नाम- दुष्यंत कुमार पटेल
उपनाम- चित्रांश
शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए.
एम.ए हिंदी साहित्य,
आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए
Pursuing – बी.ए. , एम.सी.ए.
लेखन – कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि
My personal blog visit
This link hindisahityalok.blogspot.com

Copy link to share

राधे-श्यामी छन्द

*राधे-श्यामी छन्द*/ *मत्त सवैया छंद* उनकी पायल की मधु रुनझुन, शाम-सहर पास बुलाती है l वो सपनो में आ कर मेरे, आंखों की नींद... Read more

प्रिया बावरी

*कविता* हो राधा मीरा की जैसी,तुम कान्हा की दीवानी l है चल चितवन है चन्द्रवदन, तुम अलबेली मस्तानी ll हो तितली सी पग है नलिनी,हो ... Read more

लिख नई इबारत

*गीत* *लिख नई इबारत छू ले अम्बर को* कैद न करके रख अपने सपनों को l अन्तर्मन की खिड़की खुला छोड़ दो ll गर कदम बढाना मंज़िल हैं ... Read more

आरजूं दिल कि

तरही गज़ल 2122 1212 22 फैसला है यहीं दीवाने का l शहर से गाँव लौट आने का ll सामने है चुनाव फ़िर कोई l *बख्त जागा गरीबखाने क... Read more

हर कोई बनना चाहे उसके प्रियतम

*हर कोई बनना चाहे उसके प्रियतम* l उसके तो चरणकमल है,चन्द्रवदन है l और नव्य मधु बसंत सा यौवन है ll सावन कि घटा सा काजल, कमलनयन ह... Read more

हमराही परी मिलेगी

*गीत* मेरे दिल की गलियों में कब ,चाहत की नदी बहेगी l जाने कब किस राहगुजर में,हमराही परी मिलेगी ll दिल अम्बर है गुमसुम गुमसुम... Read more

खुदा हमें क्यों मिलाया

तरही गज़ल 1212 / 1122/ 1212 / 22 यूँ मुस्कुरा के ग़में दिल अज़ाब दे जाओं l वो जाने वाले लबों का शराब दे जाओं ll हयात में क्या... Read more

नटखट बचपन

गौरैयाँ की मधुर चहक सुन, हम रोज सुबह उठ जाते थे l पगडंडी राहों पर चलकर, हम नदी नहाने जाते थे ll चं... Read more

कोई तितली नहीं आती

तरही गज़ल 1222 1222 122 तेरे जाने का शिकवा क्यूँ करें हम l सितम खुद पर ढहाया क्यूँ करें हम ll जमीं पर चांद हमको मिल गया है l... Read more

दिन लड़कपन के न आते है

तरही गज़ल 2122 2122 2122 212 सुन खुदाया इल्तिज़ा को क्या पता कुछ भी नहीं l ज़िंदगी मेरी परेशाँ आसरा कुछ भी नहीं ll दिन लड़कप... Read more

वतन के दिलवाले (कुकुभ छन्द)

अमन नहीं केसर घाटी में,आतंक जड़ से मिटाओं l कश्मीरी पत्थरबाजो को,कोई तो सबक सिखाओं ll भारत के इस पुण्य जमीं पर,दुश्मन को पनाह ना द... Read more

आसमाँ का चाँद

ग़ज़ल बह्र 2122 2122 2122 तुम सलोनी शाम जीवन की फज़ा हो l इश्क तेरा दिलकशी हो दिलकुशा हो ll इस हरीमें इश्क का तुम तो खुदा... Read more

छोटा सा बालक

गरीबी का साया खुद से अलग करने के लिए नहीं बल्कि माँ की ईलाज और रोटी के लिए दोपहरी धूप में छोटा सा बालक गुब्बारे बेचने ... Read more

तुम्हारें आगमन में

तुम्हारें आगमन में फूलों की बरसात हो जायें l तू मुस्कुरायें जब खजा में बहार आ जायें ll मेरे मन के सागर में इश्क की मौजे उठे , तेर... Read more

खो गई आशिकी

ग़ज़ल 212 212 212 212 मैं इधर से उधर भागती रह गई l कश्मकश ज़िंदगी नाचती रह गई ll खो गई आशिकी कौन से मोड़ में l नज़र म... Read more

ज़िंदगी जंग है

तरही गजल 2122 1212 22 ज़िंदगी जंग है सँवरता हूँ l मुश्किलों पे भी मैं निखरता हूँ ll तू वफ़ा कर या तो फ़ना कर दे l आज दिल त... Read more

हम अनाथ

हम अनाथ, इस दुनिया में हमारा न घर न परिवार कोई सुनता नहीं ? भगवान पत्थर है और इंसान भी ये दुनिया आज भी हमारे लिये विरान और... Read more

मुलाकात बाकी है// *गीत*

प्यार का बादल छाया है बरसात बाकी है कर ली है नैनों ने इशारें मुलाकात बाकी है हम उनकों शामों-सहर याद करने लगे है उसके दिल आशिया... Read more

बरसात की ऋतु

सावन आया बरसे छम-छम कर बदरा धरती ओढी मखमल हरित चुनरिया मिट्टी से सौंधी-सौंधी खुश्बू आई गाँव में हरियाली मनभावन नज़रिया नव जी... Read more

जब वो चलती है

देख उसे सूरज छुप जाता है, सावन घिर-घिर आता है, राहों के फूल हँसते है, बसंती पवन ठहर जाती है l वो जब भीगी-भीगी जुल्फें झटकती है, त... Read more

तुम प्रीत की छाँव हो

तुम हँसी सौगात हो, फूलों की बरसात हो l तुम दिन रात हो, मेरी धड़कन हयात हो l तुम मेरे अरमान हो, दिल का मेहमान हो l तुम मेरी पहचान ... Read more

परिणय बंधन

विवाह अक्षत पवित्र बंधन है ,मन आत्मा ह्रदय का मिलन है l एक पथ दो राही का संगम,विवाह जन्मों का बंधन है l परिणय बंधन मंगल पद हो, जीव... Read more

*तुम चन्द्रमुखी*

चन्द्रसुशोभित हे प्रिय तेरा मुख मन्ड़ल मनवां कुन्दन मधुबन काया है संदल है मृगलोचन अलके रेशम श्यामल सी कोयल सी मीठी बातें औ' मलया... Read more

*नारी राष्ट्रशक्ति*

नारी राष्ट्रशक्ति किरणमयी, गरिमा,संस्कृति,निधि औ' सुचिता l संस्कार शालीन है गहना, तुम करुणा ममता की सरिता ll तुम जग जननी जीवन-... Read more

"जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया "

यहाँ अजन्मी मर जाती है, क्यों माँ कि कोख पर बिटिया| देवी का अनूप रुप है, जग स्तंभ सृष्टि है बिटिया | संस्कार धरोहर आ... Read more

कुछ दोहे

(1) दर्शन करने श्याम का,चल वृन्दावन धाम ! जग का पालन हार वो , जप ले राधे नाम ! (2) मनमोहन की बाँसुरी, लेती राधा नाम ! ... Read more

हँसी आज दिल पे /ग़ज़ल

बहर 122 / 122 / 122 / 122 हँसी आज दिल पे लुटाने चला हूँ उसे राज दिल का बताने चला हूँ फिदा हो गयें यूं उसे देखकर हम मैं अर... Read more

बेटियाँ

बेटियाँ ही तो अनमोल दौलत बेटियाँ है मधुबाला, मधुकली चहक-महक रौनक है आँगन में इस जग में बेटियाँ है निराली जग की चेतना है ,क... Read more

बोलो हरे कृष्णा

बोलो हरे कृष्णा, बोलो हरे मुरारी बोलो हरे कृष्णा, बोलो कुंज बिहारी तेरा रोम-रोम पुलकित हो जायेगा तेरे मन की पीड़ा मिट जायेगा... Read more

बरसे श्याम बदरिया

चम-चम चमके गड़-गड़ गरजे बिजुरिया सावन आया बरसे श्याम बदरिया मिट्टी से सोंधी-सोंधी खुश्बू आई धरती ओढी मखमल हरित चुनरिया खुशह... Read more

जुदा होके तुमसे //गीत//

जुदा हो के तुमसे तन्हा जी न पायेंगे तेरे ही दिल को सनम हम घर बनायेंगे तुमसे ही हर खुशी है तुमसे है ज़िंदगी वो यारा तेरी चाहत ... Read more

मेरी प्यारी बहन

फूलों सी मुस्कान है,विमल हिया है तू श्वेत शीतल तू चंचल रिया है परी जैसी मेरी प्यारी बहन है ना बंदीश उसका मन खुला गगन है फू... Read more

होश में आओं उठो जागो

देश की हालातों पर कुछ पंक्तिया ! अच्छा लगे तो शेयर करे ! जहा भी देखा मैने सिने में खंजर चुभाने वाले मिले शैतान से डरकर हाँ में ह... Read more

"तुम कब आओगे" //ग़ज़ल//

बहर 2222 2222 222 हम रोतें बैठे है तेरी यादों में तड़प रहें है भीगी-भीगी रातों में तुम हुई हो जबसे ओझल नज़रो से देख तस... Read more

हिंद का अवतार है हिंदी

हिंद की पुकार है हिंदी हिंद का सिंगार है हिंदी हिंद की प्राण है हिंदी हिंद की शान है हिंदी हिंद की पहचान है हिंदी हिंदी क... Read more

कौन जिम्मेदार है ? //कविता

देश में व्यापत पग-पग में समस्याओं के लिए कौन जिम्मेदार है ? क्या वाकई में नज़र नहीं आ रही है ? हम जिम्मेदार है या हमारा स... Read more

हम कौन है ? //कविता

सवाल तो आज खुद से करना है हम कौन है ? क्या है ? और यहाँ किसलिए है ! शायद जवाब ढूँढने में कितना वक्त लगेगा खुद अनभिज्ञ ... Read more

समय ने कहाँ // कविता

इंसान ने समय से पूछा, कब ठहरोगे तुम ? समय ने कहाँ ! मैं अनंत हूँ, मैं परिवर्तनशील हूँ, अतीत से कल की... Read more

वो दिन लड़कपन के

प्रतिबिम्ब सा मन पटल में वो दिन लड़कपन के रमणीय है स्वर्निम है बीते बचपन के पल सावन के झूलें मनभावन खोया-खोया मन जादूई दुनि... Read more

मेहनत ही भाग्य विधाता है / कविता

कुछ कर दिखाने को ठानो तो सही, यहाँ मेहनत ही भाग्य विधाता है ! बेमतलब परेशान क्यों होता है, बीज बोता है वही फल पाता है ! मुश्... Read more

गाँव की है धानी सी धरा//गीत

गाँव की है धानी सी धरा अमिट यहाँ कुदरत की माया देख मन- मयूरा झूम उठा सावन श्याम घटा है छाया सुरमई मतबाली है शाम दुल्हन ... Read more

और कितनी निर्भया ?

निर्भया जिन्दा है भारत की आवाज़ बनके वो चिखती कह रही है , इन्साप चाहिए इन्साप चाहिए पर न्याय कब मिलेगी यहाँ तो कानून अंधा है ... Read more

चेहरा नूरानी बातें हैं रुहानी // गीत

तू है प्रितिका, तू है चाँदनी निशा चंचल मन,हिरनी चाल,निराली अदा चेहरा नूरानी बातें है रुहानी तुमसे मेरी दुनिया तुम हो ज़िन्दगान... Read more

ऐसी रचना हो

जिसे पढ़कर मन कुंदन हो, अटुट बंधन हो, सारा जीवन धन्य हो, ऐसी रचना हो …… जिसमें प्रेरणा, उत्साह, साहस, करुणा, प्रेम, धैर्य... Read more

? पहेली है ज़िंदगी? कविता

ये ज़िंदगी अविराम है ! बहती नदी, समय की घड़ी अनंत की ओर परिवर्तनशील परिवर्तन का नाम ज़िंदगी है... कभी सरस- सरल, कभी मीठापन, क... Read more

अपने ही करम से //गीतिका//

अपने ही करम से इंसान है तंग यहाँ जीवन खेल है,जीवन है जंग असलियत छिपा कर चलते है लोग किसे पता किसका ईमान हैं बदरंग चलते न... Read more

✍✍आया है बसंत मेला✍✍

कू-कू करती कोयल बगीचे में, फैला रही है बसंत की संदेशा भौरे भी कर रहे मधुर गुंजन मड़राने लगी है उपवन में तितलियाँ बेर आम में आ ग... Read more

??मुक्तक?? माँ का प्यार ही

??मुक्तक?? माँ का प्यार ही इस संसार का पहला प्यार है माँ से ही जुड़ी इस दुनिया के हर एक तार है कल्पना किसी चीज़ की संभव नहीं म... Read more

मैं तेरा चाँद हूँ ??गीत

मैं तेरा पतंग हूँ, तू मेरी डोर है मैं तेरा चाँद हूँ,तू मेरी चकोर है.. तेरे आने से पतझरों में भी मधुमास है तेरा-मेरा मिलन राधा... Read more

अतुल्य हमारा हिन्दुस्तां है //गीत

मिट्टी की खुश्बू रंग बिरंग आसमां है धरती का स्वर्ग अतुल्य हमारा हिन्दुस्तां है पावन करती धरा को कल-कल बहती गंगा है आज भी हमा... Read more