकी पहचान है । टुकड़ों को भ... Read more

कहीं इश्क ना हो जाये

नैनो से कह दो कहीं अश्क ना हो जाये । गलती से परदेशी से इश्क ना हो जाये । हमारी एक झलक की खातिर तू बेकरार ना हो जाये । रखना ... Read more

ए. टी. एम. को राम किया

यूपी जीतने की खातिर तूने ये कैसा काम किया । अच्छे दिन का वादा करके गरीबों का चैन हराम किया । तेरे झूठे जुमलों में आकर हमने था ... Read more

धीरे-धीरे तुझको भी प्यार हो जायेगा

देखकर मुझको तेरा दिल खो जायेगा । धीरे-धीरे तुझको भी प्यार हो जायेगा । तेरी रातों में भी मैं ख्वाबों में भी आऊंगा । ना नींद ... Read more