Geetesh Dubey

Joined January 2017

Copy link to share

ह़ज़ल

😁हज़ल😁 *********** जिधर देखो उधर सूरत नई है करामाती गजब की ये सदी है । नही अब वास्ता पहले के जैसा जिसे देखो उसे अपनी पड़ी है ... Read more

हास्य रचना

मुंबइया स्टाईल मे एक रचना का प्रयास *********** हुल्लड़ वुल्लड़ धूम धड़ाका मस्ती वस्ती करने क... Read more

दोहे

सावन के दोहे ************ बूंद बूंद कर झर रहे, काले बादल आज सबके मन को भा रहा, सावन का अंदाज । कुहू कुहू कोयल कहे, पिहू पपीहा ... Read more

घनाछरी

मनहरण घनाक्षरी ************** चाँद कहे चाँदनी से घूमने चलें कहीं तो चाँदनी कहे कि आप पूर्णिमा को आइये । आइये जो पूर्णिमा को ... Read more

कविता/ गीत

ये ज़िंदगी का सार है ***************** कहो भी कुछ कभी कभी जो बात है दबी दबी ये मन से मन का मेल है बहुत हसीन खेल है ये प्यार ह... Read more

देशभक्ति

भारत अपना देश, हमें प्राणों से प्यारा इसकी अद्भुत रीत, जगत मे सबसे न्यारा । रखिये इसका मान, सदा सब भारतवासी गंगा जमुना और यहाँ ... Read more

2 छोटी कविताएँ

रात शबनमी धूप गुनगुनी मौसम लेकर आया है । रंग बिरंगे फूल खिल रहे अब उपवन मुस्काया है । ********** ठंडक का एहसास बदन मे निकले शा... Read more

दीपावली / नववर्ष कविताएँ

दीपावली 2017 *************** कुछ दीप जला लेना, इस बार दीवाली मे मन उजियारा करना, इस बार दीवाली मे ! 💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥💥 कुछ लम्हे दे ज... Read more

गीत. यकीं जिस पर भी करता हूँ

गीत **** यकीं जिस पर भी करता हूं वही झूठा निकलता है न जाने रंग कितने ही यहाँ इंसां बदलता है । कहीं पर प्यार होता है, कहीं व्या... Read more

गीत. बेटियाँ

गीत **** बेटी नही तो ये जहान क्या जहान है रॊनक कहाँ है फिर तो महज वो मशान है । माँ बाप के अब्सार की दरकार बेटियाँ बेटी है तो खु... Read more

हास्य रचना पहले धनिया लाओ तुम

?पहले धनिया लाओ तुम ? चूं चपाट मत करना हमसे बातें नही बनाओ तुम आॅफिस वाॅफिस बाद मे जाना पहले धनिया लाओ तुम । अपने घर मे काम... Read more

बालगीत. चलो आज बच्चे बन जाये

आँचल मे माँ के छिप जाएँ चलो आज बच्चे बन जाएँ दॊड़े कूदें धूम मचाएँ सजे हुये घर को फैलाए्ँ चपत पड़े जब एक गाल पर कान पकड़ खड़े... Read more

गीत.जीतेंगे हम जीवन रण मे

जीतेंगे हम जीवन रण मे ?????? संशय कोई नही है मन मे जीतेंगे हम जीवन रण मे । चाहे कितनी भी बाधायें साथ हमारे हैं आशाये माटी ... Read more

( लघुकथा) (१ )ग्रहदशा (2) गॊरैया

(1) ( लघुकथा ). ग्रहदशा ******** अभी अभी ज्योतिषाचार्य शास्त्री जी घर लॊटकर आये थे ।लोगों का भविष्य बताना... Read more

(नज़्म ) हमसफर न रहा

हम सफर मे रहे हमसफर न रहा चाहतों का यहाँ कुछ असर न रहा । यूँ ही उड़ते रहे फड़फड़ाते हुये बैठना जिस पे चाहा वह शज़र न रहा । ... Read more

(ीकहानी ) बदलते परिदृश्य

दृश्यावली ******** 1> शरद की बाइक स्टार्ट नही हो पा रही थी, ऒर आँफिस के लिये देर हो रही थी तो बाइक छोडकर निकल पडा। घर से निकलक... Read more

शेर

[8/2 00:06] Geetesh dubey " GEET ": ??चंद शेर ?? निकले थे घर से, तेरी जुस्तजू को हम तेरे पैकर मे सिमटकर खुद ही गुम हो बैठे । ... Read more

( हाइकु) सफर

हाइकू ****** मेरा सफर किस तरह कटा नही खबर चलता रहा मदहोशियों संग मै बेखबर साथ अपने काफिला कोई नही सूनी डगर दिखन... Read more

( कविता ) आनंद

थोडी हो सुगंध मंद बहके जो अंग अंग प्यार का चढ़ा हो रंग यही तो आनंद है । होय परिवार संग यार दोस्त चार चंद जेब बस न हो तंग यह... Read more

( कविता ) रोटियाँ

रोटियाँ हाँ रोटियाँ माँ के हाथों से बनीं वो खिलखिलाती रोटियाँ । हाथ माँ के गढ़ चली फिर तवे पर चढ़ चली तृप्ति का बन के निवाला ... Read more

घनाक्षरी

घनाक्षरी 8 8 8 7 ************** मेरे प्यारे प्यारे कान्हा सब के दुलारे कान्हा माखन सजा है रखा अाके उसे खाइये । ग्वाल बाल साथ... Read more

( कघुकथा ) जिंदगी का सफर

आज सुबह से ही महेश बाबू किसी उधेड़बुन मे डूबे हुये थे... एक डायरी पेन लेकर बरामदे मे रखी कुर्सी पर जा बैठे.. उम्र उनकी पचपन छप्प... Read more

( कविता ) बचपन की यादें

वो बचपन की यादें, बड़ी ही सुहानी बहुत याद आते वो किस्से कहानी । वो गुल्ली, वो डंडा, वो कंचों का खेला मुहल्ले मे लगता था, बच्चों... Read more

(कविता) यादों की पोटल

सुबह सुबह एक ख्वाब था आया देकर कुछ संदेश गया कुछ खट्टी सी कुछ मीठी सी यादों की पोटल छोड़ गया ।। आँख खुली तो खोली पोटल कितने ... Read more

( लघुकथा ) मुआवजा

(लघुकथा) मुआवजा ****************** कल एक तूफान आया था...जमकर आँधी चली थी साथ मे ओलावृष्टि का भी कहर था… खेतों मे खड़ी फसलें बिछ ग... Read more

(लघुकथा) फैसला

फैसला ( लघुकथा ) ****** आज वह बेहद खुश दिखाई दिया, बहुत से देवस्थानों, दरगाहों मे जाकर माथा टेका है, मिठाइयाँ बाँटी है उसने.... ... Read more

(गीत) चाह तेरी मेरी आँखों मे

चाह तेरी, मेरी आँखों मे देख सको तो पढ लेना साँस मेरी खुद की धड़कन मे जान सको तो सुन लेना ॥ अपने मन मंदिर मे मेरी मूरत को तुम ... Read more

राजा बेटा ( कहानी )

राजा बेटा ********* आज शायद पहली बार शर्मा जी व उनकी धर्मपत्नी सावित्री देवी को अपने मंझले बेटे राजकुमार के होने पर इतना गर्व एव... Read more

प्रेम ( कविता )

प्रेम ***** इक भँवरा जो प्रतिदिन ही उपवन मे जाया करता था रंब बिरंगे फूलों पर मोहित वह मंडराया करता था । फूलों को भी भ्ँवरे क... Read more

बालगीत. हम बच्चे....

सुप्रभात, नमस्कार ! जय बाबा.... बाल गीत ******** हम बच्चे, मन के सच्चे लो प्यार जताने आये हैं घर आँगन के उपवन में कुछ फूल ख... Read more

गीत भटक रहा बंजारा मन

गीत **** कभी इधर तो कभी उधर कभी जमीं पे कभी गगन देखो इत उत भागा फिरता भटक रहा बंजारा मन । जाने क्या क्या सोच रहा अपनापन बे... Read more

(लघुकथा ) केयर

(लघुकथा ) केयर ***** रघ्घू ओ रघ्घू की आवाज लगाते हुए मुकुंदीलाल ने घर के भीतर प्रवेश किया । अगले पल ही आया मालिक कहते हुए रघ्घ... Read more